बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
आत्मघाती हमले में मारे गये छात्रों की दफन क्रिया, अफगानिस्तान आत्मघाती हमले में मारे गये छात्रों की दफन क्रिया, अफगानिस्तान  (ANSA)

अफ़गानिस्तान में बच्चों के विरुद्ध बढ़ती हिंसा पर चिन्ता

काबूल में 15 अगस्त को एक ट्यूशन सेन्टर पर किये गये हमले के बाद संयुक्त राष्ट्र संघीय बाल निधि यूनीसेफ ने अफगानिस्तान में बच्चों के विरुद्ध अनवरत बढ़ती हिंसा पर गहन चिन्ता व्यक्त की है जिसमें अधिकांश बच्चों की मौत हो गई और दर्ज़नों घायल हो गये।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

काबूल, शुक्रवार, 17 अगस्त 2018 (रेई, वाटिकन रेडियो): काबूल में 15 अगस्त को एक ट्यूशन सेन्टर पर किये गये हमले के बाद संयुक्त राष्ट्र संघीय बाल निधि यूनीसेफ ने अफगानिस्तान में बच्चों के विरुद्ध अनवरत बढ़ती हिंसा पर गहन चिन्ता व्यक्त की है.

काबूल के ट्यूशन सेन्टर पर आत्मघाती हमला

अफ़ग़ानिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि राजधानी काबुल में 15 अगस्त को आत्मघाती हमलावर ने एक ट्यूशन सेंटर पर धमाका किया जिसमें 48 लोगों की मौत हो गई एवं 67 अन्य घायल हो गए हैं. मरने वालों में अधिकतर बच्चे एवं छात्र बताए जा रहे हैं.

15 अगस्त के हमले की कड़ी निन्दा करते हुए यूनीसेफ ने एक वकतव्य जारी कर कहा कि अफ़गानिस्थान में, विशेष रूप से, बच्चों और छात्रों के विरुद्ध नित्य बढ़ती हिंसा के प्रति वह चिन्तित है.

यूनीसेफ की महानिर्देशक की घोषणा

यूनीसेफ की महानिर्देशक श्रीमती  हेनरियेत्ता ने एक घोषणा में कहा, "यूनिसेफ अफगानिस्तान में बढ़ती हिंसा के प्रति चिंतित है, विशेष रूप से, पिछले हफ्ते हुई हिंसा के प्रति जिसमें अधिकांश बच्चे मारे गये."

उन्होंने कहा, "काबूल में एक अंग्रेजी भाषाई कक्षा पर हुए हमले की हम कड़ी निन्दा करते हैं जिसमें 16 से 18 वर्ष की उम्र के बच्चों की मौत हो हो तथा दर्जनों बच्चे गंभीर रूप से घायल हो गये."

उन्होंने कहा, "यह हिंसा समाप्त होनी चाहिए. यूनिसेफ हिंसा और संघर्ष में संलग्न सभी दलों का आह्वान करता है कि वे मानवतावादी सिद्धांतों का पालन और सम्मान करें ताकि सभी बच्चों की सुरक्षा को सुनिश्चित किया जा सके. बच्चे न तो कभी हिंसा का उद्देश्य हो सकते हैं और न ही हेंन्हें कभी हिंसा का लक्ष्य बनाया जाना चाहिये. "

           

17 August 2018, 11:17