खोज

Vatican News
वाटिकन वाटिका का एक दृश्य वाटिकन वाटिका का एक दृश्य 

कचरे के पुनर्चक्रण के साथ हरित प्रयास में वाटिकन

वाटिकन सिटी के पास अपने कचरे को एकत्र करने और पुनर्चक्रण करने की अपनी प्रणाली है, जिसका अधिकांश भाग खाद बनाने में चला जाता है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 16 जुलाई 2019 (रेई)˸ संत पापा फ्रांसिस के आह्वान पर पर्यावरण के अधिक अनुकूल दुनिया बनाने की दिशा में कदम बढ़ाते हुए, वाटिकन में हरियाली बढ़ रही है।

वाटिकन सिटी एवं वाटिकन वाटिका की सफाई सेवाओं के प्रमुख राफेल इग्नासियो टोरनीनी के अनुसार, दुनिया में सबसे छोटा देश अब एकल-उपयोग वाले प्लास्टिक, या डिस्पोजेबल प्लास्टिक की बिक्री से पूरी तरह से दूर करने के लिए तैयार है।

पुनःचक्रण कचरा

राफेल ने अनसा न्यूज एजेंसी को बतलाया कि संग्रहित कचरे के निपटान के संबंध में वाटिकन भी यूरोप के कड़े मानकों के साथ तेजी से आगे बढ़ रहा है।

उन्होंने बताया कि 2016 में वाटिकन के अंदर विशेष अपशिष्ट निपटान के लिए एक डंपिंग सेंटर बनाया गया था, जिसे "इको-सेंटर" कहा जाता है। इसे 2018 में पुनर्गठित किया गया और बढ़ाया गया तथा अब यह यूरोपीय अपशिष्ट संहिताओं (ई डब्ल्यू सी)) की सूची के 85 विषयों को संभाल सकता है।

इस वर्ष के पहले 6 महीनों में, केंद्र ने 2% अवर्गीकृत कचरे या 98% वर्गीकृत कचरे को एकत्र किया। टोरनीनी ने कहा कि लक्ष्य 2020 में बिंदु शून्य प्रतिशत तक पहुंचने का है।

शहरी कचरे के संबंध में, उन्होंने कहा, वाटिकन ने 2016 में 35% छंटनी की शुरुआत की। आज यह 55% है। वे अगले 2 या 3 वर्षों में, 70-75% तक पहुंचने की उम्मीद करता है।

वाटिकन सिटी से बड़े पैमाने पर कचरे के डिब्बों से लगभग 1000 टन की मात्रा में कचरे इकट्ठे किये जाते हैं, जिसमें खाना पकाने के तेल और रसोई के कचरे बहुत कम होते हैं।

तोरनीनी ने बतलाया कि पाँच महीना पहले वाटिकन ने जैविक कचरों को एकट्ठा करना बंद कर दिया। अब उनसे करीब 400 टन कम्पोस्ट खाद तैयार किया जाता है।

उन्होंने कहा कि इटली में कचरे के निपटान की मात्रा को यथासंभव कम करने की कोशिश की जा रही है।

प्लास्टिक

उन्होंने कहा कि प्लास्टिक की समस्या एक वास्तविक समस्या है। प्लास्टिक को अलग जमा किया जाता है। वाटिकन ने एकल उपयोग वाले प्लास्टिक की बिक्री को सीमित कर दिया है और जल्द ही इसे पूरी तरह से रोक दिया जाएगा। संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्रांगण में अवर्गीकृत अपशिष्ट संग्रह एक समस्या है जो दुनिया भर से बड़ी संख्या में तीर्थयात्रियों और पर्यटकों के लिए खुला है। टोरनीनी और उनकी टीम ने वहाँ प्लास्टिक के लिए डिब्बे लगाए हैं जिसमें प्रति दिन लगभग 10 किलोग्राम कचरे एकत्र किये जाते हैं।

उन्होंने कहा कि वाटिकन में ऊर्जा के अन्य नवीकरणीय स्रोतों में भी विस्तार के प्रयास जारी हैं।

16 July 2019, 17:42