खोज

Vatican News

पोप ने अपना नाम दिवस कोविड-19 वैक्सिन लेनेवाले गरीबों के साथ मनाया

संत पापा फ्रांसिस ने शुक्रवार 23 अप्रैल को वाटिकन में कोविड-19 वैक्सिन ले रहे रोम के गरीब एवं आवासहीन लोगों से भेंट की जो वैक्सिन की दूसरी डोज ले रहे हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 23 अप्रैल 2021 (रेई)- संत जोर्ज के पर्व जिसको संत पापा फ्रांसिस अपना नाम दिवस मनाते हैं, अक्सर इस अवसर पर वे दूसरों को कुछ दान करते हैं, इस बार उन्होंने इसके लिए रोम के गरीबों एवं बेघर लोगों को चुना।

संत पापा ने न केवल गरीब एवं बेघर लोगों को कोविड-19 का टीका प्रदान किया है बल्कि उनकी मदद करनेवाले करीब 600 स्वयंसेवकों को भी टीका पाने का अवसर दिया है।

इतना ही नहीं, वे वाटिकन के पौल षष्ठम सभागार गये जहाँ लोगों को टीका प्रदान किया जा रहा था और उनसे मुलाकात की।

पोप स्वयंसेवकों एवं धर्मबहनों से मुलाकात करने के लिए रूके
पोप स्वयंसेवकों एवं धर्मबहनों से मुलाकात करने के लिए रूके

आकस्मिक मुलाकात

वाटिकन प्रेस कार्यालय द्वारा मिली जानकारी अनुसार संत पापा ने टीका लेनेवाले लोगों के साथ करीब आधा घंटा बिताया। वे सभागार के विभिन्न जगहों में गये तथा लोगों का अभिवादन किया।  

सभागार छोड़ने के पहले वे पास्का अण्डा का एक विशाल चॉकलेट देने के लिए रूके जिसे स्वयंसेवकों ने स्वास्थ्य नियमों का पालन करते हुए लोगों के बीच बांटा।

उपस्थित लोगों ने संत पापा को पर्व दिन की शुभकामनाएँ देते हुए गीत गाया।

प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि "जब वे आनंदमय और सौहार्दपूर्ण माहौल में विभिन्न स्वयंसेवकों से मिलने के लिए रूके, तब उन्हें धन्यवाद दिया तथा उन्हें अपने कठिन कार्य को जारी रखने का प्रोत्साहन दिया।" बाद में संत पापा के भिक्षादान विभाग के अध्यक्ष कार्डिनल कॉनराड क्राजेवस्की ने भी स्वयंसेवकों एवं स्वास्थ्यकर्मियों को धन्यवाद दिया जिन्होंने वैक्सिन अभियान का आयोजन किया है।

संत पापा ने चॉकलेट का एक टुकड़ा लिया
संत पापा ने चॉकलेट का एक टुकड़ा लिया

रोम में स्वयंसेवक

फाईजर बायोनटेक वैक्सिन ग्रहण करनेवाले इन लोगों ने पुण्य सप्ताह के दौरान 1,400 की संख्या में पहला डोज लिया था।  

संत पापा के भिक्षादान विभाग ने बृहस्पतिवार को घोषित किया था कि संत पापा अपना नाम दिवस एक आश्चर्य के साथ मनायेंगे। यह घोषणा तब पूरी हुई जब संत पापा ने रोम के सबसे गरीब लोगों के साथ व्यक्तिगत मुलाकात की।

दल में मिशनरीस ऑफ चैरिटी एवं संत इजिदियो समुदाय, साथ ही साथ "मेदिचिना सोलिदाले" से मदद प्राप्त करनेवाले लोग थे।

वाटिकन ने जरूरतमंद लोगों को वैक्सिन प्रदान करना जनवरी में शुरू किया था, जब वाटिकन के कर्मचारियों ने भी वैक्सिन लेना शुरू किया था।

23 April 2021, 15:52