Vatican News
फातिमा की माता मरियम फातिमा की माता मरियम  (AFP or licensors)

स्वर्गारोहन का महापर्व एवं फातिमा की माता मरियम की याद

आज काथलिक कलीसिया प्रभु के स्वर्गारोहन का महापर्व मनाती है। संत पापा फ्रांसिस ने इस अवसर पर प्रेषित ट्वीट संदेश में प्रभु येसु के स्वर्गारोहन के साथ साथ उनके द्वारा प्रदान किये गये मिशन की याद की एवं उसे पूरा करने के लिए पवित्र आत्मा से प्रार्थना की। उन्होंने फातिमा की माता मरियम से प्रार्थना करने का आह्वान किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 13 मई 2021 (रेई)- संत पापा फ्राँसिस ने 13 मई के ट्वीट में लिखा, "स्वर्गारोहन का महापर्व हमारी नजर को पृथ्वी की चीजों से ऊपर उठाता है, साथ ही साथ, यह हमें, यहाँ पृथ्वी पर प्रभु द्वारा प्रदान किये गये मिशन का स्मरण दिलाता है। पवित्र आत्मा उस अच्छे संघर्ष में हमारा मार्गदर्शन करे जिसको हमें करना है।"

दूसरा ट्वीट

अपने दूसरे ट्वीट संदेश में संत पापा ने फातिमा की माता मरियम की याद की तथा उनसे प्रार्थना करने का आह्वान किया।

उन्होंने लिखा, "हमारा जीवन और दुनिया का इतिहास ईश्वर के हाथों में हैं। आइये, हम कलीसिया, अपने आपको एवं सम्पूर्ण विश्व को कुंवारी मरियम के निष्कलंक हृदय को अर्पित करें। आइये, हम शांति के लिए, महामारी के अंत के लिए, पश्चातापी भावना के लिए एवं हमारे मन-परिवर्तन के लिए प्रार्थना करें।"  

13 मई 1917 को पुर्तगाल के कोवा दा इरिया गाँव में कुँवारी मरियम ने तीन चरवाहे बच्चों को पहली बार दर्शन दिया था जो अपने हाथ में रोजरी ली हुई थी। लुसिया, जसिन्ता और फ्राँसिस ने माता मरियम के 6 दर्शन किये थे। उनमें से यह पहला दर्शन था। माता मरियम ने उन्हें दर्शन देकर कहा था, "क्या तुम अपने आपको ईश्वर को समर्पित करना चाहते हो, उन सभी पीड़ितों के लिए जिनको वे तुम्हारे लिए, उनके पापों के प्रायश्चित एवं मन-परिवर्तन हेतु भेजेंगे।"  

13 May 2021, 16:06