खोज

Vatican News
शिया धर्मगुरु ग्रैंड अयातुल्लाह अल-सिस्तानी के साथ सन्त पापा फ्राँसिस, 06.03.2021 शिया धर्मगुरु ग्रैंड अयातुल्लाह अल-सिस्तानी के साथ सन्त पापा फ्राँसिस, 06.03.2021 

शीर्ष शिया धर्मगुरु के साथ सन्त पापा फ्राँसिस की ऐतिहासिक बैठक

नजफ़ नगर में सन्त पापा फ्राँसिस ने शनिवार को ईराक के शीर्ष शिया धर्मगुरु ग्रैंड अयातुल्ला अली अल-सिस्तानी के साथ ऐतिहासिक मुलाकात कर सम्प्रदायवाद एवं हिंसा से तहस-नहत देश में सह-अस्तित्व की एक ज़ोरदार अपील की।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

नजफ़, ईराक, शनिवार, 6 मार्च 2021 (रॉयटर): ईराक की राजधानी बगदाद से 160 किलो मीटर की दूरी पर स्थित नजफ़ नगर में सन्त पापा फ्राँसिस ने शनिवार को ईराक के शीर्ष शिया धर्मगुरु ग्रैंड अयातुल्ला अली अल-सिस्तानी के साथ ऐतिहासिक मुलाकात कर सम्प्रदायवाद एवं हिंसा से तहस-नहत देश में सह-अस्तित्व की एक ज़ोरदार अपील की।

ईराक यात्रा

काथलिक कलीसिया के परमधर्मगुरु सन्त पापा फ्राँसिस इस समय ईराक की प्रेरितिक यात्रा पर हैं। पाँच मार्च को शुरु हुई यह यात्रा आठ मार्च तक जारी रहेगी। सुरक्षा सम्बन्धी चिन्ताओं के बावजूद सन्त पापा फ्राँसिस ने ईराक की यात्रा पर जाना चाहा है। ईराक में सन्त पापा फ्राँसिस की यह पहली तथा इटली से बाहर उनकी 33 वीं प्रेरितिक यात्रा है। ईराक में भले ही सन्त पापा की यह पहली यात्रा है, इससे पूर्व वे तुर्की, जॉर्डन, मिस्र, बांग्लादेश, फिलिस्तीनी क्षेत्रों, अज़रबैजान और संयुक्त जैसे मुसलमान बहुल देशों की यात्रा कर चुके हैं, जिनके दौरान उन्होंने अनवरत अन्तरधर्म सम्वाद की गुहार लगाई है।  

जोख़िम भरे ईराक के इस दौरे के दूसरे दिन यानि शनिवार को राजकीय टेलेविज़न इख़बारिया ने दक्षिणी शहर नजफ़ से सन्त पापा फ्राँसिस के वृहद काफ़िले को गुज़रते दिखाया। एक वरिष्ठ शिया मुसलमान धर्मगुरु के साथ किसी काथलिक कलीसिया के परमाध्यक्ष की यह पहली मुलाकात थी। नजफ़ की एक संकरी गली में किराये पर लिये गये अल-सिस्तानी के एक विनीत घर में सन्त पापा फ्राँसिस ने उनसे मुलाकात की।

अयातुल्ला अली अल-सिस्तानी

एक गंभीर शख्सियत वाले 90 वर्षीय अयातुल्ला अली अल-सिस्तानी ईराक और उसके परे भी शिया इस्लाम के प्रमुख नेता हैं, जिनका ईराकी राजनीति पर गहरा प्रभाव है। अल सिस्तानी के लेखों ने 2005 में ईराकियों को पहली बार स्वतंत्र चुनावों के लिये तैयार किया था, 2014 में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों के विरुद्ध हज़ारों पुरुषों की रेलियों को उन्होंने प्रेरणा दी थी तथा 2019 में बड़े पैमाने पर आयोजित विरोध प्रदर्शनों को प्रेरित कर तत्कालीन ईराकी सरकार को गिरा दिया था।  

उनके करीबी अधिकारियों के अनुसार, अल सिस्तानी बिरले ही किसी से मिलते-जुलते हैं तथा ईराक के वर्तमान एवं पूर्व प्रधान मंत्रियों के साथ बातचीत के लिये भी उन्होंने इनकार कर दिया है। 90 वर्षीय सिस्तानी, शायद ही कभी बैठकें करते हैं, और इराक के वर्तमान और पूर्व प्रधानमंत्रियों के साथ बातचीत से इनकार कर दिया है, उनके करीबी अधिकारियों के अनुसार।

राष्ट्रपति के कार्यालय के एक सूत्र ने बताया कि सिस्तानी इस शर्त पर सन्त पापा फ्राँसिस से मिलने के लिए सहमत हुए कि कोई इराकी अधिकारी वहाँ मौजूद नहीं होगा।

शांति को मौका दें

कड़ी सुरक्षा के बीच शुक्रवार को 84 वर्षीय सन्त पापा फ्राँसिस ने ईराक की प्रेरितिक यात्रा आरम्भ की तथा देश के नेताओं एवं नागरिकों से उग्रवादी हिंसा एवं धार्मिक संघर्ष के अन्त की अपील की। शुक्रवार को राष्ट्रपति भवन में एकत्र ईराकी वरिष्ठ अधिकारियों एवं कूटनीतिज्ञों को सम्बोधित शब्दों में उन्होंने शांति निर्माताओं एवं शांति को मौका देने का अनुरोध किया।  

शुक्रवार को ही सन्त पापा ने धर्म से प्रेरित हमलों में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए  बगदाद के उस महागिरजाघर का दौरा किया, जहाँ इस्लामिक चरमपंथी बंदूकधारियों ने 2010 में  लगभग 59 श्रद्धालुओं को मार डाला था।

2017 में इस्लामिक स्टेट के लड़ाकाओं की हार के बाद से ईराक की सुरक्षा में, हालंकि, सुधार आया है तथापि, देश क्षेत्रीय झगड़ों का रंगमंच बना हुआ है, विशेष रूप से, कटु अमरीकी-ईरान प्रतिद्वंद्विता के लिये भी ईराकी मिट्टी रणभूमि बनी हुई है।

ऊर शहर की ओर

ईराक के शीर्ष शिया धर्मगुरु ग्रैंड अयातुल्ला अली अल-सिस्तानी के साथ ऐतिहासिक मुलाकात के उपरान्त सन्त पापा फ्राँसिस ने नजफ़ से नस्सिरिया के लिये प्रस्थान किया। लगभग एक घण्टे की विमान यात्रा के बाद वे नस्सिरिया पहुँचे तथा वहाँ से वे दक्षिणी ईराक स्थित ऊर शहर के लिये रवाना हुए।

ऊर शहर यहूदियों, ख्रीस्तीयों एवं इस्लाम धर्मानुयायियों के पूर्वज और पिता अब्राहम की जन्म एवं कर्म भूमि है। इसी भूमि पर सन्त पापा फ्राँसिस ने एक अन्तर-धार्मिक समारोह का नेतृत्व कर ईराक के प्रमुख धर्मों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की।  

06 March 2021, 11:13