खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर  (David San Segundo Navas -AVILA-)

प्रभु का क्रूस आशा की निशानी, संत पापा

संत पापा फ्राँसिस ने ट्वीटकर विश्वासियों को आशा की निशानी, प्रभु के क्रूस पर चिंतन करने हेतु प्रेरित किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 31 मार्च 2021 (रेई) : काथलिक कलीसिया पवित्र सप्ताह में प्रभु येसु के दुखभोग मृत्यु और पास्का रहस्य पर चिंतन करते हुए उसे जीने का प्रयास करती है। बुधवारीय आमदर्शन के दौरान संत पापा फ्राँसिस ने ख्रीस्त के क्रूस पर चिंतन करते हुए धर्मशिक्षा दी। इसी के मद्देनजर संत पापा फ्राँसिस ने दो ट्वीट किया।

1ला ट्वीट

संदेश में संत पापा ने लिखा,ʺख्रीस्त का क्रूस एक प्रकाश स्तंभ की तरह है जो तूफानी समुद्र में जहाजों को अभी भी बंदरगाह को इंगित करता है। यह आशा की निशानी है जो निराश नहीं करता है और हमें बताता है कि ईश्वर की मुक्ति योजना में एक आंसू भी, एक कराह भी बेकार नहीं जाता है।ʺ # पवित्र सप्ताह  

2रा ट्वीट

दूसरे ट्वीट में संत पापा ने लिखा, ʺहृदयपरिवर्तन की प्रक्रिया हमेशा क्रूस को पार करती है। त्याग और आध्यात्मिक लड़ाई के बिना कोई पवित्रता नहीं है।ʺ # पवित्र सप्ताह

31 March 2021, 14:55