Cerca

Vatican News
यूरोप की भौतिकी प्रयोगशाला सीइआरएन में वैज्ञानिक टिम बर्नर्स ली यूरोप की भौतिकी प्रयोगशाला सीइआरएन में वैज्ञानिक टिम बर्नर्स ली   (AFP or licensors)

वर्ल्ड वाइड वेब का 30वाँ वर्षगांठः 12 मार्च

वर्ल्ड वाइड वेब ने 12 मार्च को अपना 30वां जन्मदिन मनाया, यह 30 वर्षों के परिवर्तन को आकलन करने का अवसर प्रदान किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

मेयरिन, बुधवार 13 मार्च 2019 (वाटिकन न्यूज) :  हर दिन लाखों लोग इंटरनेट पर सूचना, डिजिटल तस्वीरों, संगीत फ़ाइलों और वीडियो का उपयोग करने के लिए वर्ल्ड वाइड वेब का उपयोग करते हैं। जैसा कि हम जानते हैं, 30 साल पहले यह वेब, सिर्फ एक प्रस्ताव था।

12 मार्च 1989 को, ब्रिटिश वैज्ञानिक टिम बर्नर्स ली, जो यूरोप की भौतिकी प्रयोगशाला सीइआरएन में काम कर रहे थे, एक पिच के साथ अपने बॉस के पास गए और इस तरह वक्त वर्ल्ड वाइड वेब का जन्म हुआ।

1993 में यह सार्वजनिक हो गया और कंपनियों, सरकारों और लोगों द्वारा खुद अपनी वेबसाइट डिजाइन करने और सामग्री तक पहुँचने में दिलचस्पी का एक विस्फोट हुआ।

वाटिकन.वा

यहां तक ​​कि वाटिकन भी 30 मार्च 1997 को परमधर्मपीठ की वेबसाइट वाटिकन.वा, वाटिकन रेडियो के वेबपेज के साथ सार्वजनिक रूप से तेजी से चलना शुरु किया।  

फायदा और नुकसान

लेकिन वर्ल्ड वाइड वेब द्वारा प्रदान किए गए अवसरों के बावजूद, आविष्कारक सर टिम बर्नर्स ली को इस बात की चिंता बढ़ रही है कि इसका दुरुपयोग हो रहा है।

दुनिया में क्रांति लाने वाले इस संसाधन को चिह्नित करने के लिए सीइआरएन में उन्होंने "व्यक्तिगत डेटा के संशोधन" की आलोचना की और अधिक लोगों को ऑनलाइन प्राप्त करने के महत्व पर बल दिया।

भविष्य पर विचार

वर्ल्ड वाइड वेब के अपने 30वें जन्मदिन को चिह्नित करते हुए बर्नर्स ली ने इसके भविष्य पर विचार करते हुए कहा कि वे 'वेब के लिए एक अनुबंध' का निर्माण कर रहे हैं जिसके तहत स्पष्ट मानदंड, कानून और मानक स्थापित किए गए हैं जो इसे रेखांकित करते हैं। आविष्कारक भी अपने दीर्घकालिक संभावनाओं के बारे में आशावादी रहते हुए कहा, “यदि हम अब एक बेहतर वेब का निर्माण करना छोड़ देते हैं, तो वेब हमें विफल नहीं करेगा। हम वेब को विफल कर देंगे।”

13 March 2019, 15:34