बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
फिलीपींस में खजूर रविवार फिलीपींस में खजूर रविवार  (AFP or licensors)

फिलीपीन्स “युवा वर्ष, 2019” की तैयारी में

फिलीपीन्स में “युवा वर्ष, 2019” की तैयारी, 2021 में ख्रीस्तीय धर्म के आगमन की 5वीं शताब्दी मनाने की तैयारी का भाग है।

दिलीप संजय एक्का-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 26 अक्तूबर 2018 (रेई) युवाओं पर धर्माध्यक्षीय धर्मसभा का समापन रविवार को होगा इसकी सफलता की यादगारी में फिलीपीन्स की कलीसिया ने वर्ष 2019 को “युवा वर्ष”  के रुप में मनाने का निर्णय किया है।

फिलीपीन्स काथलीक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन (सीबीसीपी) के अध्यक्ष ने कहा कि वर्ष 2019 को आधिकारिक तौर से “युवा वर्ष” के रुप में ख्रीस्त राजा के महोत्सव 25 नबम्बर 2018 को घोषित किया जायेगा। उसका समारोही उद्घाटन 2 दिसम्बर को फिलीपीन्स की राजधानी मनीला में की जायेगी।

तैयारियाँ

इसकी तैयारी हेतु युवा प्रेरिताई में संलग्न 86 संचालकों की एक बैठक बुलाई गई है। एक युवा काथलिक ईभा माए फामिल्लारन पालमेरो ने बतलाया कि इसके लिए युवा संचालकों से युवा वर्ष हेतु प्रतीक चिन्ह (लोगो) और विषयवस्तु से संबंधित गीत के लिए सुझाव मांगा गया है।

“युवा वर्ष में हमारी सहभागिता हमारे लिए अपने जीवन के अनुभवों को दूसरों के साथ साझा करने, मिलकर प्रार्थना करने और ईश्वर के प्रेम को घोषित करने का एक सुन्दर अवसर होगा”। उक्त बातें युवा नेता जोभानीये बोक्लोक्लो ने फीदेस समाचार से कही। उन्होंने कहा कि यह युवाओं के लिए विश्वास में और मजबूत होने का एक सुन्दर अवसर होगा।

सुसमाचार प्रचार के पाँच सौ वर्ष

युवाओं के लिए घोषित वर्ष का संदर्भ 2021 में फिलीपीन्स की कलीसिया में सुसमाचार प्रचार के 500 वर्ष पूरे होने की यादगारी को मनाने की एक तैयारी का अवसर है। विदित हो की इसकी तैयारी 2013 से ही शुरू की गई है जहां हर साल को विश्वास और नव सुसमचार प्रचार की एक विशेष विषयवस्तु से समर्पित किया जाता रहा है। इस संदर्भ में सन् 2018 को याजकों और धर्मसमाजियों का वर्ष घोषित किया गया है। फिलीपीन्स के धर्माध्यक्षों ने इसकी तैयारी को लेकर 2012 में प्रेरितिक पत्र लिखा था- “हम आनंद और कृतज्ञता से 16 मार्च 2021 का इंतजार कर रहे हैं जब हमारा प्रिय देश ख्रीस्तीयता के अगमन की 5वीं शतवर्षीय जयन्ती मनाएगा।”

प्रथम ख्रीस्तीय

धर्माध्यक्षों के अनुसार फिलीपीन्स की धरती पर प्रथम मिस्सा लिमासावा के द्वीप में पास्का रविवार, 31 मार्च सन् 1521 को अर्पित किया गया था। इस पावन धरती के प्रथम ख्रीस्तीय हुमाबोन औऱ हारा अमीहान बने थे जिन्हें कार्लो और जुआना के रुप में बपतिस्मा दिया गया था।

विदित हो की फिलीपीन्स में ख्रीस्तीयता की ज्योति स्पानी प्रेरितों के द्वारा 500 साल पूर्व प्रज्वलित की गई और आज यह देश एशिया का सबसे घनी ख्रीस्तीय आबादी वाला देश है। 110 मिलियन संख्या वाले इस देश में 80 प्रतिशत लोग ख्रीस्तीय हैं।

26 October 2018, 17:07