Cerca

Vatican News
क्रोटोने बंदरगाह में प्रवासी क्रोटोने बंदरगाह में प्रवासी  (ANSA)

इटली के राष्ट्रपति द्वारा जहाज गतिरोध समाप्त करने हेतु हस्तक्षेप

इटली के राष्ट्रपति सर्जो मतरेलारेला ने इतालवी तट रक्षक जहाज “दिच्चियोत्ती'' पर प्रवासियों के भाग्य पर सत्तारूढ़ गठबंधन के भीतर एक विवाद को समाप्त करने हेतु हस्तक्षेप किया है, जिन्हें गृह मंत्री द्वारा घाट पर उतारने से इनकार को अस्वीकार किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

इटली के राष्ट्रपति सर्जो मतरेला ने समुद्र में बचाए गए 67 प्रवासियों की दुर्दशा के बारे में अपनी चिंता व्यक्त करने के लिए प्रधान मंत्री जुसेप्पे कॉन्टे से संपर्क किया और सिसिलियन बंदरगाह त्रापानी के में लाया। गृह मंत्री मत्तेयो साल्विनी ने पहले प्रवासियों को तब तक उतरने की इजाजत देने से इंकार कर दिया था जब तक कि जांच में से कोई भी निर्धारित नहीं करता था कि उनमें से किसी ने अपने बचावकर्ताओं को हिंसा से उन्हें लीबिया लौटने से रोकने की धमकी दी थी।

लीबिया के तट पर रविवार को बचाये गये प्रवासियों को तट रक्षक जहाज “दिच्चियोत्ती” ने इतालवी-ध्वजांकित तेल रिग आपूर्ति टग से बोर्ड पर ले जाने के बाद सिसिली के त्रापानी बंदरगाह में लाया।

प्रवासियों पर नवीनतम रुख

इटली की सरकार ने पिछले महीने सत्ता संभालने के बाद प्रवासियों को रोकने का नवीनतम विवाद था।

राष्ट्रपति मतारेला ने उस मुद्दे पर हस्तक्षेप कर प्रधानमंत्री को फोन करने के बाद कॉन्टे ने आदेश दिया कि प्रवासियों को जहाज से बाहर निकलने की अनुमति दी जाए और अंत में गुरुवार की शाम को बंदरगाह में लगाने की अनुमति मिली।

एनजीओ और कलीसिया की अपील

इससे पहले गुरुवार को, संयुक्त राष्ट्र और गैर सरकारी संगठनों ने इतालवी अधिकारियों से आग्रह किया था कि प्रवासियों की स्वास्थ्य देखभाल के लिए जहाज से उतरने दें।

सहायता समूहों ने कहा कि चार दिनों से समुद्र में रोके गये शरणार्थियों और प्रवासियों को, जिनमें से महिलाएं, बच्चे और किशोरों की प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल तत्काल शुरु करने एवं बुनियादी आवश्यकताएँ प्रदान की जाये।

अपनी तरफ से, त्रापानी के धर्माध्यक्ष पिट्रो मारिया फ्रैगनेली ने जीवन बचाने के लिए "शीघ्र समाधान" की मांग की थी।

14 July 2018, 15:49