खोज

Vatican News
उक्रेन के तीर्थयात्रियों को संदेश देते हुए संत पापा फ्राँसिस उक्रेन के तीर्थयात्रियों को संदेश देते हुए संत पापा फ्राँसिस  (ANSA)

मुकायेवो धर्मप्रांत के तीर्थयात्रियों से संत पापा मुलाकात

संत पापा ने उक्रेन में ‘भूमिगत’ बैजांटीन रीति के मुकायेवो धर्मप्रांत के बाहर प्रकट होने की 30 वीं वर्षगांठ पर रोम आये 1000 तीर्थयात्रियों से मुलाकात की और मसीह, काथलिक कलीसिया और रोम के धर्माध्यक्ष के प्रति अपनी निष्ठा बनाये रखने के लिए उनके पूर्वजों और उनके के प्रति आभार प्रकट किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 11 दिसम्बर 2019 (रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने बुधवारीय आमदर्शन समारोह के पहले संत पेत्रुस महागिरजाघर में उक्रेन में ‘भूमिगत’ बैजांटीन रीति के मुकायेवो धर्मप्रांत के बाहर प्रकट होने की 30 वीं वर्षगांठ पर रोम आये धर्माध्यक्ष, पुरोहितों, धर्मबहनों और लोकधर्मी तीर्थयात्रियों से मुलाकात की।

संत पापा ने कहा, “मुझे संत पेत्रुस के मकबरे में आपका स्वागत करते हुए प्रसन्नता हो रही है, और मैं आपके साथ-साथ शास्वत पिता ईश्वर का शुक्रिया अदा करना चाहता हूँ, जिन्होंने अपने शक्तिशाली हाथ से आपकी कलीसिया को सोवियत शासन के लंबे जुल्म से मुक्त किया।”

इतिहास का सबसे काला पल

मुकायेवो की कलीसिया कई शहीदों की मां है, जिन्होंने अपने रक्त से मसीह, काथलिक कलीसिया और रोम के धर्माध्यक्ष के प्रति अपनी निष्ठा की पुष्टि की।

संत पापा ने विशेष रूप से धन्य शहीद धर्माध्यक्ष तियोदोर रोमाना का स्मरण किया जिन्होंने इतिहास के सबसे अंधेरे क्षणों में ईश्वर के लोगों का सुसमाचार के आधार पर साहस के साथ मार्गदर्शन किया। उन्होंने भले चरवाहे मसीह का अनुसरण करते हुए अपनी भेड़ों के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया और शहीद हो गये।

संत पापा ने उनके पूर्वजों, दादा-दादी, पिता-माता को भी याद किया, जो अपने घरों की अंतरंगता में और अक्सर शत्रुतापूर्ण शासन की निगरानी में, अपनी स्वतंत्रता और जीवन को खतरे में डालकर, मसीह में अटल विश्वास को जीया और मसीह की शिक्षा अपने बच्चों को दी।

मसीह के साथ व्यक्तिगत मुलाकात

संत पापा ने उपस्थित प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा, “आप सभी अपने पूर्वजों के जीवित विश्वास और काथलिक कलीसिया के विश्वास के शानदार गवाह हैं।” संत पापा ने येसु मसीह के प्रति उनकी निष्ठा के लिए धन्यवाद देते हुए उन्हें व्यक्तिगत रुप से मसीह के साथ मुलाकात को नवीनीकृत करने हेतु आमंत्रित किया। “ऐसा कोई कारण नहीं है कि कोई भी यह सोच सकता है कि यह निमंत्रण उसके लिए नहीं है, क्योंकि कोई भी प्रभु द्वारा लाए गए आनंद से बाहर नहीं है।”  (एवांजली गौदियुम 3)

अंत में संत पापा ने मुकायेवो धर्मप्रांत के सभी लोगों को हर प्रकार की कठिनाईयों और खतरों से दूर रखने हेतु माता मरियम को चरणों में सुपुर्द किया तथा आने वाले ख्रीस्त जयंती की शुभकामनायें दी। संत पापा ने विशेष रूप से बच्चों और बीमार और पीड़ित लोगों को सौहार्दपूर्ण शुभकामनाएं दीं।

11 December 2019, 16:04