Cerca

Vatican News
चेंतेसिमुस अन्नुस फाऊँडेशन चेंतेसिमुस अन्नुस फाऊँडेशन 

चेंतेसिमुस अन्नुस द्वारा पुरस्कार वितरण समारोह

काथलिक कलीसिया के सामाजिक सिद्धांत को जानने का बढ़ावा देने के लिए "चेंतेसिमुस अन्नुस – प्रो पोंतिफिचे" फाऊँडेशन ने आर्थिक और सामाजिक मुद्दों के क्षेत्र में प्रकाशन हेतु "अर्थव्यवस्था एवं समाज" अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार समारोह का आयोजन किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

बुधवार को चेंतेसिमुस अन्नुस फाऊँडेशन ने विल्लानोवा विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ. मेरी हिस्कफिल्ड को उनकी किताब "अक्वीनस और बाजार ˸ मानवीय अर्थव्यवस्था की ओर" के प्रकाशन के लिए "अर्थव्यवस्था एवं समाज" अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया।

यह पुरस्कार एक ऐसे कार्य के लिए दिया गया, जिसमें कलीसिया के सामाजिक सिद्धांत पर गहन अध्ययन और उसे लागू करने हेतु बड़ा योगदान दिया गया है और जो असाधारण गुणवत्ता के साथ आम जनता के लिए सुलभ है।  

एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर पुरस्कार की घोषणा करते हुए चेंतेसिमुस अन्नुस फाऊँडेशन ने कहा कि डॉ. हिस्कफिल्ड की किताब अर्थशास्त्र की दुनिया और विश्वास की दुनिया के बीच एक आकर्षक संवाद प्रदान करता है।  

पुरस्कार समारोह के पूर्व डॉ. हिस्कफिल्ड ने वाटिकन न्यूज से किताब के बारे चर्चा की थी। उनसे पूछे जाने पर कि यदि हम अक्वीनस के सिद्धांत से शुरू करें कि मानव व्यक्ति कौन है और हम किस तरह के विश्व में जी रहे हैं, जिसकी सृष्टि ईश्वर ने की है, हम उन धारणाओं के प्रकाश में अर्थशास्त्र के बारे में क्या सोच सकते हैं?

उन्होंने उत्तर देते हुए कहा था कि संत थॉमस अक्वीनस से शुरू करते हुए सबसे सुन्दर यह है कि "वे मुझे यह बताने की अनुमति देते हैं कि अर्थशास्त्रियों ने हमें यह सिखाया है कि बाजार कैसे काम करते हैं...उनकी रूपरेखा हमें उन अंतर्दृष्टियों को समझने और उनका उपयोग करने की अनुमति देते हैं।"

डॉ. हिस्कफिल्ड ने इस बात की ओर संकेत दिया कि संत थॉमस एक मानव व्यक्ति के दृष्टिकोण से शुरू करते हैं जो एक अर्थशास्त्री के प्रयोग से भिन्न है। उनके अनुसार मानव व्यक्ति का परम आनन्द ईश्वर में निहित होता है लेकिन इस जीवन में खुशियां उन उच्च वस्तुओं के आसपास व्यवस्थित होती हैं जो जीवन को जीने लायक बनाती हैं।

30 May 2019, 16:46