खोज

Vatican News
येसु ख्रीस्त राजा येसु ख्रीस्त राजा  (©Renáta Sedmáková - stock.adobe.com)

प्रभु सेवक एवं धन्य घोषणा को मिला संत पापा का अनुमोदन

संत पापा फ्राँसिस ने मंगलवार को 8 नए प्रस्तावों की घोषणा को अधिकृत किया। कलीसिया में 9 नए प्रभु सेवक और 5 लोगों को धन्य का सम्मान दिया गया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 20 मार्च 2019 (वाटिकन न्यूज) :  संत पापा फ्राँसिस ने मंगलवार 19 मार्च को कार्डिनल आन्जेलो बेच्चू के नेतृत्व में परमधर्मपीठीय सन्त प्रकरण परिषद द्वारा प्रभु सेवक एवं धन्य घोषणा के लिये 14 पुरुषों और महिलाओं के प्रस्तावित आज्ञप्तियों को अनुमोदन दे दिया है। उनमें से एक इतालवी मिशनरी जो म्यांमार में शहीद हुए थे और रोमानिया में विश्वास के लिए 7 धर्माध्यक्ष मारे गए थे।

स्पेन की धन्य सिस्टर मरिया एमीलिया रिक्वेल्मीये जायास पवित्र साक्रामेन्ट और निष्कलंक कुंवारी मरियम के मिशनरी धर्मबहनों के धर्मसमाज की संस्थापिका का जन्म स्पेन के ग्रानादा में 5 अगस्त1847 को हुआ और उनकी मृत्यु 10 दिसम्बर 1940 को हुई।

7 रोमानियाई धर्माध्यक्षों, जिनकी हत्या 1950 और 1970 के बीच देश में कम्युनिस्ट शासन के दौरान कर दी गई।  वे हैं धन्य धर्माध्यक्ष वालेरीयू ट्रायन फ्रेनियू, धन्य धर्माध्यक्ष वासिल आफ्टेनी, धन्य धर्माध्यक्ष इयान सूचियु, धन्य धर्माध्यक्ष टिट लिवियू चिइनज़ु,  धन्य धर्माध्यक्ष इयान बालन, धन्य धर्माध्यक्ष एलेसांड्रू रुसु और धन्य धर्माध्यक्ष इलियु होसु।

इतालवी पीआइएमइ मिशनरी धन्य फादर अल्फ्रेडो क्रेमोनी का जन्म 16 मई, 1902 इटली में हुआ था और 7 फरवरी, 1953 को म्यांमार के डोनोकू गाँव में उनकी हत्या कर दी गई थी। द्वितीय विश्व युद्ध के अंत में जापानी सैनिकों की वापसी के बाद, बर्मा में फादर क्रेमोनी सरकारी सैनिकों और करेन विद्रोहियों के बीच संघर्ष के शिकार हो गये। सरकार को उनपर और उनके ख्रीस्तियों पर विद्रोहियों का समर्थन करने का संदेह था। फादर क्रेमोनी ने सरकारी बलों को यह समझाने की कोशिश की कि वे न तो विद्रोही थे और न ही उनके हमदर्द। लेकिन इससे पहले कि वह समझाते, सैनिकों ने उन्हें और गाँव के मुखिया को गोली मार दी गई। फादर क्रेमोनी अपने लोगों के लिए जान देने की वजह से  तुरंत "शहीद" घोषित हुए।

इटली के धर्मप्रांतीय पुरोहित प्रभु सेवक फ्राँचेस्को मरिया दी फ्रांचा, पवित्र हृदय की कपुचिन धर्मबहनों के संस्थापक का जन्म मेस्सीना में 19 फरवरी 1853 को हुआ और उनकी मृत्यु 22 दिसम्बर 1913 को रोक्कासुमेरा (इटली) में हुई।

इटली की प्रभु सेविका सिस्टर मरिया ह्यूबर संत फ्राँसिस के तेरतियरी धर्मबहनों के धर्मसमाज की संस्थापिका का जन्म बेस्सानोने (इटली) में 22 मई 1653 को हुआ और 31 जुलाई 1705 को मृत्यु हुई.

इटली की प्रभु सेविका मारिया तेरेसा कैमरा, दयामयी माता की बेटियों के धर्मसमाज की संस्थापिका का जन्म 8 अक्टूबर, 1818 को ओवाडा (इटली) में हुआ था और 24 मार्च, 1894 को उसकी मृत्यु हो गई।

इटली की प्रभु सेविका सिस्टर मारिया तेरेसा गब्रिएली, गरीब महिलाओं के धर्मबहनों के धर्मसमाज - पालाज़ोलो इंस्टीट्यूट की सह-संस्थापिकाका जन्म 13 सितंबर, 1837 को बर्गमो (इटली) में हुआ और 6 फरवरी, 1908 को उनकी मृत्यु हुई।

इटली की प्रभु सेविका सिस्टर जोवान्ना फ्रांसेस्का देल्लो स्पीरितो सान्तो (बपतिस्मा नाम, लुइसा फेरारी), इन्कारनेट वर्ड ऑफ फ्रांसिस्कन मिश्नरी सिस्टर्स ऑफ इंस्टीट्यूट की संस्थापिका का जन्म रेजिया एमिलिया (इटली) में 14 सितंबर, 1888 को हुआ और 21 दिसंबर, 1984 को फिसोले (इटली) में निधन हो गया।

20 March 2019, 16:07