खोज

Vatican News
कार्डिनल लियोनार्डो सांद्री और धर्माध्यक्ष जैकब मनाथोदाथ कार्डिनल लियोनार्डो सांद्री और धर्माध्यक्ष जैकब मनाथोदाथ 

विवादास्पद भूमि बिक्री का रिपोर्ट रोम को सौंपा गया

एर्नाकुलम-अंगमाली महाधर्मप्रांत के प्रेरितिक प्रशासक धर्माध्यक्ष जैकब मैनाथोड ने रोम को विवादास्पद भूमि बिक्री पर जांच रिपोर्ट सौंपी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

कोच्चि, शनिवार 6 अप्रैल 2019 (मैटर्स इंडिया) : केरल स्थित एर्नाकुलम-अंगमाली महाधर्मप्रांत के प्रेरितिक प्रशासक धर्माध्यक्ष जैकब मनाथोदाथ ने 5 अप्रैल को वाटिकन में पूर्वी कलीसियाओं के लिए बनी परमधर्मपीठीय धर्मसंघ के अध्यक्ष कार्डिनल लियोनार्डो सांद्री को कलीसिया की भूमि की बिक्री का विवादास्पद रिपोर्ट सौंपा। यह बात एर्नाकुलम-अंगमाली महाधर्मप्रांत के जनसंपर्क अधिकारी फादर पॉल करेंडन ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कही।

कार्डिनल सांद्री और धर्माध्यक्ष मनाथोदाथ ने सिरो-मालाबार कलीसिया के प्रमुख, कार्डिनल एलेनचेरी के खिलाफ फर्जी दस्तावेजों पर कोर्ट केस और भूमि बिक्री विवाद पर चर्चा करने में दो घंटे बिताए।

75 वर्षीय कार्डिनल ने कहा कि वे रिपोर्ट का गंभीरता से अध्ययन करेंगे और उचित कार्रवाई करेंगे। तब तक वाटिकन के अधिकारी चाहते हैं कि रिपोर्ट की सामग्री गोपनीय रखी जाए।

2015 के बाद से ‘रियल एस्टेट’ लेनदेन की एक श्रृंखला के परिणामस्वरूप महाधर्मप्रांत को वित्तीय नुकसान हुआ। 29 नवंबर, 2017 को कार्डिनल एलेनचेरी ने जांच के लिए एक समिति का गठन किया। समिति ने 4 जनवरी, 2018 को अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की।

शहर की पुलिस ने एक काथलिक द्वारा कार्डिनल एलेनचेरी, दो पुरोहितों और एक रियल एस्टेट एजेंट के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के बाद रियल एस्टेट लेन-देन की जांच शुरू की।

केरल उच्च न्यायालय ने पाया कि आपराधिक साजिश, विश्वास का उल्लंघन और धन के दुरुपयोग के संकेत देने के प्रथम प्रत्यक्ष सबूत थे। अदालत ने यह भी पाया कि शिकायतकर्ता ने मुकदमा पेश किया था क्योंकि इस मुद्दे पर संपत्ति निजी संपत्ति नहीं थी, लेकिन कार्यवाहक के रूप में कार्डिनल एलेनचेरी के साथ विश्वास में रखी गई संपत्ति थी।

संत पापा फ्राँसिस ने 22 जून, 2018 को धर्माध्यक्ष मनाथोदाथ को एर्नाकुलम-अंगमाली महाधर्मप्रांत का प्रेरितिक प्रशासक के रूप में नियुक्त किया।

उनकी नियुक्ति, कार्डिनल सांद्री के अनुसार, महाधर्मप्रांत में अचल संपत्ति लेन-देन के साथ-साथ पुरोहितों और धर्माध्यक्षों के बीच "सनकी विभाजन" के बारे में परमधर्मपीठ की चिंता को दर्शाती है।

06 April 2019, 16:20