खोज

Vatican News
सन्त पापा फ्राँसिस के सात वर्षीय परमाध्यक्षीय काल पर कार्डिनल तागले सन्त पापा फ्राँसिस के सात वर्षीय परमाध्यक्षीय काल पर कार्डिनल तागले 

सन्त पापा के सात वर्षीय परमाध्यक्षीय काल पर कार्डिनल तागले

सन्त पापा फ्राँसिस के परमाध्यक्षीय काल की सातवीं वर्षगाँठ पर वाटिकन न्यूज़ से बातचीत में मनीला के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल लूईस अन्तोनियो तागले ने कहा कि सन्त पापा फ्राँसिस के संग सात वर्ष ईश्वर की निकटता का दृष्टान्त है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 13 मार्च 2020 (रेई, वाटिकन रेडियो):  सन्त पापा फ्राँसिस के परमाध्यक्षीय काल की सातवीं वर्षगाँठ पर वाटिकन न्यूज़ से बातचीत में मनीला के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल लूईस अन्तोनियो तागले ने कहा कि सन्त पापा फ्राँसिस के संग सात वर्ष ईश्वर की निकटता का दृष्टान्त है।

वाटिकन स्थित सुसमाचार प्रचार परिषद के अध्यक्ष कार्डिनल तागले ने कहा कि सात वर्ष पूर्व जब सन्त पापा फ्राँसिस विश्वव्यापी काथलिक कलीसिया की बागडोर सम्भालने के लिये चुने गये थे तब ही उनके मन में यह बात उठी थी कि प्रत्येक नया सन्त पापा ईश्वर द्वारा मानवजाति को दिया गया वरदान होता है।

13 मार्च 2013 को कार्डिनल जॉर्ज बेरगोलियो सन्त पापा फ्राँसिस के नाम से काथलिक कलीसया के परमाध्यक्ष नियुक्त किये गये थे।

ईश्वर की निकटता का एहसास

कार्डिनल तागले ने कहा कि सन्त पापा फ्राँसिस का विनीत आचरण एवं उनकी शिक्षाएँ विश्व के लिये एक महान वरदान है। वे हम सबके लिये विनम्रता का एक महान उदाहरण हैं। मनीला में सन्त पापा फ्राँसिस की यात्रा का स्मरण कर कार्डिनल तागले ने कहा कि इतने अधिक लोगों के बीच भी सन्त पापा फ्राँसिस ने उनके साथ वैयक्तिक सम्बन्ध बनाये रखा था जो एक सराहनीय तथ्य  है।  

कार्डिनल तागले ने बताया कि 2005 से 2008 तक वे जॉर्ज बेरगोलियो यानि सन्त पापा फ्राँसिस के साथ विश्व धर्माध्यक्षीय सम्मेलन की समिति में काम करते रहे थे। उन्होंने कहा कि मैं प्रभावित हूं कि वह कलीसिया के परमाध्यक्षीय पद पर एक सरल, विनोदी और जुनूनी व्यक्ति की नियुक्ति की गई जिनसे मैं पहले से परिचित रहा था। उन्होंने बताया कि सन्त पापा प्राँसिस के साथ अपनी मुलाकातों में उन्होंने इस तथ्य पर ग़ौर किया है कि सन्त पापा पहले काम-धन्धे की बात नहीं करते, वे पूछते हैं आप कैसे हैं? आपके माता-पिता कैसे हैं?  

बहिष्कृत, तिरस्कृत और ज़रूरतमन्द सबसे आगे

कार्डिनल तागले ने कहा कि हालांकि बहुत से लोग सन्त पापा को उचित ही समकालीन इतिहास और मानवता के सबसे प्रभावशाली लोगों में से एक के रूप में पहचानते हैं, मेरे लिये सन्त पापा फ्राँसिस एक साधारण एवं सरल व्यक्ति हैं जो ईश्वर की निकटता का एहसास दिलाते हैं।

उन्होंने कहा कि सन्त पापा फ्राँसिस के लिये फेंक दिये गये, अलग कर दिये गये लोग पहले आते हैं। उनके लिये रोगी, वयोवृद्ध, बेघर, विस्थापित, आप्रवासी और शरणार्थी पहले आते हैं। कार्डिनल तागले ने कहा कि सन्त पापा फ्राँसिस ने हम सब का ध्यान बहिष्कृत, तिरस्कृत और समाज के ज़रूरतमन्दों के प्रति आकर्षित कराया है तथा, विशेष रूप से, उन्होंने हमारा ध्यान सृष्टि और उसकी सुरक्षा के प्रति आकर्षित किया है। इन समस्त तथ्यों पर ध्यान केन्द्रित कर हम विश्व को सबके लिये एक बेहतर स्थल बना सकते हैं।

13 March 2020, 11:33