Vatican News
 कमलूप्स में पूर्व आदिवासी भारतीय आवासीय स्कूल में 215 बच्चों के सामूहिक कब्र            कमलूप्स में पूर्व आदिवासी भारतीय आवासीय स्कूल में 215 बच्चों के सामूहिक कब्र   (AFP or licensors)

संत पापा ने कनाडा में पाये गये बच्चों के अवशेष पर शोक व्यक्त की

संत पापा फ्रांसिस ने कनाडा के आदिवासियों के लिए पूर्व आवासीय विद्यालय में पाये गये सामूहिक कब्रस्थान के बच्चों के लिए दुःख व्यक्त किया एवं राजनीतिक एवं धार्मिक नेताओं से अपील की कि इस मामले को उजाले में लाने के लिए एक साथ कार्य करें एवं मेल-मिलाप और चंगाई के रास्ते के लिए प्रतिबद्ध हों।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटकिन सिटी

देवदूत प्रार्थना के उपरांत संत पापा ने विश्वासियों को सम्बोधित कर कहा, “बड़े दुःख के साथ मैंने कनाडा से आनेवाले समाचार को सुना, बिल्कुल हैरान करनेवाली खोज जिसमें 215 बच्चों एवं छात्रों के अवशेष, ब्रिटिश कोलोम्बिया प्रांत के कमलूप्स भारतीय आवासीय स्कूल में मिले हैं। मैं कनाडा के धर्माध्यक्षों और पूरी काथलिक कलीसिया के साथ कनाडा के लोगों के प्रति अपना आध्यात्मिक सामीप्य व्यक्त करता हूँ और इस चौंकाने वाली खबर से आहत हूँ। यह दुखद खोज अतीत के दुःख एवं पीड़ा की याद दिलाती है। कनाडा के राजनीतिक एवं धार्मिक नेता दृढ़ता के साथ एक होकर इस दुखद कहानी को प्रकाश में लाने हेतु कार्य करें तथा विनम्रता से मेल-मिलाप एवं चंगाई के लिए प्रतिबद्ध हों।"

उपनिवेश विचारधारा से बाहर निकलें

उन्होंने कहा कि ये कठिन समय हम सभी से जोरदार अपील करती है कि हम उपनिवेश बनाने से ऊपर उठें और आज के उपनिवेशी विचारधारा से बाहर निकलें तथा वार्ता, आपसी सम्मान और अधिकारों की पहचान एवं कनाडा के सभी बच्चों के सांस्कृतिक मूल्यों के साथ एकजुट होकर आगे बढ़ें।

हम कनाडा के आवासीय स्कूल के सभी मृत बच्चों की आत्माओं को प्रभु को समर्पित करते हैं तथा कनाडा के दुखित आदिवासी परिवारों एवं समुदायों के लिए प्रार्थना करें। संत पापा ने मौन रहकर उनके लिए प्रार्थना की।

बुरकिना फासो के लोगों के लिए प्रार्थना

उसके बाद संत पापा ने बुरकिना फासो में शुक्रवार और शनिवार के बीच की रात को हुई हत्या के शिकार लोगों के लिए प्रार्थना की। उन्होंने कहा, "मैं बुरकिना के सभी लोगों एवं परिवारों के करीब हूँ जो उन बार-बार किये गये हमले से परेशान हैं। अफ्रीका को शांति चाहिए हिंसा नहीं।"  

धन्य सिस्टर मरिया लौरा मेइनेत्ती

कोमो धर्मप्रांत के कियावेन्ना की सिस्टर मरिया लौरा मेइनेत्ती की आज धन्य घोषणा हुए जो क्रूस की पुत्रियों के धर्मसमाज की सदस्य थी। उनकी हत्या 21 वर्षों पहले शैतानी संप्रदाय की तीन लड़कियों द्वारा क्रूरतापूर्वक की गई थी। वे जो युवाओं को सब कुछ से बढ़कर प्यार करती थीं इन तीनों लड़कियों को माफ कर दिया जो बुराई के वश में थीं उन्होंने हमारे लिए जीवन की योजना छोड़ दी है कि हर छोटी चीज को विश्वास, प्रेम और उत्साह के साथ करें। ईश्वर हम सभी को विश्वास, प्रेम और उत्साह प्रदान करे। तब संत पापा ने ताली बजाकर नयी धन्य को सम्मानित किया।

पवित्र भूमि एवं म्यानमार के लिए प्रार्थना   

उसके बाद संत पापा ने अंतरराष्ट्रीय काथलिक एक्शन दल द्वारा 8 जून को एक मिनट के लिए दोपहर 1.00 बजे आयोजित शांति प्रार्थना की याद दिलायी। उन्होंने कहा, "आइये हम खासकर, पवित्र भूमि एवं म्यानमार के लिए प्रार्थना करें।"      

तत्पश्चात् संत पापा ने रोम, इटली एवं दूसरे देशों के तीर्थयात्रियों का अभिवादन किया। उन्होंने तूरिन में प्रोजेत्तो कोनत्तातो के बच्चों एवं कोरबेत्ता की चंगाई की माता के भक्त दल, चेरिन्योला के परिवारों एवं राष्ट्रीय एम्बुलेंस संघ, उसके कर्मचारी एवं कलाकारों को खास रूप से याद किया। उनके उपहार के लिए धन्यवाद देते हुए संत पापा ने दक्षिणी पूलिया के सालेन्तो के लोगों का अभिवादन किया।

अन्त में, उन्होंने प्रार्थना का आग्रह करते हुए सभी को शुभ रविवार की मंगलकामनाएं अर्पित की।  

06 June 2021, 16:17