Cerca

Vatican News
वेनेज़ुएला में निकोलस मादुरो के विरुद्ध विपक्ष का विरोध प्रदर्शन वेनेज़ुएला में निकोलस मादुरो के विरुद्ध विपक्ष का विरोध प्रदर्शन   (ANSA)

वेनेज़ुएला, लोगों के उत्पीड़न को देखने की धर्माध्यक्ष ने की अपील

वेनेज़ुएला के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के उपाध्यक्ष, सान क्रिस्टोबाल के काथलिक धर्माध्यक्ष मोरोन्ता ने वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो का आह्वान किया है कि वे लोगों के उत्पीड़न के प्रति अपनी आँखों को बन्द न करें।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वेनेज़ुएला, शुक्रवार, 15 फरवरी 2019 (सी.एन.ए.): वेनेज़ुएला के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के उपाध्यक्ष, सान क्रिस्टोबाल के काथलिक धर्माध्यक्ष मोरोन्ता ने वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो का आह्वान किया है कि वे लोगों के उत्पीड़न के प्रति अपनी आँखों को बन्द न करें.

वेनेज़ुएला में कुछ समय से जारी राजनैतिक, आर्थिक एवं मानवतावादी संकट के मद्देनज़र स्पानी काथलिक न्यूज़ एजेन्सी प्रेन्सा को दी एक भेंटवार्ता में मादुरो का आह्वान करते हुए उन्होंने कहा, “लोगों की पीड़ा को देखने के लिए अपनी आँखें खोलें. लोगोंन लोगों का रोना सुनें जो न केवल स्वतंत्रता और लोकतंत्र चाहते हैं बल्कि चाहते हैं कि उनकी मानव प्रतिष्ठा और गरिमा का सम्मान किया जाये. "

लोगों की आवाज़ सुनें

धर्माध्यक्ष मोरोन्ता ने कहा, "कई वर्षों से वेनेजुएला के लोग कदेश सामाजिक-राजनीतिक और यहां तक ​​कि आर्थिक अभिविन्यास में बदलाव का मांग करते रहे हैं." उन्होंने कहा, "कलीसिया बल देती रही है कि लोगों की आवाज़ को सुना जाये क्योंकि राजनैतिक, सामाजिक एवं वित्तीय नेताओं को लोगों का साथ देना चाहिये."

संयुक्त राज्य अमरीका सहित पचास अन्य राष्ट्रों द्वारा मान्यता प्राप्त वेनेज़ुएला की राष्ट्रीय समिति के अध्यक्ष हुवान गोईदो के सन्दर्भ में धर्माध्यक्ष मोरोन्तो ने वेनेज़ुएला राष्ट्र एवं वेनेज़ुएला के नागरिकों के पक्ष में गोईदो की भूमिका को रचनात्मक बताया. उन्होंने कहा कि राष्ट्र में बदलाव लाने का कार्य लोगों द्वारा ही सम्पादित होना चाहिये.

कलीसिया की भूमिका सेतुओं का निर्माण करना

धर्माध्यक्ष मोरोन्तो ने कहा कि कलीसिया की भूमिका सेतुओं का निर्माण करना है जिसके लिये कलीसिया तैयार है. उन्होंने कहा कि कलीसिया न्याय एवं शान्ति पर आधारित पारगमन की आशा करती है. उन्होंने ग़ौर कराया कि कलीसिया केवल भले कार्यों को प्रेरित नहीं करती बल्कि परिस्थिति को बेहतर बनाने हेतु चेतना जागरण का भी कार्य करती है. साथ ही उन सामाजिक नेताओं को प्रोत्साहन देती है जिनका लक्ष्य राष्ट्र का अखण्ड विकास होता है.  

21 जनवरी को राष्ट्रपति मादुरो के विरुद्ध आरम्भ विरोध प्रदर्शनों के बाद से अब तक कम से कम 40 व्यक्तियों की हत्या हो गई है तथा सैकड़ों को गिरफ्तार कर लिया गया है. इन झगड़ों के बीच वेनेज़ुएला के नागरिक दैनिक जीवन की प्राथमिक आवश्यकताओं से भी वंचित है.

धर्माध्यक्ष मोरोन्तो ने बताया कि लोगों की सहायता के लिये कलीसिया ने कई जगहों पर सूप किचन लगाये हैं तथा अस्थायी कैम्पों में लोगों को चिकित्सा प्रदान की जा रही है किन्तु सब लोगों तक पहुँचना आसान काम नहीं है.     

15 February 2019, 11:36