खोज

Vatican News
पुनरजीवित प्रभु की प्रतिमा पुनरजीवित प्रभु की प्रतिमा 

ईश्वर कभी हार नहीं मानते, संत पापा फ्राँसिस

संत पापा फ्राँसिस ने ट्वीट कर सभी ख्रीस्तियों को पुनर्जीवित मसीह के साथ पक्का संबंध बनाने, उक्रेन में शांति हेतु प्रार्थना करने और रोम स्थित पवित्र हृदय काथलिक महाविद्यालय के वार्षिक समारोह पर उनके मूल्यवान शिक्षण सेवा को जारी रखने हेतु प्रेरित किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 19 अप्रैल 2021 (वाटिकन न्यूज) : पास्का काल के तीसरे रविवार की पुजनविधि के लिए चयनित संत लूकस से लिए गये सुसमाचार पाठ 24: 35-48 पर चिंतन करते हुए संत पापा ने ट्वीट कर सभी विश्वासियों को एक ख्रीस्तीय होने का मर्म साझा किया।

1ला ट्वीट

संत पापा ने संदेश में लिखा, ʺख्रीस्तीय होना सबसे पहले एक सिद्धांत या नैतिक आदर्श नहीं है; यह पुनर्जीवित मसीह के साथ एक जीवित संबंध है।ʺ

2रा ट्वीट

रविवार को रोम स्थित पवित्र हृदय काथलिक काथलिक महाविद्यालय अपना वार्षिक दिवस मनाया। संत पापा ने ट्वीट कर उन्हें मूल्यवान सेवा देने हेतु उनकी प्रशंसा की और अपने शैक्षिक मिशन को जारी रखने हेतु प्रेरित किया।

ट्वीट संदेश में उन्होंने लिखा, ʺपवित्र हृदय काथलिक महाविद्यालय अपना वार्षिक समारोह मना रहा है,जो एक सौ वर्षों से अपना मूल्यवान सेवा प्रदान कर रहा है। भविष्य की आशा के नायक बनने में युवाओं की मदद करने हेतु अपना शैक्षिक मिशन जारी रखे।ʺ

3रा ट्वीट

संत पापा ने संत पेत्रुस प्रांगण में विश्वासियों के साथ स्वर्गीय रानी प्रार्थना का पाठ करने के उपरांत पूर्वी यूक्रेन में शांति हेतु प्रार्थना करने के लिए आमंत्रित किया, जहाँ यूक्रेनी सरकारी बलों और रूसी समर्थित अलगाववादियों के बीच एक संघर्ष विराम के बढ़ते उल्लंघन से कीव और मॉस्को के बीच तनाव बढ़ गया है।

ट्वीट संदेश में संत पापा ने लिखा, ʺमैं आपको पूर्वी यूक्रेन की आबादी के लिए प्रार्थना करने हेतु आमंत्रित करता हूँ। मैं हृदय से आशा करता हूँ कि तनावों के बढ़ने से बचा जा सकता है और इसके बजाय, पारस्परिक विश्वास को बढ़ावा देने में सक्षम कार्य को आगे बढ़ाये जिससे सुलह और शांति को बढ़ावा मिले।ʺ

19 अप्रैल का ट्वीट

आज के ट्वीट में संत पापा ने सभी विश्वासियों को अपने जीवन के केंद्र में प्रभु रखने हेतु प्रेरित किया जिससे सभी प्रभु के प्यार की सुंदरता को जान सकें।

संत पापा ने संदेश में लिखा, ʺईश्वर कभी हार नहीं मानते। आप उसके दिल के करीब हैं, आप जो अभी तक उसके प्यार की सुंदरता को नहीं जानते हैं, आपने अभी तक येसु को अपने जीवन के केंद्र में स्वागत नहीं किया है, इसलिए आप अपने को पाप से दूर नहीं कर सकते।ʺ

19 April 2021, 15:46