खोज

Vatican News
नाबालिगों की सुरक्षा पर वाटिकन में शीर्ष सम्मेलन नाबालिगों की सुरक्षा पर वाटिकन में शीर्ष सम्मेलन 

दुराचार और उदासीनता से पीड़ित लोगों की आवाज़

काथलिक कलीसिया के वरिष्ठ नेताओं ने गुरुवार को पुरोहितों द्वारा यौन दुराचार एवं क्रूर उदासीनता के शिकार बने लोगों के साक्ष्य सुनें। वाटिकन में, "कलीसिया में नाबालिगों की सुरक्षा" शीर्षक से आयोजित शीर्ष सम्मेलन में गुरुवार अपरान्ह विश्व के विभिन्न क्षेत्रों से पाँच व्यक्तियों ने उनके द्वारा सहे आघात पर अपने साक्ष्य प्रस्तुत किये।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 22 फरवरी 2019 (रेई, वाटिकन रेडियो): काथलिक कलीसिया के वरिष्ठ नेताओं ने गुरुवार को पुरोहितों द्वारा यौन दुराचार एवं क्रूर उदासीनता के शिकार बने लोगों के साक्ष्य सुनें. वाटिकन में, "कलीसिया में नाबालिगों की सुरक्षा" शीर्षक से आयोजित शीर्ष सम्मेलन में गुरुवार अपरान्ह विश्व के विभिन्न क्षेत्रों से पाँच व्यक्तियों ने उनके द्वारा सहे आघात पर अपने साक्ष्य प्रस्तुत किये.

न्याय की स्थापना का प्रयास करें

सर्वप्रथम दक्षिण अमरीका के चीले राष्ट्र के एक व्यक्ति ने यौन दुराचार की पीड़ा का बयान प्रस्तुत किया. उन्होंने कहा कि यौन दुराचार लोगों पर घोर मानसिक आघात करता है जिसके प्रभाव आजीवन बने रहते हैं. व्यक्ति ने अपना नाम नहीं बताया किन्तु कहा कि एक काथलिक होने के नाते यौन दुराचारों की बात करना आसान नहीं है. पीड़ा सहने के बाद उन्होंने कलीसिया के अधिकारियों से इस विषय में बातचीत का प्रयास किया था किन्तु किसी ने भी उनपर विश्वास नहीं किया जबकि, यौन दुराचार के पीड़ितों को सुनना, उनपर विश्वास करना तथा उनका सम्मान किया जाना अनिवार्य है तब ही इस अभिशाप को रोका ा सकेगा. उनकी आशा है कि कलीसिया के वरिष्ठ अधिकारी न्यायपूर्वक इस गम्भीर प्रश्न पर विचार कर न्याय का पक्ष लेंगे.    

आर्थिक निर्भरता थी शर्त

अफ्रीका की एक महिला ने विडियो टेप द्वारा अपना साक्ष्य प्रस्तुत किया. महिला ने बताया कि 15 वर्ष की आयु से एक पुरोहित के साथ उसके यौन सम्बन्ध थे जो 13 वर्षों तक कायम रहे. महिला तीन बार गर्भवती हुई और पुरोहित के कहने पर उसने तीन बार गर्भपात किया. िला ने कहा कि उसे यह कहते कष्ट होता है कि यौन सम्बन्ध से इनकार करने पर पुरोहित ने कई बार उसकी पिटाई भी की. किसी अन्य व्यक्ति के साथ मित्रता पर भी उसके साथ मार पीट की जाती थी. महिला ने बताया कि वह पीड़ित करनेवाले पुरोहित पर्थिक रूप से निर्भर थी और यहीर्त थी, जब-जब यौन सम्बन्ध के लिये राज़ी हुई उसे पैसे मिले और जब नहीं हुई तबसकी पिटाई की गई.      

सुनना सीखें  

साक्ष्य प्रस्तुत करने वाले सभी पीड़ितों ने कलीसियाई नेताओं का आह्वान किया कि वे पीड़ितों की आवाज़ सुनें तथा प्रभु येसु का आदर्श ग्रहण करते हुए न्याय और दयापूर्वक उनकी व्यथा को दूर करने के प्रयास करें. पूर्वी यूरोप के एक पुरोहित ने भी अपना साक्ष्य प्रदान किया और बताया कि उनके साथी पुरोहितों ने उनकी मदद की जिसके लिये काथलिक कलीसिया में होना वे अपना सौभाग्य समझते हैं.

संयुक्त राज्य अमरीका के एक पुरोहित ने बताया कि सही गई पीड़ा के विषय में उन्होंने आठ वर्ष पूर्व अपने धर्माध्यक्ष को एक पत्र लिखकर सबकुछ बताया था किन्तु आज तक उन्हें इसका कोई जवाब नहीं मिला है. उन्होंने धर्माध्यक्षों से कहा कि यौन दुराचार से पीड़ित लोग धर्माध्यक्षों से "नेतृत्व, दूरदृष्टि और साहस" की आशा करते हैं.

22 February 2019, 11:08