Cerca

Vatican News
सन्त पापा जॉन पौल द्वितीय मोरॉक्को में, 1985 सन्त पापा जॉन पौल द्वितीय मोरॉक्को में, 1985  

मोरॉक्को में सन्त पापा की यात्रा इस्लाम-ख्रीस्तीय संवाद को देगी प्रोत्साहन

आगामी मार्च माह की 30 एवं 31 तारीख के लिये निर्धारित मोरॉक्को में सन्त पापा फ्राँसिस की प्रेरितिक यात्रा की पुष्टि करते हुए राबात के महाधर्माध्यक्ष क्रिस्टोबाल लोपेज़ ने मोरॉक्को के काथलिकों के नाम एक पत्र लिखकर कहा है कि उनकी आशा है कि यह यात्रा देश के ख्रीस्तीय एवं इस्लाम धर्मानुयायियों की मैत्री को मज़बूत करने का अस्त्र बने।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 16 नवम्बर 2018 (रेई, वाटिकन रेडियो): मोरॉक्को में राबात के महाधर्माध्यक्ष ने कहा है कि मोरॉक्को में सन्त पापा फ्राँसिस की प्रेरितिक यात्रा इस्लाम-ख्रीस्तीय संवाद को बढ़ावा देगी.

आगामी मार्च माह की 30 एवं 31 तारीख के लिये निर्धारित मोरॉक्को में सन्त पापा फ्राँसिस की प्रेरितिक यात्रा की पुष्टि करते हुए राबात के महाधर्माध्यक्ष क्रिस्टोबाल लोपेज़ ने मोरॉक्को के काथलिकों के नाम एक पत्र लिखकर कहा है कि उनकी आशा है कि यह यात्रा देश के ख्रीस्तीय एवं इस्लाम धर्मानुयायियों की मैत्री को मज़बूत करने का अस्त्र बने. 

मंगलवार को परमधर्मपीठीय प्रेस के निर्देशक ग्रेग बुर्के ने मोरॉक्को में सन्त पापा फ्राँसिस की यात्रा की घोषणा कर बताया था कि 30 एवं 31 मार्च को सन्त पापा मोरॉक्को में राबात एवं काज़ाब्लांका शहरों का दौरा कर विश्वासियों को अपना सन्देश देंगे.

वाटिकन रेडियो से बातचीत में  उन्होंने कहा कि उनके देश में अनेक ऐसे ख्रीस्तीय हैं जो यूरोप की ओर अपने कठिन आप्रवास के दौर से गुज़र रहे हैं.  

प्रेम और आशा की सुखद स्मृति

सन् 1985 में सम्पन्न सन्त पापा जॉन पौल द्वितीय की मोरॉक्को यात्रा का स्मरण कर उन्होंने कहा, “उस यात्रा की सुखद स्मृतियाँ अभी भी हमारे मनोमस्तिष्क में सजीव हैं, वह ऐसी यात्रा थी जिससे मोरॉक्को की काथलिक कलीसिया में महान आशा का संचार हुआ तथा हम सबने प्रेम एवं वर्वाद का अनुभव प्राप्त किया. "

संवाद और सहभागिता को प्रोत्साहन

महाधर्माध्यक्ष लोपेज़ ने कहा, "सन्त पापा का मिशन हमें हमारे विश्वास में सुदृढ़ करना है. उन्होंने कहा कि सन्त पापा मोरॉक्को के लोगों से तथा यहाँ के अधिकारियों और विशेष रूप से वे मोरॉक्को के राजा मुहम्मद छठवें से मिलना चाहते हैं ताकि देश की खुशहाली, समृद्धि और विकास के लिये मुसलमान एवं ईसाई लोगों के बीच मैत्री एवं सहभागिता को बढ़ावा दे सकें ".

उन्होंने आशा व्यक्त की कि मार्च माह में होनेवाली सन्त पापा फ्राँसिस की प्रेरितिक यात्रा मोरॉक्को के सभी नागरिकों के लिये ईश्वर का एक वरदान सिद्ध हो.

16 November 2018, 11:32