Vatican News

2021 में प्रार्थना मनोरथ के लिए संत पापा का पहला वीडियो संदेश

संत पापा फ्रांसिस ने प्रार्थना की प्रेरिताई हेतु जनवरी माह के वीडियो संदेश में मानव भाईचारा की ओर ध्यान आकृष्ट किया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 5 जनवरी 2021 (रेई)- संत पापा ने 2021 में प्रार्थना की प्रेरिताई हेतु प्रकाशित प्रथम वीडियो संदेश में विभिन्न धर्मों, संस्कृतियों, परम्पराओं तथा आस्थाओं के लोगों का आह्वान किया है कि वे पड़ोसी प्रेम की ओर लौटें।

भाईचारा की सेवा में

संत पापा ने विश्वव्यापी प्रार्थना की प्रेरिताई हेतु प्रेषित अपने वीडियो संदेश में, मानवता द्वारा सामना की जा रही सभी चुनौतियों के जवाब में विश्वासियों का आह्वान किया है कि वे मानव भाईचारा पर ध्यान दें। उन्होंने कहा है कि हम मानव प्राणी की तरह एक-दूसरे के लिए अपने आप को खोलें एवं भाई-बहन की तरह एकजुट हों, उन लोगों के साथ जो दूसरी संस्कृति, परम्परा एवं आस्था के अनुसार प्रार्थना करते हैं। इसका कोई दूसरा विकल्प नहीं है या तो हम एक साथ भविष्य का निर्माण करेंगे या भविष्य ही नहीं होगा। धर्म, एक ही पिता के बेटे-बेटियों के बीच तथा संस्कृतियों और लोगों के मध्य सेतु के निर्माण के आवश्यक कार्य को नहीं छोड़ सकता।  

हमारे विश्वास के लिए आवश्यक

भाईचारा के इस मनोभाव से प्रेरित संत पापा फ्राँसिस ने यह भी स्मरण दिलाया है कि ख्रीस्तियों को नहीं भूल जाना चाहिए कि "मानव प्रतिष्ठा एवं भाईचारा का स्रोत येसु ख्रीस्त के सुसमाचार में है।" इस अर्थ में उन्होंने विश्वासियों का आह्वान किया है कि वे विश्वास के लिए महत्वपूर्ण बात, "ईश्वर की आराधना एवं पड़ोसी प्रेम" की ओर लौटें।"

दूसरे धर्मों के लोगों के साथ संवाद में यह भी आवश्यक हो जाता है कि जब दूसरे अपने स्रोत से पीयें, तब हम ख्रीस्तियों के लिए मानव प्रतिष्ठा एवं भाईचारा का स्रोत येसु ख्रीस्त के सुसमाचार में है।

दुनिया में भाईचारा की सेवा में धर्म

संत पापा की विश्वव्यापी प्रार्थना की प्रेरिताई के अंतरराष्ट्रीय निदेशक फादर फ्रेडरिक फोरनोस ये.स. ने एक प्रेस विज्ञप्ति में प्रार्थना की प्रेरिताई में, 2020 के महामारी से प्रभावित होने के बाद 2021 में सफाई और सामाजिक आर्थिक स्तर पर प्रकाश डाला है। उन्होंने कहा है कि संत पापा का यह प्रार्थना मनोरथ विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि यह दूसरों को शांति के रास्ते पर अपने सच्चे भाई और बहन के रूप में देखने में मदद देता है। संत पापा के अनुसार धर्मों की भूमिका है इसके लक्ष्य को प्राप्त करना। उन्होंने इसके लिए एक बड़ा कदम उठाया, जब उन्होंने विश्व शांति एवं सहअस्तित्व हेतु मानव भाईचारा पर दस्तावेज में अल अजहर के ग्रैंड ईमाम अहमद अल ताय्येब के साथ हस्ताक्षर किया। उसके एक साल बाद उन्होंने प्रेरितिक विश्वपत्र "फ्रातेल्ली तूत्ती" प्रकाशित किया जो ईश्वर की संतान के रूप में प्रत्येक मानव प्राणी का सम्मान करने का आह्वान करता है तथा भाईचारा के निर्माण एवं समाज में न्याय की रक्षा करने के लिए महत्वपूर्ण योगदान देता है।

ईश्वर, जिन्होंने हम सभी की सृष्टि की है समान अधिकार, कर्तव्य एवं प्रतिष्ठा के साथ, भाई-बहन के रूप में जीने के लिए बुलाया गया, हम इस भाईचारा को याद रखें ताकि दुनिया की चुनौतियों का सामना एवं हमारे आमघर की देखभाल एक साथ कर सकें जो ईश्वर के राज्य के समान विविधता का सम्मान करता एवं उसे मूल्य देता है।

05 January 2021, 17:22