खोज

Vatican News
नेगोम्बो में आम कब्रों पर फूल चढ़ाता एक पुरोहित नेगोम्बो में आम कब्रों पर फूल चढ़ाता एक पुरोहित 

सरकारी अधिकारियों को विफलता के लिए निकाल दिया जाना चाहिए

श्रीलंका में कोलोम्बो के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल मैलकम रंजित ने रोष व्यक्त करते हुए कहा है कि ईस्टर रविवार से पूर्व आतंकवादी आक्रमणों की चेतावनी पाने के बाद भी निष्क्रिय रहने वाले सरकारी अधिकारियों को अपदस्थ कर दिया जाना चाहिये।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

कोलोम्बो, शुक्रवार, 26 अप्रैल 2019 (रेई, वाटिकन रेडियो): श्रीलंका में कोलोम्बो के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल मैलकम रंजित ने रोष व्यक्त करते हुए कहा है कि ईस्टर रविवार से पूर्व आतंकवादी आक्रमणों की चेतावनी पाने के बाद भी निष्क्रिय रहने वाले सरकारी अधिकारियों को अपदस्थ कर दिया जाना चाहिये।   

अधिकारियों का व्यवहार अस्वीकार्य

21 अप्रैल के बम धमाकों की विश्वसनीय चेतावनियाँ पाने के बावजूद सरकारी अधिकारियों द्वारा कोई कदम नहीं उठाया गया, प्रश्न के प्रत्युत्तर में कार्डिनल रंजित ने कहा, "यह सरकारी उच्चाधिकारियों की ओर से किया गया बिल्कुल अस्वीकार्य व्यवहार है, जिसमें मंत्रालय के कुछ अधिकारी भी शामिल हैं"।

कार्डिनल रंजित ने कहा, "ऐसे अधिकारियों को उनके पदों से हटा दिया जाना चाहिए और उन व्यक्तियों को इन पदों पर रखा जाना चाहिये जो दूसरों की जरूरतों के लिए और लोगों के लिए मानवीय भावना रखते हों।"

रिपोर्टों के अनुसार, भारतीय सरकार एवं अन्य गुप्तचर सेवाओं की ओर से श्री लंका को चेतावनियाँ मिली थीं जिनमें प्रत्यक्ष रूप से कहा गया था कि कुछेक गिरजाघरों पर इस्लामिक आतंकवादी हमले हो सकते थे। श्रीलंका की सरकार ने अब इन रिपोर्टों की जाँच का प्रण किया है।

रेडियो कनाडा से

रेडियो कनाडा से बातचीत में उन्होंने कहा कि यदि उन्हें ईस्टर रविवार से पहले हमलों की थोड़ी भी आशंका होती तो वे रविवारीय ख्रीस्तयाग समारोहों को रद्द कर देते, "क्योंकि, मेरे लिए, सबसे महत्वपूर्ण बात मानव जीवन है। मनुष्य ही हमारा खजाना हैं। मैं पुण्य सप्ताह के धर्मविधिक समारोहों को भी रद्द कर देता।"

हजारों की संख्या में काथलिक विश्वासी ईस्टर रविवार के ख्रीस्तयाग के लिये कोलंबो के सेंट एंथोनी गिरजाघर और नेगोमबो के सेंट सेबेस्टियन काथलिक गिरजाघर में एकत्र हुए थे। दोनों ही गिरजाघरों पर ईस्टर के दिन सुबह 8:45 बजे बमबारी की गई थी। साथ ही श्रीलंका के पूर्वी तट पर बाटीकोलोवा स्थित एवेन्जेलिकल चर्च में तथा देश के तीन होटलों में भी धमाके हुए जिनमें लगभग 300 लोग मारे गये। आईएसआईएस इस्लामिक आतंकवादी समूह ने हमलों की ज़िम्मेदारी ली है।   

26 April 2019, 12:00