खोज

Vatican News
आध्यात्मिक साधना में प्रार्थना के क्षण आध्यात्मिक साधना में प्रार्थना के क्षण 

आरिच्चा में आध्यात्मिक साधना

सर्दी के कारण संत पापा वाटिकन के संत मार्था में रहने हेतु बाध्य हैं वे वाटिकन से ही आध्यात्मिक यात्रा में भाग लेंगे।

दिलीप संजय एक्का-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार, 02 मार्च 2020 (रेई) संत पापा ने अपने रविवारीय देवदूत प्रार्थना के उपरांत विश्वासियों से आग्रह किया कि वे रोमन कुरिया के लिए प्रार्थना करें जो ऱविवार शाम से अपनी आध्यात्मिक यात्रा की शुरूआत कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे सर्दी लगने के कारण अपने निवास में रहने हेतु बाध्य हैं वे रोमन कुरिया की वार्षिक आध्यात्मिक यात्रा हेतु आरिच्चा जाने के बदले संत मार्था के निवास से ही इसमें सहभागी होंगे।

विदित हो संत पापा फ्रांसिस रोम के बाहर अलबानों की पहड़ियों में रोमन कुरिया के सदस्यों संग रविवार दोपहार को एक सप्ताह की आध्यात्मिक साधना में भाग लेने हेतु प्रस्थान करने वाले थे।

“मैं यही से आध्यात्मिक साधना में भाग लूंगा, संत पापा ने कहा”। उन्होंने कहा कि यद्यपति वे शारीरिक रुप से आध्यात्मिक साधना में शरीक नहीं हो पा रहे हैं लेकिन वे कुरिया के अन्य सदस्य़ों से संत मार्था में रह कर ही उपवास विनती में शरीक होंगे।

हर वर्ष की भांति रोम शहर से बाहर आरिच्चा के कासा दिभिना मयेस्त्रो में रोमन कुरिया के सदस्यों हेतु आध्यात्यमिक साधना का आयोजन किया गया है जिसके संचालक येसु समाजी पुरोहित पियेत्रो बोभाती हैं जो ईशशस्त्रीय परमधर्मपीठीय समिति के सचिव हैं।

इस आध्यात्मिक साधना में चिंतन की विषयवस्तु “जलती हुई झाड़ी है” जो निर्गमण ग्रंथ से ली गई है। यह ईश्वर और मनुष्य के बीच मिलन को संत मत्ती के सुसमाचार औऱ स्त्रोत ग्रंथ की प्रार्थनाओं में निरूपित करता है।

क्यों आरिच्चा

संत पापा फ्रांसिस ने 2014 से ही कुरिया के सदस्यों की वार्षिक आध्यात्मिक साधना हेतु वाटिकन शहर के बाहर इस स्थान का चुनाव किया। उन्होंने अपने मनोभावों को पुरोहित चीरो बेनेदेत्तीनी के सामने प्रकट किये जो तब वाटिकन संचार विभाग के कार्यकारणी संचालक थे जिन्होंने इस बात पर बल देते हुए कहा कि यह स्थान येसु समाजियों हेतु आध्यात्मिक साधना का सामान्य स्थान है।

02 March 2020, 16:50