खोज

Vatican News
संत पापा फ्राँसिस संत पापा फ्राँसिस  (ANSA)

जलवायु महत्वाकांक्षा शिखर सम्मेलन को संत पापा का वीडियो संदेश

संत पापा फ्राँसिस ने 12 दिसम्बर को जलवायु परिवर्तन पर पेरिस समझौते की वर्षगाठ पर उच्च स्तरीय आभासी जलवायु महत्वाकांक्षा शिखर सम्मेलन के प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए अपना वीडियो संदेश दिया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार12 दिसम्बर 2020 (रेई) : वर्तमान महामारी और जलवायु परिवर्तन, न केवल पर्यावरण को बल्कि नैतिक, सामाजिक, आर्थिक और राजनीति को प्रभावित किया है, सबसे ज्यादा, गरीब और कमजोर लोगों के जीवन को। इस तरह वे हमारी सामूहिक और एकजुट प्रतिबद्धता के साथ ‘देखभाल की संस्कृति’ को बढ़ावा देने की अपील करते हैं, जिसके केंद्र में मानवीय गरिमा और जन कल्याण है।

कुछ उपायों को अपनाने के अलावा जिन्हें आगे स्थगित नहीं किया जा सकता है, नेट उत्सर्जन को शून्य करने के लिए (नेट-शून्य उत्सर्जन) एक रणनीति की आवश्यकता है।

संत पापा ने इस स्तर को हासिल करने के लिए वाटिकन के दो स्तरों से जुड़ने की बात कही।

1-प्राकृतिक संसाधनों के तर्कसंगत उपयोग

वाटिकन सिटी राज्य वर्ष 2050 से पहले उत्सर्जन को शून्य करने के लिए प्रतिबद्ध है, पहले से ही कुछ वर्षों के लिए चल रहे पर्यावरण प्रबंधन के प्रयासों को तेज करेगा, जो प्राकृतिक संसाधनों के तर्कसंगत उपयोग को संभव बनाता है जैसे पानी और ऊर्जा, ऊर्जा दक्षता, टिकाऊ गतिशीलता, पुनर्वनरोपण और अपशिष्ट प्रबंधन में परिपत्र अर्थव्यवस्था।

2-अभिन्न पारिस्थितिकी के लिए शिक्षा को बढ़ावा

संत पापा ने कहा कि परमधर्मपीठ अभिन्न पारिस्थितिकी के लिए शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है। राजनीतिक और तकनीकी उपायों को एक शैक्षिक प्रक्रिया के साथ जोड़ा जाना चाहिए, जो मानव, भाईचारे और पर्यावरण के बीच गठबंधन पर केंद्रित विकास और स्थिरता के एक सांस्कृतिक मॉडल के पक्ष में हो। इस परिप्रेक्ष्य में, मैंने सभी महाद्वीपों के काथलिक स्कूलों और विश्वविद्यालयों के सत्तर मिलियन से अधिक छात्रों द्वारा भाग लेने के लिए वैश्विक शैक्षिक संधि (ग्लोबल एजुकेशनल पैक्ट) का उद्घाटन किया और मैंने ‘फ्रांसेस्को की अर्थव्यवस्था’ का समर्थन किया, जिसके माध्यम से युवा अर्थशास्त्री, उद्यमी, वित्त और व्यवसाय विशेषज्ञ, ऊर्जा के अभाव को दूर करने वाले नए रास्तों को बढ़ावा देते हैं, जो राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय नीतियों के केंद्र में आम वस्तुओं की देखभाल करते हैं और कम आय वाले देशों में भी समुचित उत्पादन के पक्ष में, उपयुक्त उन्नत तकनीकों को साझा करते हैं।

अंत में संत पापा ने कहा कि दिशा बदलने का समय आ गया है। ʺआइए, हम नई पीढ़ियों से बेहतर भविष्य की आशा को न छीनें।ʺ

पेरिस समझौते को अपनाने के 5 साल बाद उच्च स्तरीय आभासी जलवायु महत्वाकांक्षा शिखर सम्मेलन 70 से अधिक राष्ट्राध्यक्षों को साथ लाती है, जिसे चिली और इटली की साझेदारी में संयुक्त राष्ट्र, यूनाइटेड किंगडम और फ्रांस द्वारा सह-मेजबानी किया जा रहा है।

12 December 2020, 17:04