खोज

Vatican News
कार्डिनल लियोपोल्ड ब्रेनस कार्डिनल लियोपोल्ड ब्रेनस   (AFP or licensors)

प्रदर्शनकारियों के खिलाफ हिंसा की कार्डिनल ने की निंदा

कार्डिनल लियोपोल्ड ब्रेनस निकारागुआ में सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ हिंसा के प्रकोप की निंदा की, जो हाल ही में प्रदर्शनों की अनुमति देने के एक समझौते के बावजूद हुई।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

निकारागुआ, मंगलवार 2 अप्रैल 2019 (वाटिकन न्यूज) : निकारागुआ के राष्ट्रपति डानियल ओर्टेगा के आधिकारिक वार्ताकारों ने शुक्रवार 29 मार्च को आश्वासन दिया था कि लोगों को प्रदर्शन करने की अनुमति मिलेगी और हिरासत में लिए गए प्रदर्शनकारियों को छोड़ दिया जाएगा। उनका यह वादा सिर्फ 24 घंटे चला।

केवल एक दिन बाद, शनिवार को, निकारागुआन दंगा पुलिस ने कथित रूप से सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर गोलीबारी की, जिससे कम से कम तीन लोग घायल हो गए।

प्रदर्शन

नेशनल व्हाइट एंड ब्लू यूनियन ने विरोध प्रदर्शन किया। संघ के एक नेता हैदी कैस्टिलो ने कहा कि पुलिस ने शनिवार को मानागुआ के एक शॉपिंग सेंटर में 10 शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया और कम से कम तीन अन्य लोगों पर गोलीबारी की। लियोन शहर में एक और प्रदर्शनकारी को गिरफ्तार किया गया।

पुलिस रिपोर्टों में कहा गया है कि "हिंसक समूहों" ने सार्वजनिक व्यवस्था को परेशान किया, लेकिन गिरफ्तार किए गए लोगों की संख्या की रिपोर्ट नहीं की।

'हिंसा का चक्रव्यूह'

देश के कई काथलिक अधिकारियों ने गिरफ़्तारी की निंदा की।

मानागुआ के महाधर्माध्यक्ष, कार्डिनल लियोपोल्ड ब्रेनस ने ट्वीट पर शनिवार की हिंसा की निंदा की, और निकारागुआवासियों से शांति के लिए प्रार्थना करने को कहा।

मानागुआ के सहायक धर्माध्यक्ष सिल्वियो बैज़ ने रविवारीय मिस्सा के बाद कहा कि राष्ट्र अभी भी "हिंसा के चक्रव्यूह में है।" उन्होंने कहा, "यह अपमानजनक है कि निकारागुआ पुलिस एक बार फिर से शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे नागरिकों पर हिंसात्मक हमला, गिरफ्तारी और गोलीबारी कर रही है।"

बिशप बेज़ ने काथलिकों को सलाह दी कि वे "अपने हाथों में न्याय लेने के प्रलोभन में न पड़ें"। प्रदर्शन में सैकड़ों लोग मारे गए और जेल गए।

निकारागुआ के विरोध दलों का दावा है कि राजनीतिक कारणों से 640 से अधिक लोगों को जेल में रखा गया है। अधिकांश लोग विरोध प्रदर्शनों में जेल गए हैं जो पिछले साल अप्रैल में राष्ट्रपति डैनियल ओर्टेगा की सरकार के खिलाफ किये गए थे।

अंतर-अमेरिकी मानवाधिकार आयोग के अनुसार, 325 लोगों की मौत हो गई है और निकारागुआ से 50,000 से अधिक लोग देश से बाहर चले गए हैं।

02 April 2019, 17:04