खोज

Vatican News
कोलंबियाई सीमा के पास वेनेजुएला वासी कोलंबियाई सीमा के पास वेनेजुएला वासी  (AFP or licensors)

वेनेजुएला में संकट और गहराया

वेनेजुएला में संकट गहरा रहा है, क्योंकि सहायता सामग्री को अंदर लाने से रोका जा रहा है और कोलंबियाई सीमा के पास सेना द्वारा आंसू गैस छोड़े जा रहे हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वेनेजुएला, बुधवार,27 फरवरी 2019 ( वाटिकन न्यूज) : वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो के आदेश पर कोलंबिया की सीमा को सील कर दिया गया है। इस दौरान रसद लेने पहुंचे लोगों पर वेनेज़ुएला के सुरक्षाबलों ने आंसू गैस और रबर की गोलियां चलाईं। मानवाधिकार समूहों का दावा है कि इस दौरान लोगों पर बारूद वाली गोलियां भी चलाई गई, जिसमें कम-से-कम दो लोग मारे गये।

विपक्षियों का दावा है कि सहायता सामग्री के दो ट्रक ब्राजील से प्राप्त करने में कामयाब रहे, जिसे विपक्षी नेता जुआन गुएदो एक महान उपलब्धि के रूप में वर्णित किया है। फिर भी अन्य रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि वे अभी भी ‘नो मैन्स लैंड’ में फंसे हुए हैं।

विपक्ष चाहता है कि आर्थिक संकट से जूझ रहे वेनेज़ुएला के लोगों को मदद मिले, लेकिन मादुरो इसे देश की सुरक्षा के लिए ख़तरे के रूप में देखते हैं।

अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने वेनेज़ुएला की जनता पर किए गए इन हमलों की निंदा की और 'मादुरो के हत्यारों' को इसके लिए दोषी ठहराया। विदेश मंत्री माइक का कहना है कि निकोलस मादुरो का सत्ता का कार्यकाल कमजोर हो रहा है, क्योंकि उनके दिन गिने जा रहे हैं और उन्होंने जीत हासिल नहीं की है। फिर भी सेना राष्ट्रपति मादुरो के प्रति वफादार रहती है, जो उनके शक्ति आधार की कुंजी है।

वेनेज़ुएला की समस्या

वेनेज़ुएला बीते कई सालों से आर्थिक संकट की स्थिति से जूझ रहा है। अथाह तेल वाले देश में अनाज और दवाइयों की भारी कमी और लगातार बढ़ती कीमतों की वजह से लोग अन्य देश पलायन कर रहे हैं।

देश की इस स्थिति के लिए एक वर्ग राष्ट्रपति मादुरो और पूर्व नेताओं को ज़िम्मेदार ठहरा रहा है। वहीं मादुरो के समर्थकों का कहना है कि तख़्ता पलट करने की कोशिश में लगा विपक्ष और अमरीकी प्रतिबंधों के साथ-साथ कोलंबिया इसके पीछे है।

इन सब के बीच, जनवरी में विपक्षी नेता ग्वाइदो ने एक विरोध प्रदर्शन के दौरान ख़ुद को राष्ट्रपति घोषित कर दिया था और अमरीका ने वेनेजुएला के अंतरिम राष्ट्रपति के रूप में ग्वाइदो को मान्यता दे दी थी।

इसके बाद राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने अमरीका के साथ सारे रिश्ते ख़त्म करने का फ़ैसला करते हुए अमरीकी राजदूत को देश छोड़ने को कहा था।

ग्वाइदो को सात दक्षिण अमरीकी देश- ब्राज़ील, कोलंबिया, चिली, पेरू, इक्वाडोर, अर्जेंटीना और पराग्वे समेत कनाडा ने भी अंतरिम राष्ट्रपति के तौर पर मान्यता दी थी। हालांकि यूरोपीय यूनियन वहां स्वतंत्र चुनाव के पक्ष में है।

27 February 2019, 15:55