Cerca

Vatican News
थाईलैंड  की जहाज दुर्घटना थाईलैंड की जहाज दुर्घटना  (AFP or licensors)

संत पापा ने समुद्री नाविकों और यात्रियों के लिए प्रार्थना की

सागर रविवार की वार्षिक समारोह पर, संत पापा फ्राँसिस समुद्रीजहाजों के नाविकों, कार्यकर्ताओं, मछुआरों, और प्रदूषण से समुद्र को मुक्त करने के लिए काम करने वाले लोगों के लिए प्रार्थना की और वाटिकन ने यात्रियों की प्रतिदिन की चुनौतियों का विवरण देते हुए एक संदेश जारी किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

संत पापा फ्राँसिस ने रविवार 8 जुलाई सागर रविवार के अवसर पर समुद्रीजहाजों के नाविकों कार्यकर्ताओं, मछुआरों, और प्रदूषण से समुद्र को मुक्त करने के लिए काम करने वाले लोगों के लिए प्रार्थना की।  

रविवार को संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में देश-विदेश से एकत्रित तीर्थयात्रियों और विश्वासियों के साथ देवदूत प्रार्थना का पाठ करने के बाद संत पापा ने कहा, "मैं उनके लिए और उनके परिवारों के साथ-साथ सागर के प्रेरिताई में संलग्न पुरोहितों और स्वयंसेवकों के लिए भी प्रार्थना करता हूँ।"

संत पापा ने उन लोगों का विशेष उल्लेख किया जो समुद्र में काम के दौरान कठिन और अमानवीय परिस्थितियों में रहते हैं। संत पापा फ्राँसिस ने उनसभी लोगों के लिए अपनी प्रशंसा व्यक्त की जो "प्रदूषण से समुद्र को मुक्त करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।"

सागर रविवार क्या है?

कलीसिया प्रतिवर्ष सागर रविवार को दुनिया के महासागरों पर काम करने वालों की स्थिति पर दुनिया का ध्यान आकर्षित कराने के लिए मनाती है।

भारत और फिलीपींस के काथलिक क्षेत्रों से आने वाले बड़े अनुपात में सभी समुद्री यात्रियों और मछुआरों का एक तिहाई काथलिक होने का अनुमान है।

उनकी संख्या करीब 1.2 मिलियन है और वे विश्व के लिए करीब 110 टन समुद्री भोजन प्रदान करते हैं और वे 90 प्रतिशत वैश्विक व्यापार के लिए जिम्मेदार हैं।

वाटिकन संदेश: समुद्री यात्रियों की चुनौतियाँ

रविवार को, समग्र मानव विकास को बढ़ावा देने हेतु बने विभाग के अध्यक्ष कार्डिनल पीटर टर्कसन ने सागर रविवार 2018 के लिए समूद्री यात्रियों की प्रतिदिन की कठिनाइयों और चुनौतियों का विवरण देते हुए एक संदेश जारी किय।

उन्होंने कहा कि उन्हें "अपने परिवारों और प्रियजनों से दूर एक जहाज के सीमित स्थान में कई महीनों तक रहने के लिए मजबूर होना पड़ता है। उन्हें परिवारों के सबसे महत्वपूर्ण समारोहों (जन्मदिन, स्नातक समारोह, इत्यादि) में शरीक न हो पाना तथा बिमारियों और प्रियजनों की मृत्यु की घड़ी में भी उपस्थित न हो पाना शामिल है।"

भौतिक और आध्यात्मिक सहायता प्रदान करने में असमर्थ

कार्डिनल टर्कसन ने कहा कि मशीनीकरण ने बंदरगाहों में काम के तरीकों में परिवर्तन लाया है जिसकी वजह से चालक दल के सदस्यों को "आराम करने और व्यक्तिगत कार्यों को पूरा करने का प्रयाप्त समय नहीं मिल पाता और उन्हें जल्द बंदरगाह छोड़ना पड़ता है।

साथ ही अक्सर बंदरगाहों में पुरोहितों को जहाज के यात्रियों के पास पहुंचने नहीं दिया जाता है जिससे यात्रियों की भौतिक और आध्यात्मिक सहायता प्रदान करने में असमर्थ हैं।

कार्डिनल टर्कसन ने समुद्र में हिंसा और समुद्री डाकूओं के खतरों के बारे में चेतावनी दी, जो हाल के वर्षों में सुधार के बावजूद निरंतर सतर्कता की आवश्यकता है।

उन्होंने यह भी कहा कि कभी-कभी घर से दूर विदेशी बंदरगाहों में जहाजों और कर्मचारियों को काम छुड़वा दिया जाता है। "एक बार काम छुड़वा दिया गया तो समुद्री कार्यकर्ताओं को भोजन, वेतन, आप्रवासन स्थिति और कई अन्य मुद्दों में संघर्ष करने के लिए छोड़ दिया जाता है जब तक कि कल्याणकारी संगठन उन्हें सहायता नहीं करती।"

कार्डिनल टर्कसन ने कहा कि वाटिकन अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन द्वारा "शिपिंग क्षेत्र से समुद्री प्लास्टिक प्रदूषण को रोकने, कम करने और जहाजों से ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को रोकने" के लिए किए गए महत्वपूर्ण प्रयासों का समर्थन करता है।

अंत में, उन्होंने समुद्र के लोगों को सुरक्षा प्रदान करने और समुद्र के खतरों से सुरक्षित बंदरगाह तक मार्गदर्शन करने के लिए "समुद्र का तारा, मां मरियम" का आह्वान किया।

09 July 2018, 17:44