Cerca

Vatican News
मोजाम्बिक रेड क्रोस के सदस्य मोजाम्बिक रेड क्रोस के सदस्य  (ANSA)

मोजाम्बिक, जिम्बाब्वे और मलावी को न भूलें

यूनिसेफ ने अपील की है कि मलावी, मोजाम्बिक व जिम्बाब्वे में इडाई चक्रवात से बुरी तरह से प्रभावित लोगों की मदद हेतु आगे आयें।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

मोजाम्बिक, सोमवार, 15 अप्रैल 2019 (रेई) : मोजाम्बिक, जिम्बाब्वे और मलावी देशों में इडाई चक्रवात के एक महीने बाद भी स्थिति गंभीर बना हुई है। यूनिसेफ के अनुसार, कम से कम 1.6 मिलियन बच्चों को तत्काल स्वास्थ्य देखभाल, पोषण, सुरक्षा, शिक्षा, पानी और स्वच्छता की आवश्यकता है। मोजाम्बिक में जरूरतें बहुत अधिक हैं, 1 मिलियन बच्चों को सहायता की तत्काल जरुरत है। मलावी में 443,000 से अधिक और जिम्बाब्वे में 130,000 बच्चो को सहायता की जरूरत है।

चक्रवात के बाद मोजाम्बिक हैजे के 4,600 मामलों की पुष्टि की, जिसमें अकेले बेरा में 1,000 से अधिक मामले हैं। पानी से फैलने वाले रोगों के साथ-साथ मलेरिया के 7,500 मामला दर्ज कर चुका है। त्वचा संक्रमण और श्वसन रोगों में वृद्धि की भी चेतावनी दी गई है।

विदित हो कि चक्रवाती तूफान इडाई 170 किलोमीटर की रफ़तार से बंदरगाह शहर बेइरा से टकराई थी। इस तूफान में यह शहर करीब 90 प्रतिशत बर्बाद हो गया। इसके बाद इडाई जिम्बावे और मलावी में प्रवेश कर वहाँ भी जान-माल की भारी क्षति पहुँचाई थी। जिम्बावे में 259 और मलावी में 56 लोगों की मरने की पुष्टि हो चुकी है।

15 April 2019, 16:45