Vatican News
सन्त पापा फ्राँसिस मॉरिशियुस में 09.09.2019 सन्त पापा फ्राँसिस मॉरिशियुस में 09.09.2019  (ANSA)

सन्त पापा फ्राँसिस मोरिशस में

दक्षिण अफ्रीका के तीन राष्ट्रों की छः दिवसीय प्रेरितिक यात्रा के अन्तिम चरण में सन्त पापा फ्राँसिस सोमवार, 9 सितम्बर को मडागास्कार के अन्तानानारिवो से मोरिशस द्वीप की राजधानी पोर्ट लूईस पधारे।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर- वाटिकन सिटीपोर्ट लूईस, सोमवार, 9 सितम्बर 2019 (रेई, वाटिकन रेडियो): दक्षिण अफ्रीका के तीन राष्ट्रों की छः दिवसीय प्रेरितिक यात्रा के अन्तिम चरण में सन्त पापा फ्राँसिस सोमवार, 9 सितम्बर को मडागास्कार के अन्तानानारिवो से मोरिशस द्वीप की राजधानी पोर्ट लूईस पधारे।

हवाई अड्डे पर विमान से उतरते सन्त पापा फ्राँसिस का प्रधान मंत्री प्रविन्द कुमार जुगनौथ, उनकी धर्मपत्नी तथा तीन धर्माध्यक्षों ने स्वागत किया। स्वागत समारोह में 270 आमंत्रित लोग उपस्थित थे। मोरिशस के पारम्परिक परिधानों को धारण किये दो बच्चों ने गुलदस्ते अर्पित किये, वाटिकन एवं मोरिशस के राष्ट्रीय गीतों की धुनें बजाई गई तथा तोपों की सलामी देकर राष्ट्र में पधारे खास मेहमान का भावपूर्ण स्वागत किया गया।  

मोरिशस द्वीप

मोरिशस द्वीप संस्कृतियों, भाषाओं और धार्मिक अस्मिता का मिलन केन्द्र है। देश की 10 लाख 36.000 की कुल आबादी में 28 प्रतिशत लोग काथलिक धर्मानुयायी हैं। काथलिक कलीसिया प्रेरितिक सहायता के साथ-साथ शिक्षा एवं स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में, बहुविध रीति से, लोगों की सेवा में संलग्न है। हाल में प्रकाशित आँकड़ों के अनुसार, देश की आठ प्रतिशत आबादी ग़रीबी की रेखा के नीचे जीवन यापन करती है।

दक्षिणी अफ्रीका के तट से कुछ ही दूर मोरिशस हिंद महासागर स्थित एक रमणीय  द्वीप राष्ट्र है जो लंबे समय से अपने खूबसूरत समुद्री तटों के लिए प्रसिद्ध है तथा विश्व भर के पर्यटकों का एक शीर्ष गंतव्य रहा है।

आधुनिकीकरण और पर्यावरण

पुर्तगाली, फ्राँसिसी एवं ब्रिटिश उपनिवेशकाल ने राष्ट्र के समसामयिक समाज पर कई चिन्ह छोड़े हैं जो इसकी विविध संस्कृतियों के जटिल मिश्रण में देखा जा सकता है। राष्ट्र का संविधान धर्मपालन की स्वतंत्रता की गारंटी देता है। सन् 1968 में मोरिशस ने स्वतंत्रता हासिल की थी।

वर्तमान सरकार की नीतियां मुख्य रूप से बुनियादी ढांचे के आधुनिकीकरण और अफ्रीकी महाद्वीप में निवेश हेतु अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन देने पर केंद्रित हैं। पर्यावरणीय मुद्दा चिंता के कारणों में प्रमुख है, जहाँ जल प्रदूषण, भूस्खलन एवं वन्यजीवों पर संकट का ख़तरा मंडरा रहा है।

पोर्ट लूईस हवाई अड्डे पर स्वागत समारोह के बाद सन्त पापा फ्रांसिस शहर के शांति की रानी मरियम को समर्पित तीर्थस्थल गये जहाँ उन्होंने मोरिशस के काथलिक विश्वासियों के लिये ख्रीस्तयाग अर्पित किया।  

09 September 2019, 11:24