खोज

Vatican News
संदेश देते हुए संत पापा फ्राँसिस संदेश देते हुए संत पापा फ्राँसिस  (ANSA)

वैश्विक युद्ध विराम को प्रभावी ढंग से तुरंत लागू करें, संत पापा

संत पापा फ्राँसिस की उम्मीद है कि कोविद-19 महामारी के प्रभाव से जूझ रहे लोगों के लिए सहायता प्रदान करने हेतु संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के वैश्विक युद्धविराम के एक नए प्रस्ताव को "प्रभावी और शीघ्रता से" लागू किया जाएगा।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 06 जुलाई 2020 (वाटिकन न्यूज) : संत पापा फ्राँसिस ने कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर एक बार फिर वैश्विक संघर्ष विराम की अपील के लिए अपना समर्थन दिया है।

उन्होंने रविवार को संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्रांगण में वहाँ उपस्थित विश्वासियों के साथ देवदूत प्रार्थना का पाठ करने के बाद टिप्पणी में कहा, "वैश्विक और तत्काल युद्ध विराम के लिए आह्वान सराहनीय है, मानवीय सहायता प्रदान करने के लिए शांति और सुरक्षा आवश्यक होगा।"

सर्वसम्मति से युद्ध विराम प्रस्ताव

 1 जुलाई को, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित किया जिसमें मांग की गई थी कि "सभी स्थितियों में शत्रुता और संघर्ष का तत्काल समापन हो।" संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने एक "टिकाऊ मानवीय चरण" के तहत सशस्त्र संघर्षों के सभी गुटों से युद्ध विराम करने को कहा, ताकि देशों को कोविद–19 महामारी से लड़ने में मदद मिल सके।

प्रस्ताव में, परिषद ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेस के समर्थन में भी आवाज उठाई, जिन्होंने पहली बार 23 मार्च को वैश्विक युद्ध विराम का प्रस्ताव रखा था। संत पापा फ्राँसिस सहित दुनिया के अन्य नेताओं द्वारा युद्ध विराम की अपील जा रही है। संत पापा फ्राँसिस ने 29 मार्च को देवदूत प्रार्थना के उपरांत सभी को "सभी प्रकार की शत्रुता को रोकते हुए, मानवीय सहायता के लिए गलियारों के निर्माण को प्रोत्साहित करने, कूटनीति के लिए खुलापन और कमजोर लोगों की मदद हेतु आमंत्रित किया था।”

 एक साहसिक कदम

संत पापा ने कोविद महामारी के बीच वैश्विक संघर्ष विराम की अपील की। सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव के जवाब में,संत पापा फ्राँसिस ने रविवार को कहा, "एक वैश्विक और तत्काल संघर्ष विराम के लिए आह्वान सराहनीय है, जो मानवीय सहायता प्रदान करने के लिए शांति और सुरक्षा आवश्यक होगा।"

उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि "यह निर्णय दुनिया भर में पीड़ित कई लोगों के लिए प्रभावी रूप से और तुरंत लागू किया जाएगा।"

संत पापा फ्राँसिस ने प्रार्थना की कि सुरक्षा परिषद का प्रस्ताव "एक शांतिपूर्ण भविष्य की दिशा में एक साहसिक पहला कदम बने।"

06 July 2020, 13:31