Cerca

Vatican News
नोबेल शांति पुरस्कार  विजेता डॉक्टर डेनिस मुकवेग और नादिया मुराद नोबेल शांति पुरस्कार विजेता डॉक्टर डेनिस मुकवेग और नादिया मुराद 

कांगो के डॉक्टर और इराकी महिला को नोबेल शांति पुरस्कार 2018

इस साल का नोबेल शांति पुरस्कार कांगो के महिला रोग विशेषज्ञ डेनिस मुकवेगे और यज़ीदी महिला अधिकार कार्यकर्ता नादिया मुराद को मिला है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

नादिया को ये पुरस्कार बलात्कार के ख़िलाफ़ जागरुकता फैलाने के लिए दिया गया है। 25 वर्षीयी नादिया मुराद को तथाकथित इस्लामिक स्टेट ने 2014 में अग़वा कर लिया था और तीन महीने तक बंधक बनाकर उनका बलात्कार किया गया था। मुराद ने हाल ही में संत पापा फ्राँसिस से अपने अनुभवों के बारे में बात करने के लिए मुलाकात की थी।

नोबेल समिति की अध्यक्ष बेरिट रेइस एंडरसन ने नामों की घोषणा करते हुए कहा कि यौन हिंसा को युद्ध के हथियार के तौर पर इस्तेमाल करने पर रोक लगाने के इनके प्रयासों के लिए इन दोनों को चुना गया है। उन्होंने कहा, ‘‘एक अति शांतिपूर्ण विश्व तभी बनाया जा सकता है जब युद्ध के दौरान महिलाओं, उनके मूलभूत अधिकारों और उनकी सुरक्षा को मान्यता और सुरक्षा दी जाए।’’

नार्वे नोबेल समिति इस वर्ष के नोबेल शांति पुरस्कार के साथ यौन हिंसा के बारे में एक विशेष संदेश भेजना चाहती थी। युद्ध और सशस्त्र संघर्ष के हथियार के रूप में यौन हिंसा के उपयोग को खत्म करने के उनके प्रयासों के लिए डेनिस मुकवेग और नादिया मुराद को "2018 के लिए नोबेल शांति पुरस्कार" दिया गया।

दोनों विजेताओं ने "इस तरह के युद्ध अपराधों पर ध्यान केंद्रित करने और मुकाबला करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।"

पहला सदभाव राजदूत

नोबेल कमेटी ने कहा कि डॉ मुक्वेज और मुराद को नोबेल शांति पुरस्कार देने के अच्छे कारण थे, जिन्हें मानव तस्करी के लोगों की विनम्रता के लिए संयुक्त राष्ट्र की ओर से ‘पहला सदभाव राजदूत’ नाम दिया गया था। "डेनिस मुकवेग ने इन पीड़ितों की रक्षा के लिए अपना जीवन समर्पित किया है।"

63 वर्षीय डॉ मुक्वेज ने पूर्वी कांगो में एक अस्पताल की स्थापना की और हजारों महिलाओं का इलाज किया, जिनमें से कई गिरोह बलात्कार के पीड़ित थे।

वे एचआईवी / एड्स उपचार के साथ-साथ मुफ्त मातृ देखभाल भी करते हैं।

मुराद अकेली नहीं

नोबेल कमेटी ने शांति पुरस्कार विजेता मुराद की बहादुरी पर भी ध्यान दिया कि उन्होंने इराक में अपने अनुभवों को साझा कर यौन हिंसा का सामना किया। "नादिया मुराद गवाह हैं जो खुद और दूसरों के खिलाफ दुर्व्यवहार के बारे में बताती हैं। उनमें से प्रत्येक ने अपने तरीके से युद्ध के समय यौन हिंसा को और अधिक दृश्यता देने में मदद की है ताकि अपराधियों को उनके कृत्यों के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सके।"

मुराद इराक में याजीदी अल्पसंख्यक और आम तौर पर शरणार्थी और महिलाओं के अधिकारों के लिए एक वकील है। 2014 में मोसुल, इराक में इस्लामी राज्य सेनानियों ने उन्हें गुलाम बनाकर बलात्कार किया था।

वो अकेली नहीं है: करीब 3,000 याज़ीदी लड़कियां और महिलाएं इस्लामी आतंकवादियों द्वारा बलात्कार और अन्य दुर्व्यवहार के शिकार हुई थी। वह तीन महीने बाद भागने में कामयाब रही और अपने अनुभवों के बारे में बात करने का फैसला किया।

संत पापा की चिंता

मुराद केवल 23 वर्ष की थी जब उन्हें संयुक्त राष्ट्र का पहला सदभाव राजदूत नामित किया गया था और अपनी पुस्तक "द लास्ट गर्ल",  में उन्होंने कैद की वजह, अपने परिवार को खोना और अंततः कैद से भागने के बारे में लिखा है।

पिछले साल नादिया मुराद संत पापा फ्राँसिस से मिली थी। उनकी बातें सुनकर उन्होंने यौन हिंसा और अन्य अत्याचारों के बारे में गहरी चिंता व्यक्त की।

वाटिकन में उस वार्तालाप के दौरान, उन्होंने अपने लोगों के पीड़ितों के लिए आध्यात्मिक समर्थन मांगा और न केवल ख्रीस्तियों के खिलाफ बल्कि यजीदी समेत अन्य जातीय और धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ अपराधों के बारे में बात करने के लिए उन्हें धन्यवाद दिया।

संत पापा फ्राँसिस ने उनके लिए अपनी एकजुटता और प्रार्थना व्यक्त की।

Photogallery

नोबेल शांति पुरस्कार विजेता डॉक्टर डेनिस मुकवेग और नादिया मुराद
06 October 2018, 12:05