बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
गर्भपात विधेयक प्रदर्शन आर्जेन्टीना गर्भपात विधेयक प्रदर्शन आर्जेन्टीना  (AFP or licensors)

आर्जेन्टीना, गर्भपात विधेयक ख़ारिज, जीवन मूल्यवान धर्माध्यक्ष

आर्जेंटीना की संसद द्वारा गर्भपात को वैध बनाने वाले विधेयक को ख़ारिज कर दिये जाने के बाद देश के काथलिक धर्माध्यक्षों ने इस तथ्य पर बल दिया है कि प्रत्येक जीवन का मूल्य है। उन्होंने लिखा, "जीवन के मूल्य को स्पष्टतः घोषित करने के लिये हम महान प्रेरितिक चुनौतियों का सामना कर रहे हैं...

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

आर्जेन्टीना, शुक्रवार, 10 अगस्त 2018 (रेई, वाटिकन रेडियो): आर्जेंटीना की संसद द्वारा गर्भपात को वैध बनाने वाले विधेयक को ख़ारिज कर दिये जाने के बाद देश के काथलिक धर्माध्यक्षों ने इस तथ्य पर बल दिया है कि प्रत्येक जीवन का मूल्य है.

आर्जेन्टीना की संसद द्वारा गुरुवार को खारिज विधेयक मेंर्भधारण के 14 सप्ताहों के भीतर गर्भपात की अनुमति दी जाने की बात कही गई थी. संसद में लंबी स के बाद 38 सांसदों ने इसके ख़िलाफ़ और 31 ने इसके पक्ष में मतदान किया.

विरोधी प्रसन्न, समर्थक निराश  

विधेयक के ख़ारिज़ होने के साथ ही इसके विरोधियों में खुशी की लहर छा गई और समर्थक निराश हो गए. कई समर्थकों ने गुस्से में पुलिस पर हमले किए और आग लगाने की कोशिश की. गर्भपात के समर्थकों का कहना है कि अब भी आर्जेंटीना में महिलाएं गर्भपात कराती हैं लेकिन ग़ैरकानूनी होने के चलते उन्हें ख़तरा उठाकर ऐसा करना पड़ता है जिसमें कई बार महिलाओं की जान भी चली जाती है.

आर्जेन्टीना के काथलिक धर्माध्यक्षों तथा गर्भपात विधेयक के विरोधियों का तर्क है कि अजन्में बच्चे की जान लेने का हक़ किसी को नहीं होना चाहिए और ये महिलाओं की समस्या का समाधान नहीं है.

धर्माध्यक्षों का बयान

धर्माध्यक्षों ने एक बयान प्रकाशित कर कहा कि प्रत्येक जीवन मूल्यवान है. उन्होंने लिखा, "जीवन के मूल्य को स्पष्टतः घोषित करने के लिये हम महान प्रेरितिक चुनौतियों का सामना कर रहे हैं. इसके अन्तर्गत ज़िम्मेदार यौन शिक्षा प्रदान करना, अपने परिसरों में उपस्थित परामर्श केन्द्रों का संचालन करना, कमज़ोर परिस्थितियों में गर्भवती महिलाओं के प्रति संवेदनशीलता व्यक्त करना तथा गर्भपात की पीड़ा सहनेवाली महिलाओँ के प्रति ध्यान देना आदि शामिल है. "

धर्माध्यक्षों ने कहा प्रत्येक जीवन अनमोल है, यह ईश्वर द्वारा दिया गया वरदान है तथा हर स्तर पर हर अवस्था में जीवन की रक्षा अनिवार्य है. धर्माध्यक्षों ने कहा कि कलीसिया कठिन परिस्थितियों से गुज़र रही महिलाओं की मदद करने हेतु दृढ़ संकल्प व्यक्त करती है.  

10 August 2018, 10:46