Cerca

Vatican News
अफगानिस्तान के शरणार्थी अफगानिस्तान के शरणार्थी  (AFP or licensors)

अफगानिस्तान में 40 वर्षों से संघर्ष जारी

अफगानिस्तान में सन् 2018 में 9 महीने से कम उम्र के करीब 5000 बच्चों की मौत हो गई और करीब 500,000 बच्चे गंभीर रुप से कुपोषण के शिकार हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

अफगानिस्तान, बुधवार 28 नवम्बर 2018 (रेई) : अफगानिस्तान संचार यूनिसेफ के प्रमुख एलिसन पार्कर ने अपने वक्तव्य में कहा कि 2019 में अफगानिस्तान में संघर्ष जारी हुए कुल 40 वर्ष पूरे होंगे। इन चार दशकों के दौरान हिंसा और नरसंहार ने बच्चों के जीवन पर भयानक  प्रभाव डाला है।

2018 में 9 महीने से कम उम्र के करीब 5000 बच्चों की मौत हो गई। 2017 में भी करीब 5000  बच्चों की मृत्यु हुई थी। देश में करीब 500,000 बच्चे गंभीर रुप से कुपोषण के शिकार हैं।

लगभग 6 मिलियन लोगों को मानवीय सहायता की आवश्यकता है, जिनमें से आधी संख्या बच्चों की है। 3 मिलियन से अधिक बच्चे स्कूल नहीं जाते हैं, जिनमें से 60% लड़कियां हैं।

बच्चों के बीच गंभीर तीव्र कुपोषण दुनिया के उच्चतम स्तरों में से एक है, जिसमें करीब आधा मिलियन बच्चे प्रभावित हुए हैं।

नाबालिगों का विवाह 35% की दर तक पहुंच गया है; टीकाकरण का दर केवल 46% है और कुछ जिलों में यह 8% तक ही हो पाता है।

इस वर्ष देश की स्थिति बदतर होती जा रही है इसका बुरा प्रभाव बच्चों की शिक्षा, शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य, उनके जीवन और उनके भविष्य पर पड़ रहा है।  2017 में कुल 82 स्कूलों पर हमला किया गया था जबकि 2018 में जनवरी से सितंबर के बीच, 181 स्कूलों पर हमला किया गया। असुरक्षा के कारण 1,200 से अधिक स्कूल बंद हैं।

वर्ष 2018 विशेष रूप से कठिन था: हिंसा और गरीबी में वृद्धि, सूखा, खाद्य असुरक्षा और खराब रूप से अनुकूलित सामाजिक सेवा प्रणाली बच्चों को बहुत बुरी तरह से प्रभावित किया है।

28 November 2018, 16:04