खोज

Vatican News
संत पापा फ्राँसिस सामाजिक विज्ञान पोंटिफिकल अकादमी के सदस्यों के साथ संत पापा फ्राँसिस सामाजिक विज्ञान पोंटिफिकल अकादमी के सदस्यों के साथ  (ANSA)

सामाजिक विज्ञान पोंटिफिकल अकादमी के नए सदस्यों की नियुक्ति

संत पापा फ्राँसिस ने सामाजिक विज्ञान पोंटिफिकल अकादमी के लिए तीन नए सदस्यों के नामित किया है, जो चिली, इटली और नाइजीरिया से आते हैं।

वाटिकन सिटी, शनिवार 11 जुलाई 2020 (वाटिकन न्यूज) : संत पापा फ्राँसिस ने शुक्रवार को सामाजिक विज्ञान पोंटिफिकल अकादमी के सदस्य के रूप में चिली के पेड्रो मोरंडे कोर्ट, इटली के मारियो द्राघी और नाइजीरिया के कोकुन्रे एडिटोकुनबो एगबॉन्टेन एगहाफोना को नियुक्त किया।

 सामाजिक विज्ञान पोंटिफिकल अकादमी की स्थापना मुख्य रूप से अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, कानून और राजनीति विज्ञान के अध्ययन और प्रगति को बढ़ावा देने के उद्देश्य से 1 जनवरी 1994 को संत पापा जॉन पॉल द्वितीय द्वारा की गई थी। अकादमी उन तत्वों की पेशकश करने में कलीसिया की मदद करती है जिसे वह अपने सामाजिक सिद्धांत के विकास में उपयोग करती है और समकालीन समाज में उस सिद्धांत के व्यवहारिक प्रयोग को दर्शाती है।

पेड्रो मोरंडे कोर्ट

प्रोफेसर पेड्रो मोरंडे कोर्ट का जन्म 3 अगस्त 1948 को चिली के संत्यागो देल सीले में हुआ था। उनके पास चिली की पोंटिफ़िकल काथलिक यूनिवर्सिटी (यूसी) से समाजशास्त्र में डिग्री है, और फ्रिसरिच-अलेक्जेंडर यूनिवर्सिटी एर्लांगेन-नुरेम्बर्ग (जर्मनी) से समाज शास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि है। ।

उन्होंने यूसी में समाजशास्त्र विभाग के पूर्ण प्रोफेसर (1987-1990) और बाद में प्रो-रेक्टर (1990-1995) और सामाजिक विज्ञान संकाय (1995-2014) के डीन के रूप में कार्य किया। वर्तमान में वे सेवानिवृत प्रोफेसर हैं। प्रोफेसर मोरंडे कोर्ट ने लैटिन अमेरिकी लोगों और उनके सामाजिक इतिहास के बारे में विशेष रूप से संस्कृति और धर्म और समाजशास्त्र में विशेषज्ञता प्राप्त की। उन्होंने लैटिन अमेरिका के पारिवारिक और सांस्कृतिक पहचान पर कई लेख प्रकाशित किए हैं।

मारियो द्राघी

प्रोफेसर मारियो द्राघी का जन्म 13 सितंबर 1947 को रोम में हुआ था। उन्होंने रोम के सपिएन्जा विश्वविद्यालय से आर्थिक नीति में डिग्री प्राप्त की और मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) में अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। 1981 में वे फ्लोरेंस विश्वविद्यालय के "चेसरे अल्फेरी" संकाय में अर्थशास्त्र और मौद्रिक नीति के प्रोफेसर बने।

वे विश्व बैंक के कार्यकारी निदेशक थे वे 2005-2011 तक बैंक ऑफ इटली के गवर्नर थे और बाद में इतालवी सरकार के वित्त मंत्रालय के महानिदेशक थे और 2006-2011 तक वित्तीय स्थिरता बोर्ड के अध्यक्ष थे।

2011 से 2019 तक वे यूरोपीय सेंट्रल बैंक के अध्यक्ष बने रहे। वे इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस्ड स्टडी (आईएएस) के निदेशक मंडल और तीस के समूह (जी 30) के सदस्य हैं। प्राध्यापक द्राधीने कई लेखो का प्रकाशन किया है, जिसमें व्यापक अर्थव्यवस्था से लेकर अंतर्राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था और मौद्रिक नीति तक के विषयों पर अपना योगदान दिया है।

कोकुनेरे एडिटोकुंडो एगबॉन्टेन एगहाफोना

प्रोफेसर कोकुनेरे अदेतोकोनो एबबॉन्टेन एगहाफोना का जन्म 1 अक्टूबर 1959 को लंदन में हुआ था। उन्होंने बेनिन शहर में बेनिन विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री और बाद में इतिहास में स्नात्कोत्तर की पढ़ाई की। उन्होंने इबादान विश्वविद्यालय (नाइजीरिया) से पुरातत्व और नृविज्ञान में स्नात्कोत्तर की डिग्री हासिल की।

बेनिन विश्वविद्यालय में, वे 1992 से 2008 तक समाजशास्त्र और नृविज्ञान विभाग में व्याख्याता थी। वे समाजशास्त्र विभाग के प्रमुख (2009-2013) और अंशकालिक कार्यक्रमों के निदेशक (2016) सहित कई प्रशासनिक पदों पर भी रह चुकी हैं।

वे संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास समाधान नेटवर्क (2012-2017) के भीतर सतत विकास के लिए जिम्मेदार रही है। प्रोफेसर एजबॉन्टन एगहाफोना कई अकादमिक प्रकाशनों के लेखक हैं। उनकी वर्तमान वैज्ञानिक गतिविधियों में नाइजीरिया में मानव तस्करी से निपटने के उपाय शामिल हैं।

11 July 2020, 14:32