खोज

Vatican News
दक्षिणी अफ्रीकी देशों के बच्चे दक्षिणी अफ्रीकी देशों के बच्चे  (AFP or licensors)

इदाई से 1.5 मिलियन बच्चे प्रभावित

दक्षिणी अफ्रीकी देशों में आये बाढ़ का दंश सबसे अधिक बच्चों को झेलना पड़ रहा है।

दिलीप संजय  एक्का-वाटिकन सिटी

अफ्रीका, बृहस्पतिवार, 28 मार्च 2019 (रेई) बिगत दो दशकों में आये भीषण बाढ़ इदाई के कारण दक्षिणी अफ्रीकी के देशों मोजांबिक, जिम्माब्वे और मलावी में करीबन 3 मिलियन लोगों को मानवीय जरूरत के साधनों की आवश्यकता है।

येनिसेफ ने अपने अपील में कहा है कि आने वाले नौ महीनों के दौरान बाढ़ से पीड़ित परिवारों और बच्चों के लिए मानवतावादी सहायता कार्यों हेतु करबीन 122 मिलियन डॉलर की आवश्यकता है।

आकड़ों के रुप में देखा जाये तो मोजांबिक को इदाई से सबसे अधिक दंश झेलना पड़ा है जिसमें करीब 1.85 मिलियन लोगों प्रभावित हुए हैं जिसमें बच्चों की संख्या ही केवल 1 मिलियन के करीब है। बीरा में पानी निकासी हेतु साधन नहीं होने कारण बाढ़ ने शहरी क्षेत्रों के बुनियादी ढांचे को गंभीर रुप से नुकसान पहुँचाया है। इसके पहले की लोग अपने खेतों की फलसों को जमा कर पाते बाढ़ ने सारी फसलों को बर्बाद कर दिया। इस तबाही में अनुमान लगाया जा रहा है कि मोजाम्बिक के वार्षिक कृषि उत्पादन का 50% तक नष्ट हो गया है।

मलावी में 8 लाख 69 हजार से अधिक लोग प्रभावित हुए, जिनमें 4 लाख 43 हजार बच्चे शामिल है, जिनमें विस्थापित की संख्या 85 हजार हैं।

वही जिम्बाब्वे में 2 लाख 70 हजार से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं, जिनमें आधे से अधिक बच्चे हैं।

यूनिसेफ के महानिदेशक हेनरिकेटा फोरे ने कहा, "तूफान इदाई की वजह से तबाही का व्यापक स्तर लगातार स्पष्ट होता जा रहा है, "लाखों बच्चों और परिवारों का जीवन दांव पर है, और हमें तत्काल सभी देशों में तेजी से प्रभावकारी सहायता और बचाव के कार्य करने की आवश्यकता है"।

लोगों की स्थिति के बारे में यूनिसेफ ने कहा कि वर्तमान स्थिति जहाँ स्थिर पानी, स्वच्छता की कमी, मतृ शरीरों का विघटन, अस्थायी शिविरों में भीड़-भाड़ के कारण लोगों में दस्त, मलेरिया और हैजा का प्रकोप आसानी से होने की संभावना है। ऐसी स्थिति का शिकार विशेषकर छोटे बच्चे हो रहे हैं। 

28 March 2019, 15:26