खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर  (AFP or licensors)

विश्व को संकट से उबरने के लिए एकता, बंधुत्व की जरूरत है,संत पापा

इतालवी टीवी चैनल "चैनल 5" को दिए एक साक्षात्कार में, संत पापा फ्राँसिस ने महामारी से लेकर कमजोर और जीवन की रक्षा, राजनीति में एकता के मूल्य और ईश्वर के उपहार के रूप में विश्वास, कलीसिया, टीकाकरण और मूल्यों को फिर से परिभाषित करने की आवश्यकता के मुद्दों पर बातें की।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 11 जनवरी 2021 (वाटिकन न्यूज): संत पापा महामारी के कारण होने वाले वैश्विक संकट को दूर करने के लिए, भाइयों और बहनों की तरह महसूस करने के लिए, हमारी सामान्य एकता को पुनः प्राप्त करने के लिए सभी को आमंत्रित कर रहे हैं।

रविवार शाम को प्रसारित चैनल 5 के साथ साक्षात्कार की शुरुआत में, संत पापा फ्राँसिस ने दोहराया कि "एक संकट के बाद हम पहले जैसे कभी नहीं रह सकते हैं, हम या तो बेहतर बनकर बाहर निकल रहे हैं या हम बदतर हो गए हैं।" संत पापा के अनुसार, "सभी को हर चीज की समीक्षा करनी चाहिए।" जीवन में हमेशा जो महान मूल्य होते हैं उनका हमारे जीवन में प्रभाव पड़ना चाहिए।

संत पापा ने नाटकीय परिस्थितियों की एक श्रृंखला को प्रस्तुत किया। उन बच्चों से लेकर जो भूखे हैं और स्कूल नहीं जा सकते,  युद्ध जो ग्रह के कई क्षेत्रों को परेशान करते हैं। यह देखते हुए कि इस संबंध में संयुक्त राष्ट्र के आंकड़े "भयावह" हैं, उन्होंने चेतावनी दी कि अगर हम इन चीजों पर ध्यान दिए बिना "संकट से बाहर निकलते हैं," तो एक और हार होगी। बच्चे और युद्ध, इन दो समस्याओं को देखते हुए अगर हमने ध्यान नहीं दिया तो" यह और भी बुरा होगा।

टीकाकरण: एक नैतिक कार्रवाई

चैनल 5 के पत्रकार फाबियो मार्चेस रगोना के कोरोनावायरस के खिलाफ टीकाकरण के बारे में एक सवाल के जवाब में, संत पापा ने कहा, "मेरा मानना है कि नैतिक रूप से सभी को वैक्सीन लेना चाहिए। यह एक विकल्प नहीं है, यह एक नैतिक कार्य है, क्योंकि आप अपने स्वास्थ्य के साथ खेल रहे हैं, आप अपने जीवन के साथ खेल रहे हैं, लेकिन आप दूसरों के जीवन के साथ भी खेल रहे हैं।"

संत पापा ने कहा कि, अगले कुछ दिनों में वाटिकन में टीकाकरण शुरू हो जाएगा और उन्होंने इसके लिए खुद को बुक कर लिया है। वे जोर देते हुए कहते हैं, अगर डॉक्टर कहते हैं कि टीका सुरक्षित है और किसी को "विशेष खतरा" नहीं है, तो उन्हें इसे लेना चाहिए।

संत पापा ने कहा, "इसमें आत्मघाती इनकार मौजूद है, जिसे मैं समझा नहीं सकता।" "या तो हम सभी एक साथ बचेंगे या कोई नहीं बचेगा।"

भाईचारा बनाम उदासीनता

संत पापा फिर अपने पसंदीदा विषय भाईचारे के बारे कहा कि उनके अनुसार, चुनौती यह है कि "दूसरे के करीब आना, उनकी स्थिति के करीब होना, उनकी समस्याओं के करीब होना, खुद को लोगों के करीब बनाना।"

वे कहते हैं कि निकटता का दुश्मन, "उदासीनता की संस्कृति।" है। "उदासीनता की संस्कृति," हमारे बीच की दूरी को बल देता है।"

’मैं’ को ’हम’ से बदलना

"उदासीनता हमें मार डालती है क्योंकि यह हमें दूसरों से दूर करती है," "इसके बजाय, संकट से बाहर निकलने के तरीकों का सूचक शब्द 'निकटता' है।"

अगर कोई एकता या निकटता नहीं है, तो  राज्यों के भीतर भी सामाजिक तनाव पैदा हो सकते हैं। "इस संबंध में, वे कलीसिया में और राजनीतिक जीवन में "शासक वर्ग" के बारे में संत पापा ने कहा कि संकट के इस क्षण में, "पूरे शासक वर्ग को 'मैं' कहने का अधिकार नहीं है ... उन्हें 'हम' कहना चाहिए और संकट के समय एकता की तलाश करनी चाहिए।"

इस समय, "एक राजनेता, एक पुरोहित, एक ख्रीस्तीय, यहां तक कि एक धर्माध्यक्ष, जिसके पास 'मैं' के बजाय 'हम' कहने की क्षमता नहीं है, वह इस स्थिति को सही रुप में जी नहीं पाएगा।"

संत पापा ने कहा, "जीवन में संघर्ष," "आवश्यक हैं, लेकिन इस क्षण उन्हें छुट्टी पर भेजा जाना चाहिए और देश की, कलीसिया की, समाज की एकता के लिए जगह बनाना चाहिए।"

एक मानवीय मुद्दा है गर्भपात

संत पापा फ्राँसिस ने यह भी ध्यान दिया कि महामारी ने समाज के सबसे कमजोर सदस्यों, जैसे गरीब, प्रवासियों या बुजुर्गों के बारे में "फेंकने की संस्कृति" को बढ़ा दिया है। इस संबंध में, वे गर्भपात के मुद्दे को भी छूते हैं जो अवांछित बच्चों को मार डालती है।

"गर्भपात की समस्या," केवल "एक धार्मिक समस्या नहीं है,  यह एक मानवीय समस्या है, यह एक नैतिक समस्या है।" "यह एक ऐसी समस्या है जिसे नास्तिक को भी अपने तरीके से हल करना होगा।"

कैपिटल हिल, इतिहास से सबक

6 जनवरी को कैपिटल हिल पर नाटकीय घटनाओं के संबंध में एक सवाल का जवाब देते हुए, संत पापा फ्राँसिस ने स्वीकार किया कि वे संयुक्त राज्य के लोगों के अनुशासन और इसके लोकतंत्र की परिपक्वता को देखते हुए "चकित" थे। हालांकि, "सबसे परिपक्व समाजों" में भी हमेशा कुछ गलत होता है जब "ऐसे लोग होते हैं जो समुदाय के खिलाफ, लोकतंत्र के खिलाफ, आम भलाई के खिलाफ रास्ता निकालते हैं।"

अब जब वह भड़क गया है, तो लोग इस घटना को "अच्छी तरह से देखने" में सक्षम हैं और "एक समाधान पा सकते हैं।" हिंसा की निंदा करते हुए उन्होंने कहा, "हमें उस गलती को न दुहराने के लिए अच्छी तरह से जानने और समझने की जरुरत है। इतिहास से हमें सीखना चाहिए।" ये "अनियमित समूह 'जो समाज में अच्छी तरह से अपने को समाहित नहीं कर पाते हैं, जल्द ही या बाद में हिंसा की ये स्थितियाँ पैदा करते हैं।"

विश्वास : एक उपहार

अंत में, एक सवाल का जवाब देते हुए कि कोविद-19 महामारी ने उनके दैनिक जीवन को कैसे प्रभावित किया है, संत पापा फ्राँसिस कहते हैं कि उन्हें लगता है कि वे "बंदी" है।

सभा सम्मेलन से बचने के लिए, यात्राएं रद्द कर दी गई हैं, लेकिन वे इराक जाने के लिए उत्सुक हैं। इस बीच, महामारी ने उन्हें प्रार्थना के लिए और टेलीफोन पर लोगों से बातें करने के लिए अधिक समय प्रदान किया है। इस संबंध में, वे दोहराते है कि उन्होंने 27 मार्च को रोम में संत पेत्रुस महागिरजाघऱ के निर्जन प्रांगण में विशेष उरबी एत ओरबी प्रार्थना और आशीर्वाद दिया था, जो "सभी लोगों के लिए प्यार की अभिव्यक्ति" था जो हमें एक दूसरे को "मदद करने के नए तरीके" दिखाता है।"

संत पापा ने प्रभु में विश्वास पर चिंतन प्रस्तुत किया, जो सर्वप्रथम ईश्वर की ओर से दिया हुआ सबसे महत्वपूर्ण "उपहार" है।

उन्होंने कहा, "मेरे लिए, विश्वास एक उपहार है, न तो आप और न ही मैं और न ही किसी को अपनी ताकत से विश्वास प्राप्त हो सकता है: यह एक उपहार है जिसे प्रभु आपको देता है," कुछ एक खरीद नहीं सकता है। विधि विवरण ग्रंथ से एक पद को याद करते हुए, संत पापा फ्राँसिस "ईश्वर की निकटता" पाने के लिए सभी का आह्वान करते हैं।

संत पापा ने अपनी आशाओं को व्यक्त करते हुए कहा कि 2021 में "कोई बर्बादी, कोई स्वार्थी रवैया नहीं होगा" और यह एकता संघर्ष पर हावी हो सकती है।

11 January 2021, 14:59