Vatican News
आशीष हेतु बालक येसु की प्रतिमाओं को ऊपर उठाते विश्वासी आशीष हेतु बालक येसु की प्रतिमाओं को ऊपर उठाते विश्वासी  (AFP or licensors)

संत पापा फ्राँसिस ने बालक येसु की प्रतिमाओं को आशीष दी

देवदूत प्रार्थना के उपरांत संत पापा फ्राँसिस ने देश-विदेश से एकत्रित सभी तीर्थयात्रियों एवं पर्यटकों का अभिवादन किया तथा बालक येसु की प्रतिमाओं पर आशीष प्रदान की।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

उन्होंने कहा, "मैं आप सभी परिवारों, पल्ली दलों एवं संगठनों का अभिवादन करता हूँ जो रोम, इटली एवं विश्व के विभिन्न हिस्सों से आयें हैं।" उन्होंने कोरिया, भलेंसिया और रोत्सो के तीर्थयात्रियों का विशेष रूप से अभिवादन किया।

बालक येसु की प्रतिमा पर आशीष

बालक येसु की प्रतिमाओं पर आशीष देते हुए संत पापा ने कहा, "आप सभी युवाओं का अभिवादन करता हूँ जो अपनी चरनी के लिए बालक येसु की प्रतिमा के साथ आये हैं। अपनी प्रतिमाओं को ऊपर उठायें। मैं उन्हें हृदय से आशीष प्रदान करता हूँ। चरनी एक जीवित सुसमाचार है। जब हम ख्रीस्त जयन्ती के दृश्य पर चिंतन करेंगे तब हम आध्यात्मिक यात्रा करेंगे, येसु ईश्वर की विनम्रता पर चिंतन करेंगे जो हम प्रत्येक से मुलाकात करने हेतु मानव बन गये और हम यह महसूस करेंगे कि वे हमें इतना प्यार करते हैं जिसके कारण वे हमारे पास आते हैं ताकि हम उनके साथ एक हो सकें।

अंतरराष्ट्रीय यूखरिस्तीय कॉन्ग्रेस

संत पापा फ्राँसिस ने आगामी अंतरराष्ट्रीय यूखरिस्तीय कॉन्ग्रेस की घोषणा की जिसका आयोजन बुढापेस्ट में, 13 से 20 सितम्बर 2020 को किया जाएगा। यूखरिस्तीय कॉन्ग्रेस हमें एक शताब्दी से भी अधिक समय से याद दिला रही है कि यूखरिस्त ही कलीसिया के जीवन का केंद्रविन्दु है। संत पापा ने प्रार्थना करने का आह्वान किया ताकि बुढ़ापेस्ट में आयोजित यह अवसर ख्रीस्तीय समुदाय को नवीनीकरण के रास्ते में आगे बढ़ने में मदद दे।

अंत में, संत पापा ने प्रार्थना का आग्रह करते हुए, सभी को शुभ रविवार एवं ख्रीस्त जयन्ती हेतु नोवेना प्रार्थना की मंगलकामनाएँ अर्पित की।    

         

16 December 2019, 14:51