Cerca

Vatican News
जेस्विट फादर ज़ोल्लनर जेस्विट फादर ज़ोल्लनर 

फरवरी में होने वाली सभा की तैयारी में संयोजक समिति के कार्य

जेस्विट फादर हान्स ज़ोल्लनर ने नाबालिगों की सुरक्षा पर आगामी फरवरी में होने वाली सभा की तैयारी में संयोजक समिति के कार्यों की जानकारी दी।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 24 नवम्बर 2018 (रेई)˸ कलीसिया में नाबालिगों की सुरक्षा हेतु वाटिकन में एक सभा का आयोजन किया गया है और जिसकी तैयारी हेतु एक समिति गठित की गयी है।

वाटिकन प्रेस कार्यालय ने शुक्रवार को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि यह संत पापा फ्राँसिस के निर्णय का हिस्सा है। वाटिकन न्यूज एवं लोसलवातोरे रोमानो को दिये एक साक्षात्कार में नाबालिगों की सुरक्षा हेतु गठित परमधर्मपीठीय समिति के सदस्य जेस्विट फादर हान्स ज़ोल्लनर ने आगामी सभा की कई जानकारियाँ साझा की।   

समिति का लक्ष्य क्या है?

फादर हान्स ने कहा, "हर चीज के लिए तैयारी की आवश्यकता होती है और अच्छी तैयारी के लिए किसी को भार वहन करना पड़ता है।" उन्होंने कहा कि फरवरी में होने वाली सभा कलीसिया के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर होगी। अतः यह आवश्यक है कि इसकी तैयारी अच्छी तरह से की जाए। इसके लिए जानकारी, चिंतन, प्रार्थना, पश्चाताप तथा एक ठोस नये कार्य की आवश्यकता को साक्षा किये जाने की तत्काल जरूरत है। सिनॉडल यात्रा के प्रति जागरूकता को बतलाया जाना जरूरी है। संत पेत्रुस के साथ एवं संत पेत्रुस के नेतृत्व में, उन सभी चीजों को करना है जिन्हें हमें करना चाहिए। जैसा कि संत पापा ने ईश प्रजा को सम्बोधित अपने पत्र में कहा है, "एक ऐसी संस्कृति का निर्माण कर सकने के लिए, जिसमें उन चीजों को घटित होने देने से रोका जा सके, उसे ढंकने एवं स्थायी बनाये जाने की संभावना को दूर किया जाना चाहिए।" सभा का आयोजन किया जाना, एक साथ चर्चा करने, जागरूकता लाने, लज्जा की भावना, पश्चाताप, प्रार्थना, ठोस कदम उठाने के लिए आत्मपरीक्षण करने एवं न्याय तथा सच्चाई हेतु निर्णय लेने में मदद देगा।   

सभा के प्रतिभागी

यही कारण है कि पीड़ितों, विशेषज्ञों, लोकधर्मियों, शिक्षितों एवं महिलाओं के साथ सलाह-मशविरा करना महत्वपूर्ण है। यह कार्य नाबालिगों के लिए गठित परमधर्मपीठीय समिति के साथ किया जाएगा जिसके अध्यक्ष कार्डिनल ओमाले हैं।

वाटिकन ने घोषणा की है कि फरवरी की सभा में धर्माध्यक्षीय सम्मेलनों के अध्यक्षों के साथ-साथ पूर्वी रीति की कलीसियाओं के शीर्ष एवं अन्य प्रतिनिधि भी भाग लेंगे। सभा में सी.डी.एफ के प्रीफेक्ट, लोकधर्मियों के सुसमाचार प्रचार हेतु गठित परमधर्मपीठीय धर्मसंघ, ऑरियटल कलीसियाएँ, धर्माध्यक्ष, धर्मसंघी एवं धर्मसमाजी संस्था के अधिकारी, लोकधर्मी, परिवार एवं जीवन के लिए गठित परमधर्मपीठीय परिषद एवं अंतरराष्ट्रीय धर्मसंघों के परमाधिकारियों को भी निमंत्रण दिया गया है।

माल्टा के धर्माध्यक्ष शिक्लूना ने कहा कि सभा में संस्थाओं के सर्वोच्च अधिकारियों की उपस्थिति आवश्यक है क्योंकि उनके अधीन सैंकड़ों धर्मसमाजी होते हैं जिनमें से अधिकतर पुरोहित हैं किन्तु कुछ समर्पित लोकधर्मी भी हैं और शिक्षा, प्रशिक्षण एवं प्रेरितिक कार्य के क्षेत्रों में महत्वपूर्ण हितधारक होते हैं। महिला धर्मसमाज की परमाधिकारिणीयाँ भी सभा में भाग लेंगी।

24 November 2018, 14:14