खोज

Vatican News
संत पेत्रुस महागिरजाघर में मिस्सा का अनुष्ठान करते हुए संत पापा फ्राँसिस संत पेत्रुस महागिरजाघर में मिस्सा का अनुष्ठान करते हुए संत पापा फ्राँसिस  (ANSA)

माता मरियम की तरह हम येसु का अनुसरण करें, संत पापा

पवित्र खजूर रविवार के मिस्सा समारोह का अनुष्ठान करने के बाद देवदूत प्रार्थना का पाठ करने के उपरांत संत पापा फ्राँसिस ने महामारी के दौरान ईश्वर के कार्य और हमारी प्रतिक्रिया पर चिंतन किया। संत पापा ने इंडोनेशिया के लोगों के लिए प्रार्थना की।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, रविवार 28 मार्च 2021 (रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने वाटिकन के संत पेत्रुस महागिरजाघर में पवित्र खजूर रविवार का मिस्सा समारोह का अनुष्ठान किया। मिस्सा के अंत में देवदूत प्रार्थना का पाठ करने के उपरांत सभी विश्वासियों को संबोधित करते हुए कहा, ʺहमने पवित्र सप्ताह शुरू कर दिया है। दूसरी बार हम इसे महामारी के संदर्भ में जी रहे हैं। पिछले साल हम अधिक परेशान थे, इस वर्ष यह हमारे लिए और अधिक प्रयास करने वाला है और आर्थिक संकट भारी हो गया है।ʺ

संत पापा ने इस महामारी में ईश्वर की उपस्थिति को समझाते हुए कहा कि इस ऐतिहासिक और सामाजिक स्थिति में ईश्वर क्या कर रहे हैं? वे क्रूस को उठा लेते हैं। येसु क्रूस को उठाते हैं, अर्थात् वे उस बुराई को लेते हैं जो इस स्थिति में प्रवेश करती है, भौतिक एवं मनोवैज्ञानिक बुराई और सबसे ऊपर आध्यात्मिक बुराई - क्योंकि शैतान संकट का फायदा उठाकर अविश्वास, हताशी और कलह को फैलाता है।

माता मरियम हमारी मार्गदर्शिका

संत पापा आगे कहा कि ऐसी परिस्थिति में हम क्या करें? ऐसी परिस्थिति में हमारा मार्गदर्शन करने वाली कुवांरी माता मरियम, येसु की माता हैं, वे येसु की पहली शिष्या भी हैं। उसने अपने बेटे का अनुसरण किया। उसने अपने हिस्से के दुख, दुविधा और अंधकार को चुपचाप अपने में ले लिया और अपने दिल में विश्वास का दीपक जलाए हुए दुखभोग के रास्ते को तय किया। ईश्वर की कृपा से हम भी वही यात्रा कर सकते हैं और दैनिक जीवन में क्रूस के मार्ग पर कठिनाईयों का सामना करते अनेक भाइयों और बहनों से मिलते हैं। हम उन्हें अनदेखा करते हुए आगे न बढ़ें परंतु हम अपने दिलों को दया के भाव का अनुभव करने की अनुमति दें और उनके करीब जाएँ। यदि हमारे अंदर ऐसा होता है तो हम सिरिनी सिमोन की तरह सोच सकते हैं: "मुझे क्यों?" तब हम उस उपहार की खोज कर पायेंगे, जिसे पाने की हमारी योग्यता नहीं है और उसे हमें ईश्वर ने दिया है।

इंडोनेशिया के लिए प्रार्थना

संत पापा ने हिंसा पीड़ितों को याद करते हुए उनके लिए प्रार्थना की संत पापा ने कहा कि हम हिंसा के सभी पीड़ितों के लिए प्रार्थना करते हैं, विशेषकर उन पीड़ितों को याद करें, जो आज सुबह इंडोनेशिया में माकास्सर महागिरजाघर के सामने एक आत्मघाती बम विस्फोट का शिकार हुए। शुरुआती रिपोर्टों के मुताबिक इस घटना में गिरजाघर के कार्यकर्ताओं और विश्वासियों सहित कई लोग घायल हुए हैं। 

माता मरिया हमें हमेशा विश्वास के मार्ग पर चलने में हमारी मदद करें। इतना कहने के बाद संत पापा फ्राँसिस ने देवदूत प्रार्थना का पाठ किया और सभी विश्वासियों को अपना प्रेरितिक आशीर्वाद दिया।

28 March 2021, 13:58