खोज

Vatican News
पापस्वीकार संस्कार ग्रबण करते हुए संत पापा पापस्वीकार संस्कार ग्रबण करते हुए संत पापा  

प्रभु के लिए 24 घंटे: ईश्वर की दया को पाने का अवसर

संत पापा फ्राँसिस ने संत पेत्रुस महागिरजाघर में प्रभु के लिए 24 घंटे धर्मविधि को शुरु किया। उन्होंने इस धर्मविधि की पहल 6 साल पहले की थी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार 30 मार्च 2019 ( वाटिकन सिटी) : संत पापा फ्राँसिस ने शुक्रवार 29 मार्च शाम को संत पेत्रुस महागिरजाघर में प्रभु के लिए 24 घंटे की पारंपरिक धर्मविधि की अध्यक्षता की। इसका आयोजन नवीन सुसमाचार प्रचार हेतु गठित परमधर्मपीठीय सम्मेलन द्वारा किया गया था।

इस वर्ष की धर्मविधि की विषय-वस्तु संत योहन के सुसमाचार से लिया गया है: ‘मैं भी आपको दोषी नहीं ठहराता। (8:11)

परमधर्मपीठीय सम्मेलन का कहना है कि, "इस दिन, पवित्र संस्कार की आराधना के दौरान हम सभी येसु के उस छवि पर मनन चिंतन और मनपतिवर्तन करने के लिए आमंत्रित किये जाते हैं जहाँ येसु के सामने लोग व्यभिचार में पकड़ी गई महिला को लाते हैं ताकि येसु उसका न्याय करे परंतु येसु ने लोगों की आशा के विपरीत महिला को ईश्वर की महान दया और प्रेम का अनुभव कराया। उसे नया जीवन दिया।

पहल में विकास

नवीन सुसमाचार प्रचार हेतु गठित परमधर्मपीठीय सम्मेलन के अध्यक्ष मोनसिन्योर क्रिस्टोफ मार्क्ज़ानकोविच ने कहा," हमने इसकी शुरुआत इसलिए की क्योंकि विश्वासी संत पापा के साथ पवित्र संस्कार की आराधना और शांति के साथ सामूहिक प्रार्थना करना चाहते थे और इसे विश्वास के वर्ष के दौरान शुरू किया गया था और इस आराधना विधि से मिली लोगों की प्रतिक्रिया द्वारा हमने प्रभु के लिए 24 घंटे की पहल की, जो मूल रूप से पवित्र संस्कार की आराधना और पापस्वीकार संस्कार पर आधारित एक पहल है।" उन्होंने कहा कि बहुत से लोग परमधर्मपीठीय सम्मेलन के अपने सुझाव और प्रतिक्रिया भेजते हैं।

ईश्वर की दया को ग्रहण करना

मोन्सिन्योर ने इस बात पर जोर दिया कि भले ही कोई व्यक्ति कई वर्षों से पापस्वीकार नहीं किया है और प्रभु के लिए 24 घंटों में भाग लेने के बारे में सोच रहा है, उसे ईश्वर की दया पाने से डरना नहीं चाहिए। "दयालु पिता सभी को गले लगाते हैं ... और मैं सभी को दयालु पिता से संपर्क करने और भयभीत न होने के लिए प्रोत्साहित करता हूँ..."

दुनिया भर के प्रत्येक धर्मप्रांत में एक गिरजाघर लगातार 24 घंटे इस पहल के हिस्से के रूप में खुला रहेगा। नवीन सुसमाचार प्रचार हेतु गठित परमधर्मपीठीय सम्मेलन ने प्रभु के लिए 24 घंटों में भाग लेने वालों के लिए कई भाषाओं में एक पुस्तिका तैयार की है।

30 March 2019, 16:35