Cerca

Vatican News
बेरा में खाना के लिए लाइन में खड़े लोग बेरा में खाना के लिए लाइन में खड़े लोग 

मोजाम्बिक चक्रवात: आपातकाल जारी है

सीमा रहित चिकित्सकों ने पिछले महीने के विनाशकारी चक्रवात के बाद मोज़ाम्बिक की वर्तमान स्थिति की जानकारी दी, जिसमें 598 लोग मारे गए और डेढ़ मिलियन से अधिक लोगों को आपातकालीन सहायता की आवश्यकता है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

मोजाम्बिक, बुधवार 10 अप्रैल 2019 (वेटिकन न्यूज़) : 14 मार्च को अफ्रीका के दक्षिण-पूर्वी तट पर चक्रवात इडाई से मोजाम्बिक में जान-माल की तबाही हुई। बेरा शहर का 90% हिस्सा नष्ट हो गया। लोग, घर और आजीविका के साधन सभी बाढ़ के पानी में बह गए। बची हुई चीजें पानी में सड़ रही हैं जिससे हैजा फैल रहा है और इससे निपटने की जरूरत है।

हैजा महामारी

सीमा रहित चिकित्सकों (एमएसएफ) का अंतरराष्ट्रीय गैर-सरकारी संगठन जो दुनिया भर के संघर्ष क्षेत्रों और आपदा क्षेत्रों में आपातकालीन सहायता प्रदान करता है, मंगलवार को जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में, संगठन ने देश भर में हैजा के करीब 1,400 मामलों की पुष्टि की, जिसमें अकेले बेरा में 1,000 से अधिक मामले हैं। एमएसएफ अन्य पानी से फैलने वाले रोगों के साथ-साथ मलेरिया, त्वचा संक्रमण और श्वसन रोगों में वृद्धि की भी चेतावनी दी है।

हैजा महामारी को समाहित करने के लिए एमएसएफ, मोजाम्बिक स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ काम कर रहा है, स्थानीय उपचार केंद्रों की स्थापना कर रहा है, साथ ही एक बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान चलाने में मदद कर रहा है। स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे और चिकित्सा आपूर्ति के व्यापक नुकसान के कारण स्वास्थ्य प्रणाली के कामकाज को बहाल करने के लिए काफी मशक्त करनी पड़ रही है।

खाद्य संकट

चक्रवात इडाई दक्षिणी अफ्रीका को प्रभावित करने के लिए रिकॉर्ड पर सबसे खराब उष्णकटिबंधीय चक्रवातों में से एक था। इडाई चक्रवात में मूसलाधार वर्षा से डेढ़ लाख एकड़ खेतों में पानी भर गया और काटने के लिए तैयार फसलों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया। मोजाम्बिक में अगली बड़ी समस्या बाकी बचे लोगों को अगली फसल तैयार होने तक खाद्य सामग्री बहाल करने की होगी।

10 April 2019, 16:36