खोज

Vatican News
कार्डिनल प्रोस्पेरो ग्रेच ओ.एस.ए कार्डिनल प्रोस्पेरो ग्रेच ओ.एस.ए   (@VaticanMedia)

कार्डिनल प्रोस्पेरो ग्रेच का निधन

कार्डिनल प्रोस्पेरो ग्रेच ओ.एस.ए का निधन 30 दिसम्बर को रोम के सांतो स्पीरितो इन सास्सिया अस्पताल में हुआ।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 31 दिसम्बर 2019 (रेई)˸ कार्डिनल ग्रेच रोम के कई विश्व विद्यालयों में प्रोफेसर रह चुके हैं। वे विश्वास के सिद्धांत के लिए गठित परमधर्मपीठीय धर्मसंघ के सलाहकार भी थे।

कार्डिनल ग्रेच का जन्म 24 दिसम्बर 1925 को माल्टा के बिरगू में हुआ था। उनका बपतिस्मा नाम स्टैन्ली था। जब उन्होंने सन् 1943 में संत अगुस्टीनी ऑर्डर में प्रवेश किया, तब अपना नाम बदलकर प्रोस्पेरो रखा। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान उन्होंने तोपखाने में भी काम किया था।  

उनका पुरोहिताभिषेक 25 मार्च 1950 को हुआ था। उन्होंने रोम के परमधर्मपीठीय ग्रेगोरियन विश्व विद्यालय से डॉक्टरेट की पढ़ाई पूरी की थी।

सन् 1959 से 1961 तक वे माल्टा के अगुस्तीनी कॉलेज और मातेर अदमिराबिलीस कॉलेज में ईशशास्त्र के प्रोफेसर रहे।   

वे 1965 में संत अगुस्तीनी ईशशास्त्रीय संस्थान के डीन नियुक्त किये गये थे। सन् 1969 में उन्होंने पैट्रिस्टिक अध्ययन हेतु "अगुस्तीनियनुम" की स्थापना की, जिसके वे 1971 से 1979 तक डीन रहे।  

सन् 1984 में उन्हें विश्वास के सिद्धांत के लिए गठित परमधर्मपीठीय धर्मसंघ के सलाहकार नियुक्त किये गये। 1998 में वे सेमिनरियों का दौरा करने के लिए अधिकारी के रूप में भारत भेजे गये। 2003 में परमधर्मपीठीय ईशशास्त्रीय अकादमी के सदस्य नियुक्त हुए थे और 2004 में परमधर्मपीठीय बिब्लिकल आयोग के सदस्य नियुक्त हुए थे। वे स्तुदियुम नोवी तेस्तामेंती सोसाईटी एवं पैट्रिस्टिक अध्ययन के अंतरराष्ट्रीय एसोसियेशन के भी सदस्य रहे।

6 जनवरी 2012 को वे संत लेओन के महाधर्माध्यक्ष नियुक्त किये गये थे तथा उनका धर्माध्यक्षीय अभिषेक 8 फरवरी 2012 को सम्पन्न हुआ था।

संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें ने 18 फरवरी 2012 को उन्हें कार्डिनल नियुक्त किया था।

कार्डिनल ग्रेच के निधन के साथ कार्डिनलों की कुल संख्या 223 हो गयी है जिनमें से 124 कार्डिनल वोट दे सकते हैं जबकि 99 कार्डिनल सेवानिवृत होने के कारण वोट नहीं दे सकते।

कार्डिनल ग्रेच का अंतिम संस्कार 2 जनवरी को संत पेत्रुस महागिरजाघर में पूर्वाहन 11.30 बजे सम्पन्न किया जएगा।

31 December 2019, 15:38