खोज

Vatican News
वाटिकन के प्रेरितिक राजदूत महाधर्माध्यक्ष औजा वाटिकन के प्रेरितिक राजदूत महाधर्माध्यक्ष औजा  

परमाणु-हथियार-मुक्त दुनिया की दिशा में, महाधर्माध्यक्ष औजा

संयुक्त राष्ट्र संघ में वाटिकन के प्रेरितिक राजदूत महाधर्माध्यक्ष औजा ने संयुक्त राष्ट्र के 74वें महासभा को संबोधित कर वैश्विक सुरक्षा में परमाणु हथियारों की प्रमुखता को कम करने के लिए एक परमाणु-हथियार-मुक्त दुनिया की उपलब्धि की दिशा में आग्रह किया है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

न्यूयॉर्क, शनिवार 19 अक्टूबर (2019) : संयुक्त राष्ट्र  संघ में वाटिकन के प्रेरितिक राजदूत एवं स्थायी पर्यवेक्षक और महाधर्माध्यक्ष बेर्नारदितो औजा ने शुक्रवार, 18 अक्टूबर को न्यूयार्क स्थित संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में चल रहे 74वें महासभा को संबोधित किया।

महाधर्माध्यक्ष औजा ने नये अध्यक्ष को बधाई देते हुए कहा कि अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा एवं समिति के महत्वपूर्ण कार्य को आगे बढ़ाने में उनका पूर्ण योगदान रहेगा।

हाल ही में संपन्न व्यापक परमाणु परीक्षण प्रतिबंध संधि और परमाणु हथियारों के कुल उन्मूलन के लिए उच्च-स्तरीय ग्यारहवें सम्मेलन के बाद, हमारी महासभा का आयोजन किया गया है जिसमें सामान्य और पूर्ण निरस्त्रीकरण पर चर्चा होगी।

परमाणु हथियारों का उन्मूलन

महाधर्माध्यक्ष औजा ने कहा, “परमाणु हथियारों के कुल उन्मूलन के संबंध में, मैं एक बार फिर, उन शब्दों को याद करता हूँ, जब संत पापा फ्राँसिस ने 2017 में वाटिकन में आयोजित एक संगोष्ठी के प्रतिभागियों को संबोधित कर कहा था, "परमाणु हथियारों को रखने और उनका उपयोग" करने, दोनों की दृढ़ता से निंदा की जानी चाहिए, क्योंकि वे भय की मानसिकता को पैदा करते हैं, जो न केवल संघर्ष कर रहे लोगों को प्रभावित करता है, बल्कि संपूर्ण मानव जाति को प्रभावित करता है। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से परमाणु और विनाश के अन्य हथियारों द्वारा प्रदान की गई सुरक्षा की झूठी भावना से ग्रस्त नहीं होने का आह्वान किया। उन्होंने, एक मानव परिवार के सदस्यों के रूप में, सार्वभौमिक भ्रातृत्व और एकजुटता के मूल सिद्धांतों पर अपनी सुरक्षा का आधार बनाने को कहा।

महाधर्माध्यक्ष औजा ने कहा कि यह समिति परमाणु हथियारों के उन्मूलन को प्राप्त करने के लिए विशिष्ट अवधारणाओं और प्रस्तावों की एक विस्तृत वर्णक्रम पर विचार करती है। परमधर्मपीठ ने उनके विस्तृत परिक्षण को स्थापित करने के उद्देश्य से क्रियात्मक उपायों के माध्यम से वैश्विक सुरक्षा में परमाणु हथियारों की प्रमुखता को कम करने के लिए एक परमाणु-हथियार-मुक्त दुनिया की उपलब्धि की दिशा में आग्रह किया है। परमधर्मपीठ परमाणु हथियार रखने वाली सरकारों से किसी भी योजना पर पुनर्विचार करने का अनुरोध करता है, चाहे वह मिसाइल, लड़ाकू विमान, पनडुब्बी, या वॉरहेड हो। ये घटनाक्रम वैश्विक सुरक्षा में परमाणु हथियारों की भूमिका को कम करने के बजाय इसका विस्तार करते हैं।

परमाणु निरस्त्रीकरण

उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के पास मंचों की कोई कमी नहीं है जहां परमाणु निरस्त्रीकरण के घटकों पर विचार किया जा सकता है और बातचीत की जा सकती है। निरस्त्रीकरण आयोग के पास अपने वर्तमान एजेंडे में अंतरिक्ष के लिए परमाणु निरस्त्रीकरण, पारदर्शिता और विश्वास-निर्माण के उपाय हैं। यह अपने लक्ष्यों को पूरा करने के लिए अच्छी तरह से तैयार है। वास्तव में, अंतरिक्ष के लिए पारदर्शिता और आत्मविश्वास-निर्माण के उपाय, संपत्तियों के सत्यापन की रक्षा और निगरानी करके स्थिरता को मजबूत करेंगे जो निरस्त्रीकरण दायित्वों को मज़बूती से कार्य करने में मदद करते हैं।

दुर्भाग्य से, परमाणु हथियारों के उन्मूलन के समर्थन में सहमत होने के लिए, निरस्त्रीकरण पर सम्मेलन वर्षों से असमर्थ है। इसके सदस्यों को इस गतिरोध को दूर करने के लिए मिलकर काम करने की गंभीर जिम्मेदारी है। दक्षिण एशिया में बढ़ते तनाव ने परमाणु-सशस्त्र पड़ोसियों के बीच सशस्त्र संघर्ष के जोखिमों को बढ़ा दिया है। परमाणु हथियारों के लिए फ़िज़ाइल सामग्रियों के उत्पादन को रोकने के समझौते से ऐसे जोखिमों को कम करने में मदद मिलेगी। सभी परमाणु हथियार रखने वाले राज्य निरस्त्रीकरण सम्मेलन के सदस्य हैं। निरस्त्रीकरण सम्मेलन दृढ़ संकल्प के साथ, उन कदमों पर बातचीत शुरू कर सकता है जो दुनिया को एक सुरक्षा प्रतिमान की ओर ले जाएंगे जिसमें परमाणु हथियार अब मौजूद न हो।

महाधर्माध्यक्ष औजा ने अपना संबोधन यह कहते हुए समाप्त किया कि वे परमाणु निरस्त्रीकरण सत्यापन के लिए अंतर्राष्ट्रीय भागीदारी को मान्यता देते हैं  जिसमें परमधर्मपीठ पर्यवेक्षक के रूप में भाग लेता है। यह महत्वपूर्ण आत्मविश्वास-निर्माण प्रयास, जो कुछ समय से चल रहा है, सत्यापन तंत्र के लिए निवेश प्रदान करता है जो परमाणु हथियारों पर निर्भरता के बिना वैश्विक सुरक्षा को मजबूत करने के उद्देश्य का समर्थन करता है।

19 October 2019, 15:37