Cerca

Vatican News
भोपाल में विधान सभा चुनाव भोपाल में विधान सभा चुनाव  (ANSA)

मध्य प्रदेश राज्य चुनाव में ईसाईयों से छीना गया मतदान अधिकार

भोपाल में, महाधर्माध्यक्ष लियो कॉरनेलियो सहित, सैकड़ों ख्रीस्तीय धर्मानुयायियों को मध्य प्रदेश राज्य में मतदान केंद्रों से हटा दिया गया क्योंकि उनके नाम मतदाता सूची में नहीं थे।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

भोपाल, शनिवार, 1 दिसम्बर 2018 (ऊका समाचार): भोपाल में, महाधर्माध्यक्ष लियो कॉरनेलियो सहित, सैकड़ों ख्रीस्तीय धर्मानुयायियों को मध्य प्रदेश राज्य में मतदान केंद्रों से हटा दिया गया क्योंकि उनके नाम मतदाता सूची में नहीं थे.

मध्यप्रदेश चुनाव में धोखाधड़ी

ईसाई नेताओं का दावा है कि 28 नवंबर के चुनाव में धोखाधड़ी की गई थी. महाधर्माध्यक्ष लियो कॉरनेलियो तथा सैकड़ों ख्रीस्तीयों को मध्यप्रदेश विधान सभा के 230 अभ्यर्थियों के चुनाव में मतदान किये बिना ही घर लौटना पड़ा. हालांकि, इन सबके पास पहचान पत्र आदि दस्तावेज़ थे.

जाँच पड़ताल की मांग

ईसाई नेता साजी अब्राहम ने इसे ख्रीस्तीयों के विरुद्ध एक षड़यंत्र निरूपित कर जाँच पड़ताल हेतु चुनाव अधिकारियों के समक्ष एक याचिका दायर की है. श्री अब्राहम एवं अन्य ख्रीस्तीय नेताओं को आशंका है कि विगत 15 वर्षों से मध्यप्रदेश पर शासन कर रही भारतीय जनता पार्टी के लोगों ने अधिकारियों पर दबाव डालकर ख्रीस्तीयों के नाम मतदाताओं की सूची से हटवा दिये हैं. पारम्परिक रूप से भारत की ख्रीस्तीय जनता काँग्रेस पार्टी को अपना मत देती आई है.

नाम हटाना लोकतंत्रवाद के लिये ख़तरा

ऊका समाचारडॉट कॉम से महाधर्माध्यक्ष लियो कॉरनेलियो ने कहा, "मुझे यकीन है कि मेरा नाम जानबूझकर मतदाता सूची से हटा दिया गया था, जो अन्यायपूर्ण है और लोकतंत्र के लिए अच्छा संकेत नहीं है."

उन्होंने कहा कि पहचान पत्र दिखाने के बावजूद उन्हें एक अपूर्ण मतदाता सूची के कारण मतदान नहीं करने दिया गया, उन्होंने कहा, "यह ईसाई समुदाय के लिए एक कठोर संदेश है कि वे अब गिनती में नहीं हैं." उन्होंने कहा कि समुदाय के वरिष्ठ नेताओं का नाम हटाकर इस प्रकार का सन्देश पहुंचाया जा रहा है.

मध्यप्रदेश की सात करोड़ तीस लाख की आबादी में 91 प्रतिशत हिन्दू, 07 प्रतिशत मुसलमान तथा केवल 0,29 प्रतिशत लोग यानि केवल 2,11,000 लोग ईसाई धर्मानुयायी हैं. 

भाजपा पर कट्टरपंथी हिंदू राष्ट्रवादी समूहों को राजनीतिक रूप से प्रेरित करने तथा समर्थन प्रदान करने का आरोप लगाया जाता रहा है.

01 December 2018, 11:57