खोज

Vatican News
चरनी को निहारते संत पापा फ्रांसिस चरनी को निहारते संत पापा फ्रांसिस 

देवदूत प्रार्थना ˸ ईश्वर हमारी सभी दुर्बलताओं में हमें प्यार करते हैं

वाटिकन स्थित प्रेरितिक आवास की लाईब्रेरी से रविवार 3 जनवरी को, संत पापा फ्राँसिस ने देवदूत प्रार्थना का पाठ किया जिसके पूर्व उन्होंने विश्वासियों को सम्बोधित किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार, 4 जनवरी 2021 (रेई)- सीधे प्रसारण के माध्यम से विश्वासियों को सम्बोधित करते हुए संत पापा ने कहा, "प्रिय भाइयो एवं बहनो सुप्रभात।"

ख्रीस्त जयन्ती के बाद, इस दूसरे रविवार का पाठ, येसु के जीवन से संबंधित घटना का जिक्र नहीं करता किन्तु जन्म से पहले उनके बारे बतलाता है। हमारे बीच आने से पहले येसु की उन बातों को प्रकट करने हेतु हमें पीछे लौटाता है। यह खासकर, संत योहन रचित सुसमाचार की भूमिका में प्रकट किया गया है, जिसकी शुरूआत इस तरह होती है, आदि में शब्द था। (यो.1,1) आदि में, बाईबिल का पहला शब्द है। इसी शब्द के साथ सृष्टि की कहानी शुरू होती है, आरम्भ में ईश्वर ने स्वर्ग और पृथ्वी की सृष्टि की।” (उत्प.1:1) आज का सुसमाचार पाठ कहता है कि वही येसु जिनके जन्म पर हमने एक शिशु के रूप में उनपर चिंतन किया है, पहले से विद्यामान थे, चीजों के शुरू होने से पहले, दुनिया की सृष्टि से पहले, सब कुछ से पहले। वे स्थान और समय से परे विद्यमान थे। जीवन प्रकट होने से "पहले ही उनमें जीवन था।" (यो.1,4)

ईश्वर हमसे बात करते हैं

संत योहन उन्हें "शब्द" (लोगोस) पुकारते हैं। इसका अर्थ क्या है? शब्द का प्रयोग बात करने के लिए किया जाता है। बात अकेले नहीं की जाती बल्कि किसी दूसरे व्यक्ति के साथ की जाती है। हमेशा दूसरे के साथ ही बात की जा सकती है। जब हम रास्ते पर किसी व्यक्ति को अकेले बात करते हुए देखते हैं, तब हम कहते हैं कि इस व्यक्ति को कुछ हो गया है। यदि आदि से ही शब्द है इसका अर्थ है कि ईश्वर शुरू से ही हमसे बात करना, बोलना करना चाहते थे। पिता के एकलौटे बेटे (14) हमसे कहना चाहते हैं कि ईश्वर का बेटा होना कितना सुन्दर है। वे सच्ची ज्योति हैं (9) जो अंधकार एवं बुराई को दूर करना चाहते हैं, वे जीवन हैं जो हमारे जीवन को जानते और बतलाना चाहते हैं कि वे हमेशा उसे प्यार करते हैं। वे हम सभी को प्यार करते हैं। आज का अनुठा संदेश यहीं है ˸ येसु ईश्वर के शब्द हैं, ईश्वर के अनन्त शब्द, जिन्होंने सदा हमारी चिंता की है और हमारे साथ सम्पर्क करना चाहते हैं।

शरीरधारण किया ताकि हमेशा साथ रहें

ऐसा करने के लिए, वे शब्द के परे गये। वास्तव में, आज के सुसमाचार पाठ में हमें बतलाया गया है कि "शब्द ने शरीरधारण किया और हमारे बीच रहे।" संत योहन ने इसे व्यक्त करने के लिए क्यों "शरीर" शब्द का प्रयोग किया है? क्या वे अधिक अच्छे तरीके से नहीं बोल सकते थे कि शब्द ने मनुष्य का रूप धारण किया? उन्होंने ऐसा नहीं किया बल्कि "शरीर" शब्द का प्रयोग किया जो सभी दुर्बलताओं एवं कमजोरियों के साथ हमारे मानव परिस्थिति को दर्शाता है। वे बतलाते हैं कि ईश्वर दुर्बल बन गये ताकि हमारी दुर्बलता का नजदीकी से अनुभव कर सके। अतः जब से प्रभु ने शरीरधारण किया हमारे जीवन का कोई भी हिस्सा उनसे भिन्न नहीं है। कोई भी ऐसी चीज नहीं है जिसे वे नफरत करते हों, हम उनके साथ सब कुछ बांट सकते हैं। संत पापा ने कहा, "प्यारे भाइयो एवं बहनो, ईश्वर ने शरीरधारण किया ताकि बतला सकें कि वे हमें हमारी दुर्बलताओं के साथ प्यार करते हैं। वहीं पर जहाँ हम सबसे अधिक लज्जा महसूस करते हैं।" यह ईश्वर का साहसी निर्णय है कि उन्होंने शरीरधारण किया जिसपर हम सबसे अधिक लज्जा महसूस करते हैं, वे हमारी लज्जा में प्रवेश किये, हमारे भाई बने जिससे कि हमारे जीवन के रास्ते पर हमारे साथ चल सकें।

प्रभु के लिए अपना हृदय खोलें  

संत पापा ने कहा कि उन्होंने शरीरधारण किया और कभी पीछे नहीं मुड़े। हमारी मानवता को उन्होंने वस्त्र जिसको बदला जा सकता है की तरह धारण नहीं किया और न ही इससे कभी अलग होगें। वे उसी शरीर के साथ स्वर्ग में हैं जो मानवीय हाड़ मांस से बना है। हमारी मानवता के द्वारा वे हमसे जुड़ गये हैं। हम कह सकते हैं कि उन्होंने इसका समर्थन किया है। संत पापा ने कहा, "मैं सोचना चाहता हूँ कि जब वे पिता से हमारे लिए प्रार्थना करते हैं, वे न केवल बोलते बल्कि वे अपने शरीर के घावों को दिखाते हैं, हमारे लिए अपनी पीड़ा को दिखाते हैं। अपने शरीर के साथ येसु हमारे मध्यस्थ हैं। वे पीड़ा के चिन्ह को भी धारण करना चाहते हैं। येसु अपने शरीर के साथ पिता के सामने हैं। निश्चय ही सुसमाचार बतलाता है कि वे हमारे बीच रहने आये। वे देखकर, चले जाने के लिए नहीं आये थे। वे हमारे साथ जीने के लिए आये थे। इस प्रकार वे हमसे क्या चाह रखते हैं?" संत पापा ने कहा, "वे हमारे निकट रहने की तीव्र इच्छा रखते हैं। वे हमारी खुशी और दुःख, चाहत एवं भय, उम्मीद एवं पीड़ा, लोगों एवं परिस्थिति को बांटना चाहते हैं।" संत पापा ने कहा, "आइये हम उनके लिए अपना हृदय खोलें, उन्हें अपना सब कुछ बतलायें।" हम ईश्वर जिन्होंने शरीरधारण किया उनकी कोमलता को महसूस करने के लिए चरनी के सामने मौन होकर रूकें और बिना भय हमारे बीच उन्हें आमंत्रित करें, हमारे घरों में, हमारे परिवारों में, हमारी दुर्बलताओं में। हम उन्हें आमंत्रित करें ताकि वे हमारे घावों को देख सकें। वे आयेंगे और हमारा जीवन बदल जायेगा।  

संत पापा ने माता मरियम से प्रार्थना की कि ईश्वर की पवित्र माता जिसमें शब्द ने शरीर धारण किया, हमें येसु का स्वागत करने में मदद दे, जो हमारे साथ रहने के लिए हमारे हृदय द्वार पर दस्तक देते हैं।

इतना कहने के बाद संत पापा ने भक्त समुदाय के साथ देवदूत प्रार्थना का पाठ किया तथा सभी को अपना प्रेरितिक आशीर्वाद दिया।

नूतन वर्ष की शुभकामनाएँ

देवदूत प्रार्थना के उपरांत संत पापा ने सभी विश्वासियों को नये साल की सुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा, "मैं नये साल की शुभकामनाएँ देता हूँ जिसकी शुरूआत अभी-अभी हुई है। ख्रीस्तीय के रूप में, हम भाग्यवाद या जादू की मानसिकता को दूर रखते हैं; हम जानते हैं कि ईश्वर के साथ एवं आमहित के लिए सबसे कमजोर और वंचित लोगों के लिए आपस में मिलकर कार्य करने के द्वारा ही हम प्रगति कर सकते हैं। हम नहीं जानते कि 2021 में हमारे लिए क्या है किन्तु हम प्रत्येक जन एवं हम सब मिलकर एक-दूसरे की एवं सृष्टि हमारे आमघर की देखभाल कर सकते हैं। यह सच है कि हमें सिर्फ अपनी रूचि का ध्यान रखने का प्रलोभन होता है, युद्ध की मजदूरी देते रहने का, सिर्फ आर्थिक आयाम पर ध्यान केंद्रित करने का, सुखवादी जीवन जीने का जिसमें केवल सुख पाने की चाह होती है आदि। संत पापा ने कहा, "मैंने समाचार पत्र में पढ़ा जो मेरे लिए बहुत दुखद था, एक देश में जिसका नाम मैं याद नहीं कर रहा हूँ जिसमें 40 विमानों को छोड़ दिया गया ताकि लोग लॉकडाऊन से मुक्त हो सकें एवं छुट्टियों का आनन्द ले सकें। किन्तु उन भले लोगों ने, क्या घर में रहनेवाले लोगों, कई लोगों के द्वारा झेली जा रही आर्थिक समस्या और बीमार लोगों के बारे नहीं सोचा? वे सिर्फ अपनी खुशी के लिए अवकाश लेना चाहते थे। इसने मुझे बहुत अधिक दुःख दिया।"

कठिनाई, बीमारी, बेरोजगारी से जूझ रहे लोगों के लिए सहानुभूति

तत्पश्चात् संत पापा ने उन लोगों का अभिवादन किया जो बड़ी कठिनाई, बीमारी, बेरोजगारी के साथ नये साल की शुरूआत कर रहे हैं। जो उत्पीड़न या शोषण की परिस्थिति के साथ जी रहे हैं। संत पापा ने सस्नेह सभी परिवारों का अभिवादन किया, खासकर, उन परिवारों को जहाँ छोटे बच्चे हैं अथवा नये शिशु आने वाले हैं। जन्म हमेशा एक आशा की प्रतिज्ञा है। उन्होंने कहा, "मैं न परिवारों के नजदीक हूँ। ईश्वर आप सभी को आशीष दे।"  

अंत में, उन्होंने अपने लिए प्रार्थना का आग्रह करते हुए सभी को शुभ रविवार की मंगलकामनाएँ अर्पित की।

04 January 2021, 15:34