खोज

Vatican News
प्रेरितिक आवास की लाईब्रेरी से देवदूत प्रार्थना का पाठ करते संत पापा फ्रांसिस  प्रेरितिक आवास की लाईब्रेरी से देवदूत प्रार्थना का पाठ करते संत पापा फ्रांसिस   (ANSA)

देवदूत प्रार्थना:मसीह का प्रकाश दूसरों के प्यार में चमकने दें

संत पापा फ्राँसिस ने 6 जनवरी 2021 को, प्रभु प्रकाश महोत्सव पर वाटिकन के प्रेरितिक आवास की लाईब्रेरी से देवदूत प्रार्थना का पाठ किया, इसके पूर्व उन्होंने सीधे प्रसारण के माध्यम से विश्वासियों को सम्बोधित कर सभी विश्वासियों को ईश्वर की प्यार की रोशनी की चमक को दूसरों को देखने के लिए सुसमाचार की घोषणा करने हेतु आमंत्रित किया।

माग्रेट सुनिता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी,बुधवार 6 जनवरी 2021(रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने वाटिकन के प्रेरितिक आवास की लाईब्रेरी से बुधवार 6 जनवरी को प्रभु प्रकाश महापर्व के अवसर पर भक्त समुदाय के साथ देवदूत प्रार्थना का पाठ किया, देवदूत प्रार्थना के पूर्व उन्होंने विश्वासियों को सम्बोधित कर कहा, अति प्रिय भाइयो एवं बहनो सुप्रभात।

आज, हम प्रभु प्रकाश का महापर्व मना रहे हैं, अर्थात्, सभी लोगों के सामने प्रभु की अभिव्यक्ति: वास्तव में, मसीह द्वारा लायी गई मुक्ति की कोई सीमा नहीं है। प्रभु प्रकाश एक अतिरिक्त रहस्य नहीं है, यह हमेशा ख्रीस्त जन्म के साथ ही देखा जाता है, हालांकि प्रकाश जो प्रत्येक पुरुष और महिला को रोशनी देता है, इसे विश्वास के साथ स्वागत करना चाहिए। इसी प्रकाश में परोपकार और साक्षी के माध्यम से सुसमाचार की घोषणा की जानी चाहिए।

अंधकार में प्रकाश

संत पापा ने इसायाह के ग्रंथ से लिए आज के पहले पाठ ( 60:1-6), पर चिंतन किया, जहाँ नबी ने प्रकाश के बारे में भविश्यवाणी की है : ईश्वर द्वारा यरूशलेम को दिया गया प्रकाश, सभी लोगों के मार्ग पर चमकने के लिए नियुक्त किया गया। इस प्रकाश में सभी को आकर्षित करने की शक्ति है, पास और दूर, हर कोई इसे प्राप्त करने के लिए आ रहे हैं।(पद 3) यह दिल को खोलने वाली एक दृष्टि है, जो सांस को आसान बनाती है, जो आशा को आमंत्रित करती है। निश्चित रूप से, अंधेरा हर किसी के जीवन में भय लाता है और मानवता की कहानी में मौजूद है, लेकिन ईश्वर का प्रकाश अधिक शक्तिशाली है। इसे स्वागत करने की आवश्यकता है ताकि यह सभी पर चमक सके।  नबी ने दूर से एक झलक देखा, यह पहले से ही येरुसालेम के दिल को अपरिवर्तनीय खुशी से भरने के लिए पर्याप्त था।

क्षितिज का सितारा

संत पापा ने कहा कि संत मत्ती के सुसमाचार (2:1-12) में ज्योतिषियों ने इस प्रकाश के बारे में कहा है। यह प्रकाश बेथलेहम का बालक येसु है, भले ही उसका राज्य सभी द्वारा स्वीकार नहीं किया गया था। ये वो सितारा है जो क्षितिज पर दिखाई देता है, प्रतीक्षित मसीहा, जिसके माध्यम से ईश्वर अपने प्रेम, न्याय और शांति के राज्य का उद्घाटन किया।  वह केवल कुछ लोगों के लिए नहीं, बल्कि सभी पुरुषों और महिलाओं के लिए, सभी लोगों के लिए पैदा हुआ था। प्रकाश सभी के लिए था। मुक्ति सभी के लिए थी।

और यह "विकिरण" कैसे आता है? हर जगह और हर क्षण मसीह की रोशनी कैसे चमकती है? इस दुनिया के साम्राज्यों के शक्तिशाली माध्यमों से नहीं जो हमेशा सत्ता को हथियाना चाहते हैं। यह सुसमाचार की घोषणा के माध्यम से आता है। ईश्वर ने हमारे बीच आने का विकल्प चुना: मानव बन कर जन्म लिया, अर्थात दूसरे के निकट आकर, दूसरे से मुलाकात करके, दूसरे की वास्तविकता को स्वीकार किया। ईश्वर का प्रकाश, जो प्रेम है, उन लोगों में चमक सकता है जो इसका स्वागत करते हैं और दूसरों को आकर्षित करते हैं। अभिनेता मसीह है, लेकिन हम भी भलाई और असीम दया के खजाने के गवाह के रूप में अपने भाइयों और बहनों के लिए भी अभिनेता हो सकते हैं, इसे मुक्तिदाता सभी के लिए स्वतंत्र रूप से प्रदान करते हैं।

 प्रकाश का स्वागत

इसलिए, शर्त यह है कि हमें इस प्रकाश को अपने अंदर स्वागत करना है। हमें धिक्कार है,अगर हमें लगता है कि हम इसे सिर्फ अपने पास रखें, हमें केवल इसे "प्रबंधित" करने की आवश्यकता है! हमें ज्योतिषियों की तरह, मसीह द्वारा मोहित, आकर्षित, निर्देशित, प्रकाशित और रूपांतरित होने के लिए खुद को छोड़ देना चाहिए। ईश्वर हमें प्रार्थना और दया के कार्यों के माध्यम से लगातार अपने नए आनंद और आश्चर्य से भर देते हैं।

माता मरियम से प्रार्थना करने का आह्वान करते हुए संत पापा ने कहा, "आइए, हम पूरे विश्व की कलीसिया पर माता मरियम के संरक्षण का आह्वान करें, ताकि पूरी दुनिया में मसीह के सुसमाचार का प्रकाश सभी लोगों में फैल जाए।"

इतना कहने के बाद संत पापा ने भक्त समुदाय के साथ देवदूत प्रार्थना का पाठ किया तथा सभी को अपना प्रेरितिक आशीर्वाद दिया।

06 January 2021, 14:42