Cerca

Vatican News
अमरीकी काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन अमरीकी काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन  (AFP or licensors)

अमरीकी धर्माध्यक्षों द्वारा यौन दुराचार एवं उसकी ढिलाई का सामना

अमरीका के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के सदस्य, शोषण, यौन दुर्व्यवहार अथवा याजकों द्वारा यौन दुराचार के संकट का सामना करने में ढिलाई करने वाले धर्माध्यक्षों को जिम्मेदार बनाने का रास्ता तलाश रहे हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

अमरीका, बुधवार, 14 नवम्बर 2018 (वाटिकन सिटी)˸ अमरीका के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन की तीन दिवसीय आमसभा मंगलवार को शुरू हुई। मंगलवार दूसरी बेला सभा में तीन प्रस्तावों पर बहस शुरू हुई। ये तीनों ठोस विचार हैं तथा आशा की जा रही है कि उनको भविष्य में लागू किया जायेगा। बच्चों एवं युवाओं की सुरक्षा पर खाई जिसमें दुरुपयोग, यौन दुर्व्यवहार या लापरवाही के लिए धर्माध्यक्ष जिम्मेदार हैं उसको अमरीका के धर्माध्यक्ष जाँच प्रक्रिया में भाग लेकर भरना चाहते हैं।

अमरीका के धर्माध्यक्षों द्वारा तीन दिवसीय आमसभा

न्यूयॉर्क के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल जोसेफ तोबिन ने धर्माध्यक्षों की जवाबदेही की व्याख्या की जिसपर बहस की गयी तथा उसपर संशोधन किया गया। इसे तीन यूएससीसीबी समितियों द्वारा तैयार किया गया था और यह पहले से ही आचरण के धर्मप्रांतीय कोड में निहित है।

धर्माध्यक्षों की जाँच हेतु आयोग

महाधर्माध्यक्ष विन्येरोन ने एक नए संगठन के संबंध में यूएससीसीबी कार्यकारी समिति द्वारा तैयार प्रस्ताव प्रस्तुत किया जिन्हें बिशप की जांच करने के लिए कार्य सौंपा जाएगा जिनके खिलाफ शिकायतें या आरोप प्राप्त हुए हैं। उन्होंने कहा कि प्रस्तुत प्रस्ताव एक रूप रेखा है, जिसपर परामर्श और विश्लेषण आधारित होगी। यह किसी धर्मप्रांतीय धर्माध्यक्ष के अधिकारों में बाधा नहीं डालेगा। परमधर्मपीठ रिपोर्ट को प्रेरितिक राजदूत को भेजेगा जो इसकी क्षमता के अनुसार 6 लोकधर्मियों एवं 3 याजकों के दल का गठन करेगा।  

महाधर्माध्यक्ष विन्येरोन ने स्वीकार किया कि इस छोटी अवधि में कई क्षेत्रों पर गौर किये जाने की आवश्यकता है। उन्होंने बतलाया कि सभा के सामने प्रस्तुत करने के लिए मसौदा तैयार कर लिया गया है।  

धर्माध्यक्षों से कहा गया है कि वे संशोधन के रूप में अपने विचारों को प्रस्तुत करें ताकि तीनों प्रस्तावों को तैयार किया जा सके। तीन प्रस्तावों में संशोधन मंगलवार की शाम को जमा करना था। धर्माध्यक्ष बहस की शुरूआत बुधवार को करेंगे।

14 November 2018, 16:55