खोज

Vatican News
यूक्रेनी फौजी बंदुक चलाते हुए यूक्रेनी फौजी बंदुक चलाते हुए 

पूर्वी यूक्रेन में शांति और मेल-मिलाप के लिए पोप की अपील

संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में स्वर्ग की रानी प्रार्थना के उपरांत संत पापा फ्राँसिस ने पूर्वी यूक्रेन में सैन्य कार्रवाई के कम होने की उम्मीद की तथा पीड़ित लोगों के लिए प्रार्थना की।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, रविवार, 18 अप्रैल 2021 (रेई)- संत पापा फ्राँसिस ने रविवार को पूर्वी यूक्रेन में किएव एवं मास्को के बीच सैन्य तनाव के बीच, आपसी विश्वास को बढ़ाने एवं मेल-मिलाप को प्रोत्साहन देने की अपील की।

स्वर्ग की रानी प्रार्थना के उपरांत विश्वासियों को सम्बोधित करते हुए संत पापा ने इस परिस्थिति को दुखद कहा और कहा कि वे पूर्वी यूक्रेन की इस घटना को बड़ी चिंता के साथ देख रहे हैं जहाँ हाल के महीनों में युद्धविराम का उल्लंघन बढ़ गया है।

पूर्वी यूक्रेन के लोगों के प्रति संत पापा की चिंता

उन्होंने कहा, "और यह एक दुखद चीज है। मैं बड़ी चिंता के साथ पूर्वी यूक्रेन के कुछ क्षेत्रों की स्थिति को देख रहा हूँ जहाँ युद्धविराम का उल्लंघन बढ़ गया है और गौर कर रहा हूँ कि सैन्य कार्रवाई बढ़ रही है। मैं उम्मीद करता हूँ कि तनाव कम हो और इसके विपरीत आपसी विश्वास, मेल-मिलाप एवं शांति को प्रोत्साहन दिया जाए जिसकी बहुत आवश्यकता है। हमें गंभीर मानवीय परिस्थिति पर भी ध्यान देना है जिसमें लोग रह रहे हैं।" संत पापा ने उनके प्रति अपना आध्यात्मिक सामीप्य व्यक्त किया तथा उनके लिए प्रार्थना करने का आह्वान किया।

कासामारी के मठ के शहीदों की धन्य घोषणा

संत पापा ने नये धन्यों की याद करते हुए कहा, "कल, कासामारी के मठ में सिमेयोन कार्डोन और पाँच अन्य साथी शहीदों को धन्य घोषित किया गया। 1799 में जब फ्राँसीसी सैनिक नेप्लस से वापस लौट रहे थे, उन्होंने गिरजाघरों एवं मठों को बर्खास्त किया। ख्रीस्त के इन दीन शिष्यों ने बड़े साहस के साथ पवित्र यूखरिस्त को अपवित्र करने से बचाने के लिए अपनी जान दे दी। उनका उदाहरण हमें ईश्वर के प्रति विश्वस्त रहने की प्रेरणा प्रदान करे, जो समाज को भी बदल सकता है एवं उसे अधिक न्याय एवं भाईचारापूर्ण बना सकता है।" संत पापा ने ताली बजाकर नये धन्यों को सम्मानित किया।

पवित्र हृदय काथलिक यूनिवर्सिटी

उसके बाद संत पापा ने पवित्र हृदय काथलिक यूनिवर्सिटी की याद की जो आज अपना पर्व दिवस मनाती है। उन्होंने कहा, "आज इटली में पवित्र हृदय काथलिक यूनिवर्सिटी दिवस मनाया जाता है जिसने एक सौ सालों तक नयी पीढ़ी के प्रशिक्षण के लिए महत्वपूर्ण सेवा प्रदान की है।" संत पापा ने कामना की कि यूनिवर्सिटी युवाओं को मदद देने के लिए शिक्षा के मिशन को जारी रखे, भविष्य की आशा का वाहक बने। उन्होंने काथलिक विश्व विद्यालय के स्टाफ के सदस्यों, प्रोफेसर एवं विद्यार्थियों को अपनी आशीष प्रदान की।

तत्पश्चात् उन्होंने सभी विश्वासियों का अभिवादन किया। उन्होंने कहा, "ईश्वर को धन्यवाद कि हम रविवार एवं पर्व के दिनों में पुनः इस प्राँगण में आ पा रहे हैं। मैं आप सभी को एक चीज बताना चाहता हूँ। जब मुझे पुस्तकालय में देवदूत प्रार्थना करना पड़ता है तो मैं इस प्राँगण की याद करता हूँ। मैं खुश हूँ। ईश्वर को धन्यवाद और आपकी उपस्थिति के लिए धन्यवाद।

अंत में, संत पापा ने प्रार्थना का आग्रह करते हुए सभी को शुभ रविवार की मंगलकामनाएँ अर्पित कीं।

 

18 April 2021, 16:08