Cerca

Vatican News
मॉस्को के श्रीलंका दूतावास में फूल अर्पित करते हुए मॉस्को के श्रीलंका दूतावास में फूल अर्पित करते हुए  (ANSA)

श्रीलंका बम विस्फोट के उपरांत विश्व भर से एकात्मता के संदेश

श्रीलंका में पास्का पर्व के दिन तीन गिरजाघरों और होटलों में आत्मघाती बम विस्फोटों के उपरांत के सम्पूर्ण विश्व से एकात्मता सन्देश भेजे गये।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

कोलम्बो, सोमवार 22 अप्रैल 2019 (एशिया न्यूज) : 21 अप्रैल पास्का रविवार के दिन विभिन्न स्थानों पर आठ धमाकों में 290 लोगों की मौत हो गई है और लगभग 500 लोग घायल हैं। मृतकों में 27 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं। श्रीलंका सरकार और देशवासियों के प्रति विश्व भर से एकात्मता के संदेश भेजे गये।

इटली के राष्ट्रपति मत्तरेल्ला

इटली के राष्ट्रुति सरजो मत्तरेल्ला ने श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना को संदेश भेजकर अपना सामीप्य प्रकट किया। संदेश में उन्होंने लिखा, “मुझे श्रीलंका में हुए क्रूर हमले की घटना के बारे में जानकारी मिली जिसमें पास्का पर्व मनाने हेतु गिरजाघरों में जमा हुए बहुत से ख्रीस्तीय पीड़ित हैं। इस नाटकीय घड़ी में मैं सभी इटलीवासियों की तरफ से आपको और श्रीलंका के लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूँ। हम पीड़ितों के परिवारों के करीब हैं और बड़ी उम्मीद के साथ, हम घायलों के शीघ्र और पूर्ण स्वस्थ होने की कामना करते हैं। हम इस तरह के कृत्यों की निंदा करते हैं।”

संत एजीदियो समुदाय

संत एजीदियो समुदाय ने श्रीलंका के काथलिक गिरजाघरों और होटलों पर हुए बम विस्फोटों के प्रति अपने गहरे दुःखों को व्यक्त किया है, जो दर्जनों गंभीर मौतों का कारण बना है। इजीदियों समुदाय उन लोगों के लिए भी प्रार्थना कर रही है बचाव अभियान में कई घायलों की जान बचाने हेतु काम कर रहे हैं साथ ही उन लोगों की कड़ी निंदा करता है जो निर्दोष, असहाय और प्रार्थना करने वाले लोगों के खिलाफ हत्या की साजिश रचे हैं। यह एक अंधी हिंसा है जिसमें आतंक को बोना और एकता को कमजोर करना इसका एकमात्र उद्देश्य है। इस देश में ख्रीस्तीय, मुसलमान और बौद्ध धर्म के लोग आपस में शांतिपूर्वक रहते हैं। ख्रीस्तियों का शांतिपूर्ण जीवन उन लोगों के लिए सबसे बड़ी प्रतिक्रिया है, जो नफरत और विभाजन का बीजारोपण करना चाहते हैं। हम सभी धर्मों के विश्वासियों से आपसी एकजुटता दिखाते हुए सामंजस्य और हर संभव शांति की कामना करते हैं।

हंगरी के धर्माध्यक्षीय सम्मेलन

हंगरी के धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष, गेयार के धर्माध्यक्ष अंद्रेस वेरेस ने एक बयान में लिखा, “पास्का पर्व के दिन श्रीलंका में हुए हमलों की खबर सुनकर हमें दुःख हुआ। हम दर्द के साथ देखते हैं कि पास्का पर्व आतंकवादी हमलों और ख्रीस्तियों के खिलाफ अत्याचार समाप्त नहीं हुआ है। हम जी उठे प्रभु मसीह में विश्वास करके पीड़ितों और उनके परिवार के लिए प्रार्थना करते हैं, ईश्वर उन्हें शांति का उपहार दें।”

भारत के प्रधानमंत्री

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बम धमाकों की निंदा करते हुए ट्वीट किया है, "श्रीलंका में भयानक धमाकों की कड़ी निंदा करता हूँ। इस तरह की बर्बरता कोई जगह नहीं है। भारत श्रीलंका के लोगों के साथ है। मेरी संवेदनाएं पीड़ित परिवारों के साथ हैं और घायलों के लिए प्रार्थना करता हूँ।"

श्रीलंका की सरकार और पीड़ितों के प्रियजनों के प्रति संवेदना प्रकट करने वालों में, दुःख सह रही कलीसियाओं को मदद करने वाले संगठन के अध्यक्ष, संयुक्त राज्य अमेरिका के धर्माध्यक्षीय सममेलन के अध्यक्ष, पवित्र भूमि-येरुसलेम की कथलिक कलीसिया के सलाहकार, कलीसियाओं के विश्व परिषद के अध्यक्ष हैं।

22 April 2019, 15:50