खोज

Vatican News
ईराक के एब्रिल शहर में सन्त पापा फ्राँसिस का स्वागत - 07.03.2021 ईराक के एब्रिल शहर में सन्त पापा फ्राँसिस का स्वागत - 07.03.2021  

ईराक यात्रा के अन्तिम दिन सन्त पापा फ्राँसिस पहुँचे एब्रिल

ईराक में अपनी प्रेरितिक यात्रा के तीसरे दिन सन्त पापा फ्राँसिस ने बगदाद से एब्रिल के लिये प्रस्थान किया, जहाँ ईराक के कुर्दिस्तान स्वायत्त क्षेत्र के नागर एवं धार्मिक अधिकारियों ने उनका हार्दिक स्वागत किया।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

एब्रिल, रविवार, 7 मार्च 2021 (रेई,वाटिकन रेडियो): ईराक में अपनी प्रेरितिक यात्रा के तीसरे दिन सन्त पापा फ्राँसिस ने बगदाद से एब्रिल के लिये प्रस्थान किया, जहाँ ईराक के कुर्दिस्तान स्वायत्त क्षेत्र के राष्ट्रपति नेचिर्वान बारज़ीनी, प्रधान मंत्री मसरौर बारज़ानी तथा क्षेत्र के नागर एवं धार्मिक अधिकारियों ने उनका हार्दिक स्वागत किया।  

काथलिक कलीसिया के परमधर्मगुरु इस समय ईराक की प्रेरितिक यात्रा पर हैं। शुक्रवार को आरम्भ इस यात्रा के अन्तिम चरण में सन्त पापा रविवार को ईराक के एब्रिल, मोसुल एवं काराकोश शहरों का दौरा कर रहे हैं।

स्वागत समारोह

एब्रिल हवाईअड्डे के वी.आय.पी. लॉन्च पर ईराकी कुर्दीस्तान स्वायत्त क्षेत्र के राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री ने सन्त पापा फ्राँसिस के साथ औपचारिक मुलाकात की। एब्रिल आगमन पर पारम्परिक परिधान पहने बच्चों ने गुलदस्ते अर्पित कर उनका भावप्रवण स्वागत किया।

स्वागत समारोह के बाद सन्त पापा फ्राँसिस ने, इस्लामिक स्टेट के चरमपंथियों द्वारा क्षतिग्रस्त एवं नष्ट कर दिये गये, एब्रिल के महागिरजाघर में प्रार्थना अर्पित की। इसी के प्राँगण में वे  ख्रीस्तयाग अर्पित करेंगे। वाटिकन तथा परमधर्मपीठीय अधिकारियों को उम्मीद है कि सन्त पापा फ्राँसिस की ऐतिहासिक ईराकी यात्रा देश के ख्रीस्तीय समुदाय को अनुप्राणित करेगी तथा दशकों के युद्ध एवं अस्थिरता के बावजूद उन्हें साहस के साथ बने रहने के लिये प्रोत्साहित करेगी। इसी सन्दर्भ में, शनिवार को सन्त पापा ने ईराक के मुसलमान नेताओं को एक अन्तरधार्मिक सभा में सहिष्णुता एवं भाईचारे का सन्देश दिया था तथा ईराक के शिया धर्मगुरु ग्रैंड अयातुल्लाह अली अल सिस्तानी से व्यक्तिगत मुलाकात की थी।

एब्रिल शहर

मोसुल शहर से लगभग 80 किलो मीटर की दूरी पर स्थित एब्रिल ईराकी कुर्दीस्तान स्वायत्त क्षेत्र की राजधानी एवं सर्वाधिक विशाल शहर है। सिरियाई सीमा से यह केवल 300 किलो मीटर दूर है। शहर का सन्त जोसफ महागिरजाघर, मध्यपूर्व में खलदैई काथलिक धर्मानुयायियों का सर्वाधिक विशाल महागिरजाघर है। हाल के वर्षों में इस्लामिक स्टेट के अत्याचारों के फलस्वरूप एब्रिल शहर, विशेष रूप से, काराकोश एवं मोसुल के हज़ारों विस्थापितों का शरणस्थल सिद्ध हुआ है तथा लगभग पाँच लाख सिरियाई शरणार्थियों को भी शहर ने शरण दी है।  

 

07 March 2021, 11:12