खोज

Vatican News
लेबनान में भारी विस्फोट के बाद का दृश्य लेबनान में भारी विस्फोट के बाद का दृश्य  (AFP or licensors)

संत पापा ने लेबनान के प्रति एकात्मता का आह्वान किया

देवदूत प्रार्थना के उपरांत संत पापा ने लेबनान की पुनः याद की तथा उसके लिए प्रार्थना का आह्वान किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार, 10 अगस्त 2020 (रेई)- संत पापा ने कहा, "इन दिनों मैं लेबनान की बहुत याद कर रहा हूँ। विगत मंगलवार की घटना पर, मैं लेबनान के लोगों से शुरू करते हुए सभी लोगों का आह्वान कर रहा है कि इस प्यारे देश की सार्वजनिक भलाई के लिए सहयोग करें। विभिन्न संस्कृतियों के मिश्रण के कारण लेबनान की एक खास पहचान है जो समय के साथ, मिलजुल कर जीने का आदर्श बन गयी है, पर निश्चय ही, यह सहअस्तित्व इस समय बहुत कमजोर हो गया है। हम इसे जानते हैं किन्तु प्रार्थना करते हैं कि ईश्वर की सहायता एवं सभी की उदार सहभागिता से यह मुक्त एवं शक्तिशाली बनकर उभरेगा।"

लेबनान की कलीसिया का आह्वान

संत पापा ने लेबनान की कलीसिया का आह्वान करते हुए कहा, "मैं आप को निमंत्रण देता हूँ कि आप लोगों के दुःखों में उनके साथ रहें जैसा कि वे इन दिनों एकात्मता एवं सहानुभूति प्रकट कर रहे हैं, लोगों की मदद में अपना हृदय और हाथ खोल रहे हैं।"

संत पापा ने विश्व समुदाय से अपनी अपील दोहरायी कि वह उदारता पूर्वक उनकी मदद करे। उन्होंने लेबनान के धर्माध्यक्षों, पुरोहितों और धर्मसमाजियों से भी आग्रह किया कि वे लोगों के करीब रहें तथा सुख-सुविधा त्याग कर, सुसमाचारी गरीबी की जीवन शैली अपनायें। उन्होंने कहा, क्योंकि आपके लोग पीड़ित हैं वे बहुत अधिक दुःख सह रहे हैं।  

तत्पश्चात् उन्होंने रोम तथा विश्व के विभिन्न देशों से एकत्रित तीर्थयात्रियों का अभिवादन किया। उन्होंने कहा, "यहां कई झंडे दिखाई पड़ रहे हैं, मैं परिवारों, पल्ली दलों और संगठनों का अभिवादन करता हूँ, खासकर, मैं क्रेमा धर्मप्रांत के पियानेंगो के युवाओं का अभिवादन करता हूँ जो भितेरबो के रास्ते से पैदल चलते हुए रोम पहुँचे हैं।" संत पापा ने उन्हें बधाई और शुभकामनाएँ दीं।

इसके बाद संत पापा ने पौलैंड टूर के प्रतिभागियों का अभिवादन किया जो संत जॉन पौल द्वितीय के जन्म के एक सौ साल की यादगारी में अंतरराष्ट्रीय साईकिल रेस में भाग ले रहे हैं।

अंत में, उन्होंने प्रार्थना का आग्रह करते हुए सभी को शुभ रविवार की मंगल कामनाएँ अर्पित की।     

10 August 2020, 15:00